News Nation Logo
29 अक्टूबर से पीएम मोदी का इटली दौरा जेल में डालने वाला आज जेल में जाने से डरने लगा: नवाब मलिक जो फर्जीवाड़ा किया गया है, वो खुल खुलकर सामने आने लगा है: नवाब मलिक पंजाब में AAP की सरकार बनी, तो प्रदेश में किसी किसान को नहीं करने देंगे खुदकुशी: अरविंद केजरीवाल शाहरुख खान की 'मन्नत' पूरी, आर्यन को बेल; अब मन्नत में मनेगी दीपावली आर्यन खान समेत तीनों आरोपियों के विदेश जाने पर रोक भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 108 करोड़ डोज़ उपलब्ध कराई गईं: स्वास्थ्य मंत्रालय कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

कश्मीरियत को खत्म करने का खतरनाक मंसूबा!

क्या आतंकियों का मंसूबा कश्मीर में कश्मीरियत को खत्म करने का है। वो कश्मीरियत, जो पूरी कश्मीर घाटी के जर्रे जर्रे में बसा है। क्योंकि टारगेट किलिंग के जरिए आतंकी उन्हीं कश्मीरियों को टारगेट कर रहे हैं, जिन्होंने कश्मीर को बनाने और संवारने में अपनी पू

Anil Yadav | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 11 Oct 2021, 10:40:12 PM
Kashmiriyat

Kashmiriyat (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

क्या आतंकियों का मंसूबा कश्मीर में कश्मीरियत को खत्म करने का है। वो कश्मीरियत, जो पूरी कश्मीर घाटी के जर्रे जर्रे में बसा है। क्योंकि टारगेट किलिंग के जरिए आतंकी उन्हीं कश्मीरियों को टारगेट कर रहे हैं, जिन्होंने कश्मीर को बनाने और संवारने में अपनी पूरी जिंदगी बिता दी। आतंकी उन कश्मीरी पंडितों और सिखों की टारगेट किलिंग कर रहे हैं, जिनकी पहचान कश्मीर से है और कश्मीर की पहचान इन कश्मीरी पंडितों से। या फिर आतंकी न्यू कश्मीर की उस तस्वीर से बौखला उठे हैं, जहां उन्हें 29 साल बाद श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराता दिखाई दे रहा है। या फिर आतंकियों की ये बौखलाहट श्रीनगर की सड़कों से गुजरती जन्माष्टमी की झांकी और इस झांकी में जय श्री कृष्ण की गूंज से हो रही है। या फिर आतंकियों को नए कश्मीर की ये नई तस्वीर पसंद नहीं आ रही, जिसमें कश्मीरी युवा फैशन शो के रैंप पर अपनी संस्कृति का रंग बिखेर रहे हैं। या फिर आतंकी बदलते कश्मीर की उस बदलती तस्वीर को देखना ही नहीं चाहते। जिस नए कश्मीर में कश्मीरी लड़कियां खुले आसमान के नीचे आजादी से क्रिकेट खेल रही हैं। अपने सपनों को जी रही हैं।

कश्मीर में आतंक का नया और लेटेस्ट ट्रेंड यहां के अल्पसंख्यकों के खिलाफ दिख रहा है। जिसमें आतंकी कश्मीरी पंडितों को निशाना बना रहे हैं। कश्मीर में रहने वाले सिख समुदाय से जुड़े लोगों की आतंकी हत्या कर रहे हैं। और कश्मीर में बाहर से आए कामगार हिंदुओं को गोलियों को भून रहे हैं। तो क्या आतंकी टेरर का हाइब्रिड मॉड्यूल अपनाकर 31 साल पुराने उसी काले इतिहास को कश्मीर घाटी में दोहराने की फिराक में है, जिस इतिहास को कश्मीर खुद याद करना नहीं चाहता। क्योंकि आज कश्मीर में कश्मीरी पंडितों, अल्पसंख्यकों हिंदुओं और सिखों के खिलाफ जैसी दहशत फैलाई जा रही है। ठीक वैसी ही दहशत आज से 31 साल पहले फैलाई गई थी।

जनवरी 1990 तक कश्मीर घाटी में कुल 75,343 कश्मीरी पंडित परिवार थे। लेकिन 1990 से  1992 के बीच 70,000 से ज्यादा कश्मीरी पंडित परिवारों ने घाटी को छोड़ दिया। एक अनुमान है कि आतंकियों ने 1990 से 2011 के बीच 399 कश्मीरी पंडितों की हत्या की। पिछले 30 साल के दौरान घाटी में बमुश्किल 800 हिंदू परिवार ही बाकी रह गए थे। पीएम मोदी ने कश्मीरी पंडितों को कश्मीर में दोबारा बसाने की योजना लागू की। पिछले महीने ही जम्मू कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा ने कश्मीरी पंडितों की संपत्ति को बचाने के लिए ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किया। पीएम पैकेज के तहत घोषित कुल 6,000 सरकारी पदों में से करीब 3,800 कश्मीरी प्रवासियों को सरकारी रोजगार प्रदान करके सीधे पुनर्वास किया गया है। जम्मू और कश्मीर सरकार में कार्यरत 6,000 कश्मीरी प्रवासियों को आवास दिलाने के लिए 920 करोड़ की योजना से मकान तैयार किए जा रहे हैं। यही बात आतंकियों को शूल की तरह चुभ रही है।

अनंतनाग में मौजूद कश्मीरी पंडित कॉलोनी में भी लोग गुस्से में हैं। गुस्सा आतंक और आतंक को डायरेक्ट इन डायरेक्ट तरीके से समर्थन करने वाले उन सियासतदानों से भी है, जो आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई पर पहले आंसू बहाते हैं और फिर निहत्थे सिविलियन की किलिंग्स पर सवाल सरकार पर उठाते हैं। केन्द्र की मोदी सरकार का संकल्प है कि वो कश्मीर में कश्मीरी पंडितों का हक दिलाकर रहेगी और आतंकी इस कोशिश में हैं कि किसी तरह हाइब्रिड किलिंग के जरिए वो कश्मीर में दहशत फैला सके। ताकि जो कश्मीरी पंडित कश्मीर से बाहर हैं वो यहां आने से खौफ खाए और जो यहां पहले से हैं वो भी यहां से चले जाए। लेकिन आतंकियों का न तो ये मंसूबा कामयाब होगा और ना ही हाइब्रिड आतंक को लॉजिस्टिक सपोर्ट दे रहे आतंकियों के ओवर ग्राउंड वर्कर घाटी में ज्यादा जिंदा रह पाएंगे।

First Published : 11 Oct 2021, 10:40:12 PM

For all the Latest Opinion News, Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Kashmiriyat

वीडियो