News Nation Logo

पीएम मोदी की तारीफ से मुश्‍किल में पड़ गया यह दंपति, समुदाय ने बस्ती से निकाला

प्रधानमंत्री मोदी ने पुस्तकालय खोलने के उनके प्रयासों की इस साल जून में अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘मन की बात’’ में तारीफ की थी

Bhasha | Updated on: 22 Nov 2019, 08:23:54 PM
मन की बात करते पीएम मोदी

मन की बात करते पीएम मोदी (Photo Credit: फाइल)

तिरुवनंतपुरम:

केरल के एक घने वन क्षेत्र में पुस्तकालय खोलने के लिये जिस बुजुर्ग आदिवासी दंपति की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने “मन की बात” कार्यक्रम में तारीफ की थी, उसे उसके समुदाय के लोगों ने बस्ती से निकाल दिया है. समुदाय के लोगों का आरोप है कि दंपति ने कथित रूप से एक ऐसी पुस्तक लिखने में ‘मदद’ की, जिसमें उसे (समुदाय) को गलत रूप में प्रदर्शित किया गया है.

यह भी पढ़ेंः बैंक ने गलती से बना दिये एक खाते के दो मालिक, एक पैसा डालता रहा, दूसरा निकालता रहा

इडुक्की जिले के जंगलों में स्थित एदमालकुडी बस्ती के निवासी पी वी चिन्नाथम्पी (77) और मनियम्मा (62) को इस महीने की शुरूआत में वहां की एक सभा ‘‘ओरूकोट्टम’’ ने उन्हें उनके गांव से निकाल दिया. इसके बाद से दंपती मदद मांगते हुए दर-दर भटक रहे हैं. उन्होंने इस मामले में शिक्षक-लेखक पी के मुरलीधरन के साथ गुरुवार को यहां राज्य के अनुसूचित जाति/ जनजाति कल्याण मंत्री ए के बालन से भेंट की और इस मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया. मंत्री ने हरसंभव मदद का भरोसा दिलया. मुरलीधरन ने कहा, “मंत्री ने हमने कहा है कि वह देवीकुलम के विधायक एस राजेंद्रन से बात करेंगे.

यह भी पढ़ेंः किसे मिलती है सरकारी नौकरी, प्रोमोशन के लिए क्‍या करें उपाय, जानें यहां

फिलहाल वे अपने गांव नहीं जा सकते हैं.” मुरलीधरन ने 2012 में पुस्तकालय खोलने के लिए इस दंपत्ति की मदद की थी. चिन्नाथम्पी और उनकी पत्नी यहां के निकट स्थित मुरलीधरन के घर में रह रहे हैं. उन्होंने कहा, “वे दूसरों की दया के भरोसे कब तक रह सकते हैं.” गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने पुस्तकालय खोलने के उनके प्रयासों की इस साल जून में अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘मन की बात’’ में तारीफ की थी. चिन्नाथम्पी और मनियम्मा पर आरोप है कि उन्होंने मुरलीधरन को एक ऐसी पुस्तक लिखने में मदद की, जिसमें उनके मुथुवन आदिवासी समुदाय को गलत तरीके से दर्शाया गया है.

यह भी पढ़ेंः रिसर्चः सिर में अगर लगाया ठंडा तेल तो मार सकता है लकवा

मुरलीधरन ने कहा कि उन्होंने अपनी पुस्तक “एदामलाक्कुदी : ओरुम, पोरुलुम” 2014 में लिखी थी और अब तक इसे लेकर कोई समस्या नहीं थी. इस बारे में राजेंद्रन ने कहा कि किसी को कहीं से बहिष्कृत करने का अधिकार किसी के पास नहीं है और वह ग्राम पंचायत से इस बारे में बात करेंगे. उल्लेखनीय है कि एदमालकुडी बस्ती देवीकुलम ताकुल में स्थित है. 2010 में राज्य में बना यह पहला आदिवासी ग्राम पंचायत है.

First Published : 22 Nov 2019, 08:19:59 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Kerala Man Ki Bat PM Modi