News Nation Logo

पीएम मोदी ने रामलीला मैदान में जो कहा क्या उससे बदल जाएगा दिल्ली और बंगाल के लोगों का मन?

दिल्ली में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं. चुनाव को देखते हुए रविवार को पीएम मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आभार रैली की. इस रैली से पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली और पश्चिम बंगाल दोनों को साध लिया.

Nitu Kumari | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 22 Dec 2019, 10:17:19 PM
पीएम नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली:

दिल्ली में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनाव को देखते हुए रविवार को पीएम मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आभार रैली की. इस रैली से पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली और पश्चिम बंगाल दोनों को साध लिया. पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव हैं. सीएम अरविंद केजरीवाल और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर वार करके पीएम मोदी ने चुनावी आगाज का इशारा दे दिया. पीएम मोदी के इस रैली से साफ हो गया है कि आने वाले चुनाव प्रचार के दौरान सीएए बीजेपी का मुख्य मुद्दा होगा. 

दिल्ली के रामलीला मैदान से पीएम मोदी ने कई मुद्दों पर अरविंद केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने सबसे पहले अनाधिकृत कॉलोनियों की (Unauthorised Colony) की बात छेड़ते हुए दिल्ली वासी का दिल जीतने की कोशिश की. पीएम मोदी ने कहा कि अनाधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत किया जा रहा है. जिससे लोगों का वो सपना पूरा होगा जो सालों से अधूरा था.

पीएम मोदी ने कहा कि इतने कम समय में टेक्नोलॉजी की सहायता से 1700 से ज्यादा कॉलोनियों के बॉन्डरी काम पूरा हो चुका है. इन कॉलोनियों के पास होने से लोगों की जिंदगी बिना चिंता के गुजरेगी और साथ ही बिजनेस करना भी आसान होगा. बता दें कि दिल्ली में कई अनाधिकृत कॉलोनी हैं और वहां के रहने वाले लोगों के पास वो बुनियादी सुविधा नहीं पहुंचता जो उन्हें मिलने चाहिए. लेकिन मोदी सरकार ने इन अवैध कॉलोनियों को नियमित करने का फैसला किया है. यानी जो जिस घर में रहता है उसे उस घर का मालिकाना हक मिल जाएगा. 

इसके साथ ही पीएम मोदी ने हर उस बुनियादी चीज की बात की जिससे दिल्लीवासी सीधे जुड़े हुए हैं. उन्होंने मेट्रो का जिक्र करते हुए कहा कि मनमोहन सरकार के समय दिल्ली में 14 किमी मेट्रो विस्तार ही प्रतिवर्ष होते थे. लेकिन उनकी सरकार आने के बाद गति तेज हुई और अब 25 किमी प्रतिवर्ष विस्तार पहुंच चुका है. उन्होंने कहा कि दिल्ली की मौजूदा सरकार के अगर-मगर के कारण मेट्रो के फेज 4 का विस्तार नहीं हो पाया है. केजरीवाल पर वार करते हुए उन्होंने कहा कि आप के नाम पर राजनीति करने वाले आपके समस्या को जानबूझकर लटका कर रखना चाहता है.

इसे भी पढ़ें:कानून अंधा है तो एनकाउंटर गलत कैसे? आखिर इस दरिंदगी की दवा क्या है...

इसके साथ ही पीएम मोदी ने दूषित पानी के साथ वायु प्रदूषण का मुद्दा उठाते हुए भी बिना नाम लिए केजरीवाल सरकार पर हमला बोला. कुल मिलाकर पीएम मोदी दिल्ली विधानसभा चुनाव में लोगों का मन बदलने की पूरी कोशिश की.

केजरीवाल सरकार के बिजली, पानी और महिलाओं के लिए बस फ्री करने का जवाब मोदी सरकार ने अनाधिकृत कॉलोनियों के अधिकृत करके देने की कोशिश की. साल 2020 में दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में केंद्र सरकार की पूरी कोशिश रहेगी कि वो दिल्ली की कमान भी अपने हाथ में ले ले. 

वहीं, पश्चिम बंगाल में बीजेपी की जड़ को मजबूत करने के लिए उन्होंने दिल्ली की रामलीला मैदान से कोशिश की. उन्होंने सीएए के मुद्दे पर ममता दीदी के कदम की जमकर आलोचना की. उन्होंने कहा कि जो ममता दीदी कल तक संसद में खड़े होकर गुहार लगा रहीं थीं कि बांग्लादेश से आने वाले घुसपैठियों को रोका जाए, वहां से आए पीड़ित शरणार्थियों की मदद की जाए. संसद में स्पीकर के सामने कागज फेंकती थी, वो आज इसके विरोध में सीधे संयुक्त राष्ट्र पहुंच गईं.

उन्होंने आगे कहा कि दीदी, अब आपको क्या हो गया? आप क्यों बदल गयी? अब आप क्यों अफवाह फैला रही हों? चुनाव आते हैं, जाते हैं, सत्ता मिलती है चली जाती है, मगर आप इतना क्यों डरी हो. बंगाल की जनता पर भरोसा करो, बंगाल के नागरिकों को आपने दुश्मन क्यों मान लिया है?

पश्चिम बंगाल में पूर्वोत्तर राज्य के बाद सबसे ज्यादा बाहर से आने वाले लोगों की संख्या है. बंगाल में अल्पसंख्यक का बड़ा वोट बैंक हैं और वो निर्णायक स्थिति में हैं. ममता बनर्जी को अल्पसंख्यकों का वोट मिला जिसकी वजह से वो 2011 में सत्ता में आईं. बंगाल में अल्पसंख्यक करीब 30 प्रतिशत हैं.

और पढ़ें:'मैंने गांधी को क्यों मारा?' गांधी वध मुकदमे में जज के सामने गोडसे का पूरा बयान

मोदी सरकार ने साफ कर दिया है कि राज्यों के मुख्यमंत्रियों के मनाही के बाद भी सीएए लागू होगा. प्रस्तावित एनआरसी के बारे में जहां गृहमंत्री अमित शाह ने सभी जगह लागू करने की बात कही थी वहीं रामलीला मैदान में रैली के दौरान एनआरसी को लेकर पीएम मोदी ने इनकार कर दिया.

रविवार को हुए पीएम नरेंद्र मोदी की रैली से साफ हो गया है कि 2020 और 2021 में जिन जिन राज्यों में चुनाव होंगे वहां सीएए का मुद्दा भुनाया जाएगा. लेकिन एनआरसी पर कोई बात नहीं होगी फिलहाल. अब देखना है कि विपक्षी मोदी के इस वार का पलटवार कैसे करते हैं. 

First Published : 22 Dec 2019, 10:17:19 PM

For all the Latest Opinion News, Election Opinion News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.