News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

संतान और संतान का भविष्य

जन्मकुंडली का पांचवा भाव संतान का होता है, संतान का कारक ग्रह बृहस्पति है. कुंडली के पंचम भाव में बैठे ग्रह, पंचम भाव के स्वामी से सम्बन्ध बनाने वाले ग्रह, पंचम भाव के स्वामी की स्थिति, संतान और संतान  संबंधी फलादेश में सहायक होती है.

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 30 Sep 2021, 11:35:53 PM
Untitled

children and future of children (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

जन्मकुंडली का पांचवा भाव संतान का होता है, संतान का कारक ग्रह बृहस्पति है. कुंडली के पंचम भाव में बैठे ग्रह, पंचम भाव के स्वामी से सम्बन्ध बनाने वाले ग्रह, पंचम भाव के स्वामी की स्थिति, संतान और संतान  संबंधी फलादेश में सहायक होती है. यथा: संतान गुणी होगी, भविष्य में अपने जीवन में सफल होगी या नही, संतान का जीवन कैसा होगा? कुल-परिवार का नाम रोशन करेगी या नही आदि? यह सब जानने के लिए कुंडली का पांचवा भाव, पंचमेश, संतान कारक गुरु और इनसे सम्बन्ध बनाने वाले ग्रहो के साथ ही 11वे भाव में बैठे ग्रहो से संतान का क्या भविष्य आदि होगा की जानकारी प्राप्त की जा सकती है ,11वे भाव में बैठे ग्रहो की पूर्ण सातवीं दृष्टि 5वें भाव पर होती है, इस कारण 11वे भाव में बैठे ग्रह भी उतना ही संतान के लिए प्रभाव देते है जितना 5वें भाव में बैठे ग्रह.
 

पंचमेश के साथ या पंचम भाव में शुभ योगो का बनना संतान पक्ष से शुभ फल दिलाता है. यदि ज्यादा मात्रा में पंचमेश के साथ या पंचम भाव में अशुभ योग है तब संतान का पूर्ण जीवन ही संघर्ष बहुत माध्यम बीतेगा. इसके अलावा सप्तमांश कुंडली से भी संतान की स्थिति देखी जातीहै यदि सप्तमांश कुंडली में अनुकूल और शुभ ग्रह योग है तो संतान के भविष्य, आदि के लिए शुभ संकेत है और यदि लग्न कुंडली सहित सप्तमांश कुंडली में भी अनुकूल ग्रह स्थिति और योग नही है तो संतान का भविष्य और जीवन कुंडली में ग्रहो की स्थिति के अनुसार, सामान्य रहेगा. वैसे जातक विशेष की कुंडली के ग्रह तथा अन्य ग्रहों की स्थिति भी फलकथन को प्रभावित करते हैं.

First Published : 30 Sep 2021, 11:35:53 PM

For all the Latest Opinion News, Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.