News Nation Logo

30 साल से रोजाना 15 किमी चलकर लोगों तक लेटर पहुंचा रहा है यह शख्स, इस IAS ने किया सलाम

तमिलनाडु (Tamil Nadu) के एक दूरदराज के इलाके में डी शिवन (D Sivan) ने पत्र पहुंचाने के लिए 30 साल तक लगभग 15 किलोमीटर की दूरी तय की.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 11 Jul 2020, 12:04:09 AM
postman

पोस्टमैन डी शिवन (D Sivan) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली:  

तमिलनाडु (Tamil Nadu) के एक दूरदराज के इलाके में डी शिवन (D Sivan) ने पत्र पहुंचाने के लिए 30 साल तक लगभग 15 किलोमीटर की दूरी तय की. उनके लिए यह सफर काफी कठिन रहा. वो घने जंगलों और कठिन इलाकों से गुजरते थे. उन्होंने जंगली जानवरों की ओर से किए जाने वाले संभावित हमलों का सामना किया. तीन दशक तक काम करने के बाद वो रिटायर हो चुके हैं. सोशल मीडिया पर उनकी समर्पित सेवा को पहचाना और सराहा जा रहा है.

यह भी पढे़ंःपुलिसकर्मियों की शहादत से लेकर विकास दुबे के एनकाउंटर की पूरी कहानी, एक नजर में पढ़ें

कुन्नूर के दुर्गम क्षेत्रों में भी डी सिवन ने पत्र पहुंचाए, जिसके लिए उन्हें घने जंगलों से गुजरना पड़ता था और फिसलन भरी धाराओं को पार करना पड़ता था. इसके अलावा ही उन्होंने अपनी नौकरी के लिए जंगली जानवरों द्वारा हमलों का भी सामना किया और इंडिया पोस्ट में सेवा के दौरान हाथियों, भालू और गौरों ने भी उनका पीछा किया.

आईएएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने ट्विटर कर पोस्टमैन की सराहना की, जिन्होंने अत्यंत समर्पण के साथ कर्तव्य निभाया. उन्होंने फोटो पोस्ट करते हुए लिखा कि पोस्टमैन डी शिवन हर रोज 15 किमी चलकर कुन्नूर के घने जंगलों में हाथी, भालू, गौर का सामना करते हुए लोगों तक पत्र पहुंचाते हैं. इस दौरान वह झरने और सुरंग भी पार करते हैं. उन्होंने पूरे 30 साल अपनी ड्यूटी पूरी निष्ठा से निभाई, पिछले हफ्ते वह रिटायर हो गए.

यह भी पढे़ंः विकास दुबे का हुआ अंतिम संस्कार, पिता ने जाने से किया इनकार, पत्नी और बेटा रहे मौजूद

आपको बता दें कि इस पोस्ट को आईएएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने 8 जुलाई को शेयर किया था, जिसके अब तक 77 हजार से ज्यादा लाइक्स और 15 हजार से ज्यादा रि-ट्वीट्स हो चुके हैं. इस पोस्ट पर हजारों लोगों ने सिवन की जमकर तारीफ की.

First Published : 11 Jul 2020, 12:04:09 AM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.