News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

यूपी में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए प्रियंका गांधी ने बनाए ये तीन फॉर्मूले 

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बुरी तरह से मुंह की खाने के बाद कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से सूबे में अपने को मजबूत करने की रणनीति बना रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 01 May 2022, 07:32:19 PM
priynaka

Priyanka Gandhi (Photo Credit: File Photo)

नई दिल्ली:  

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बुरी तरह से मुंह की खाने के बाद कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से सूबे में अपने को मजबूत करने की रणनीति बना रही है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने प्रदेश पदाधिकारियों के संग गंभीरता से विचार कर कुल तीन विकल्प चुने हैं और कांग्रेस को पुर्नजीवित करने के लिए इन तीनों विकल्पों को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास विचारार्थ भेजा. अब इंतजार है कांग्रेस अध्यक्ष की सहमति का.

पिछले दो चुनावों से प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश कांग्रेस को पुनर्जीवित करने का प्रयास कर रही हैं. चाहे 2019 के लोकसभा चुनाव की बात करें और चाहे 2022 के विधानसभा चुनाव की बात करें दोनों ही चुनाव में प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश में मुंह की खानी पड़ी, लेकिन प्रियंका गांधी उसके बाद भी यूपी में कांग्रेस के लिए संघर्ष कर रही हैं. हालांकि उनका यह संघर्ष दिल्ली में बैठकर वातानुकूलित कमरे में चल रहा है और यहां कांग्रेस वीरान पड़ी है एवं इसी से निपटने के लिए प्रियंका गांधी ने तीन फार्मूले बनाए, वह तीनों फार्मूले क्या है आपको एक-एक करके समझाते हैं.

प्रदेश इकाई की गतिविधियां ठप हैं. सूत्रों के अनुसार, यूपी में एक बार फिर से कांग्रेस का जलवा कायम हो इसके लिए पहला विकल्प पार्टी के किसी वरिष्ठ नेता की अगुवाई में नई उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का गठन करे. दूसरा- प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के साथ चार या पांच कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाएं. तीसरा विकल्प- पश्चिमी यूपी, बुंदेलखंड, अवध क्षेत्र और पूर्वी यूपी चार स्वतंत्र क्षेत्र में बांटते हुए अलग-अलग कमेटियां घोषित की जाएं.

बात जब कांग्रेस की हो तो बीजेपी के नेताओं के चेहरे पर नाहक ही हंसी आ जाती और यही वजह है कि बीजेपी के नेता भी इसका जवाब मुस्कुराते हुए देते हैं. बीजेपी का मानना है कि उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी टूरिज्म पॉलिटिक्स पराई पार्टी को अभी तक ना ही कोई राष्ट्रीय अध्यक्ष मिला है और ना ही कोई प्रदेश अध्यक्ष मिला है. ऐसे में प्रियंका गांधी अपने वातानुकूलित कमरे में बैठकर कांग्रेस के लिए जो भी सपना देखना चाहे वह देख सकती हैं उन्हें अधिकार है.

प्रियंका गांधी का यह फार्मूला कितना काम करेगा, कांग्रेस को पुनर्जीवित करने में यह कह पाना तो अब बहुत मुश्किल है, लेकिन एक बात जरूर है कि अगर पार्टी पुराने नेताओं को फिर से संगठित कर लेगी तो कांग्रेस की चर्चा एक बार फिर शुरू हो जाएगी और उसे राजनीति में उत्तर प्रदेश में गंभीरता से लिया जाने लगेगा.

First Published : 01 May 2022, 07:32:19 PM

For all the Latest Opinion News, Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.