News Nation Logo
भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 108 करोड़ डोज़ उपलब्ध कराई गईं: स्वास्थ्य मंत्रालय कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

पंडित दीनदयाल उपाध्याय

आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मतिथि है।उनके जन्मदिवस पर हम आपको उनके जीवन दर्शन का प्रयास कराते है। दीनदयाल उपाध्याय जी का जन्म 25 सितंबर 1916 को जयपुर के पास एक छोटे से गाँव धानक्या में हुआ था

Abhishek Malviya | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 24 Sep 2021, 11:33:55 PM
Pandit Deendayal Upadhyay

Pandit Deendayal Upadhyay (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मतिथि है।उनके जन्मदिवस पर हम आपको उनके जीवन दर्शन का प्रयास कराते है। दीनदयाल उपाध्याय जी का जन्म 25 सितंबर 1916 को जयपुर के पास एक छोटे से गाँव धानक्या में हुआ था। पंडित जी ने अपने शुरुवाती जीवन याने बाल्य अवस्था में ही बहुत से दुःखो का सामना करना पड़ा था ।उनके पिता भगवती प्रसाद उपाध्याय जो कि जलेसर रोड स्टेशन के सहायक सटेशन मास्टर थे। नौकरी के कारण वे ज्यादातर बाहर ही रहते थे,लेकिन जब दीनदयाल उपाध्याय जी मात्र तीन वर्ष के थे तब ही उनके पिताजी का देहांत हो गया।इतनी छोटी उम्र में ही सर से पिता का साया उठ जाना जीवन को अत्यधिक कठिन बना देता है, पति की मृत्यु से माँ रामप्यारी का जीवन अंधकारमय हो गया,वे अत्याधिक बीमार रहने लगी।उन्हें क्षय रोग लग गया। 8 अगस्त 1924 को उनका भी स्वर्गवास हो गया।मात्र 7 वर्ष की उम्र में ही माता पिता का अपने सर से साया उठ जाना कितना कष्टदायक होगा। 1926 में उनके नाना चुन्नीलाल जी का भी देहावसान हो गया, 1931 में उनका लालन पालन करने वाली मामी का भी निधन हो गया। परिवार में मृत्यु का सिलसिला यही नही रुका 18 नवंबर 1934 को उनके छोटे भाई शिवदयाल भी उनका साथ छोड़ गए। 19 वर्ष की अवस्था तक उपाध्याय जी ने अपने प्रियजनों को बिछुड़ते देखा।

8वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद दीनदयाल जी ने कल्याण हाईस्कूल,सीकर,राजस्थान से दसवीं की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया।1937 में पिलानी से इंटरमीडिएट की परीक्षा में पुनः बोर्ड में प्रथम स्थान प्राप्त किया। 1937 में जब वह कानपुर से बी.ए. कर रहे थे,अपने मित्र बालू जी महाशब्दे की प्रेरणा से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जुड़े। दीनदयाल जी को संघ के संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार सानिध्य भी प्राप्त हुआ। पढ़ाई पूर्ण होने के बाद दीनदयाल जी ने दो वर्षों का संघ में प्रशिक्षण प्राप्त किया और जीवन जीवनभर के लिए संघ के प्रचारक बन गए। संघ के माध्यम से ही वे राजनीति में आए। 21 अक्टूबर 1951 में डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी की अध्यक्षता में भारतीय जनसंघ की स्थापना हुई।1952 में प्रथम अधिवेशन कानपुर में हुआ, उपाध्याय जी इस दल के महामंत्री बने। अधिवेशन में 15 प्रस्ताव पारित हुए जिसमे 7 उपाध्याय जी ने प्रस्तुत किए।

डॉ मुखर्जी ने उनकी कार्यकुशलता और कर्मठता से प्रवाभित होकर कहा था यदि मुझे दो दीनदयाल मिल जाए, तो मैं भारतीय राजनीति का नक्शा बदल दूं। 10/11 फरवरी 1968 की रात्रि में मुगलसराय स्टेशन पर उनकी हत्या कर दी गई। मुग़लसराय जंक्शन के यार्ड के खंबा नंबर 1276 के पास उनका शव मिला था।समूचे राष्ट्र में शोक की लहर दौड़ गई। 4 जून 2018 को केंद्र सरकार ने मुग़लसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन रख दिया। कांदला बंदरगाह के नाम को भी दीनदयाल उपाध्याय बंदरगाह कर दिया गया।

First Published : 24 Sep 2021, 11:25:57 PM

For all the Latest Opinion News, Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो