News Nation Logo
शरद पवार के साथ मुलाकात के बाद ममता ने UPA केअस्तित्व पर उठाया सवाल ममता बनर्जी आज शाहरुख़ खान से कर सकती हैं मुलाकात 'सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) विधेयक, 2020' लोकसभा में पारित राजस्थान में कोरोना ने पकड़ी स्पीड, 17 जिलों में 365 नए मरीज 75 चित्रकार यहां 3 दिन तक महाभारत से जुड़ी पेंटिंग बनाएंगे: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (कुरुक्षेत्र) पर देश, विदेश के 3,700 कलाकार यहां आएंगे: मनोहर लाल खट्टर देश को एक मज़बूत वैकल्पिक फोर्स की जरूरत है: ममता बनर्जी मैं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे और शरद पवार से मुलाक़ात करने के लिए आईं थीं: ममता बनर्जी कोविड के दोनों डोज लगे हैं, तो बिना RT-PCR के महाराष्ट्र में यात्रा करने की अनुमति अक्टूबर 2020 से अक्टूबर 2021 तक 32 जवान शहीद, गृह मंत्रालय ने संसद में दी जानकारी जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां कम हुईं दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

अक्टूबर में क्यों आई बरसाती आफत ?

अक्टूबर में आफत काल है । देवभूमि से सैलाब के कहर की खौफनाक तस्वीर सामने आ रही है । ज़मींदोज आशियाने,सड़क पर पानी का बसेरा । उत्तर से दक्षिण तक पानी ही पानी

Satya Narayan | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 24 Nov 2021, 10:48:54 PM
Heavy Rain

Heavy Rain (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अक्टूबर में आफत काल है । देवभूमि से सैलाब के कहर की खौफनाक तस्वीर सामने आ रही है । ज़मींदोज आशियाने,सड़क पर पानी का बसेरा । उत्तर से दक्षिण तक पानी ही पानी । आखिर अक्टूबर में क्यों बिगड़ा है मौसम का मिजाज़ ? अक्टूबर में इतनी बारिश क्यों हो रही है । त्योहारों के महीने में केरल से लेकर उत्तराखंड में बारिश से बर्बादी क्यों हो रही है । बारिश की वजह से देवभूमि की हालत खस्ता रही है । उफनती नदियां,टूटते पुल । इंसान और बेजुबान सब परेशान । अक्टूबर की बरसात से उत्तराखंड के मशहूर टूरिस्ट स्पॉट नैनीताल बेड़ागर्क कर दिया । जगह जगह से रेस्क्यू की तस्वीरें सामने आई । सेना के जवानों अपनी जान की बाजी लगाकर लोगों को मुसीबतों से निकाला । उत्तराखंड से लेकर केरल तक तबाही का मंजर नजर आया । बारिश की वजह से उत्तराखंड के नानक सागर डैम के सारे गेट खोल दिए गए । एशिया के सबसे बड़े आर्क बांध केरल के इडुक्की के गेट भी खोले गए ।  । अक्टूबर महीने में बारिश ने 61 साल पुराना रिकॉर्ड टूटा है ।अब तक अक्टूबर में 94.6MM बारिश हुई है । 1960 में अक्टूबर में 93.4MM बारिश हुई थी । आखिर अक्टूबर में इतनी बारिश क्यों हो रही है । उत्तराखंड से लेकर केरल तक तबाही क्यों दिख रही है । जानकार इसकी वजह मॉनसून विड्रॉल यानि मॉनसून के वापस लौटने में देरी को बता रहे हैं । जानकारों के मुताबिक मॉनसून विड्रॉल आम तौर से 17 सितंबर से शुरु होता है और 15 अक्तूबर तक पूरी तरह वापस चला जाता है । इस साल मॉनसून के लौटने की शुरुआत 6 अक्टूबर से हुई है । सामान्य से 20 दिन देरी से मॉनसून वापस जा हो रहा है । बताया जा रहा है कि नवंबर तक पूरी तरह लौटेगा मॉनसून  । इस साल मौसम को लेकर अक्टूबर के महीने में जो हो रहा है वो अभूतपूर्व है । उत्तर में उत्तराखंड से लेकर दक्षिण में केरल तक बड़ी तबाही हुई है । बारिश की एक और बड़ी वजह बताई जा रही है । वो है कम दबाव का क्षेत्र । विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले हफ्ते अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना । दोनों के एक साथ मिलने की वजह से भारी बारिश हो रही है ।अक्टूबर में अलर्ट..उत्तर से लेकर दक्षिण तक जान माल का बहुत नुकसान हुआ है । हर साल हिन्दुस्तान में बाढ़-बारिश से बहुत बर्बादी होती है । एक आंकड़े के मुताबिक देश में 1953 से लेकर 2018 के दौरान बाढ़ और भारी बारिश के कारण एक लाख नौ हजार 374 लोगों की जान गई । मौत के साथ सैलाब सबसे ज्यादा आर्थिक नुकसान भी पहुंचाता है । एक अनुमान के अनुसार बाढ़ से पिछले 65 सालों के दौरान देश को लगभग 4,00,097 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ । कुछ और आंकड़ों पर गौर करें तो देश का लगभग 4 करोड़ हेक्टेयर क्षेत्रफल बाढ़ प्रभावित है ।2018-2019 में 2400 लोगों की मौत हुई । 2018 में बाढ़ से 1557908 घरों को नुकसान हुआ । 2019-20 की बात की जाए तो 2422 लोगों की मौत सैलाब की वजह से हुई । 2020-21 में अब तक 1989 लोगों की मौत हो चुकी है । देश में कुदरत के कहर के ये आंकड़े डराते हैं । कुछ विशेषज्ञ मॉनसून के वापस लौटने में देरी की वजह जलवायु परिवर्तन को बताते हैं । जानकारों के मुताबिक आर्कटिक में तेजी से बर्फ पिघलने का असर हिन्दुस्तान में भी हो रहा है ।

First Published : 20 Oct 2021, 10:19:19 PM

For all the Latest Opinion News, Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Rain Heavy Rain

वीडियो