News Nation Logo

कूलिंग थैरेपी से जन्म लेने के 11 मिनट बाद नवजात ने ली सांस

विशेषज्ञों ने चिकित्सीय हाइपोथर्मिया पद्धति का इस्तेमाल किया, जिसे संपूर्ण शरीर का कूलिंग विधि भी कहा जाता है. डॉ कुमार ने कहा कि यह बहुत दुर्लभ परिदृश्य था और केवल दो प्रतिशत जन्मों में देखा जाता है.

IANS | Edited By : Ritika Shree | Updated on: 11 May 2021, 05:28:40 PM
Newborn

Newborn (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • बेंगलुरू नॉर्थ के रेनबो चिल्ड्रन हॉस्पिटल ने उस बच्चे को पुनर्जीवित किया जो फ्लॉपी पैदा हुआ था
  • बच्चा सामान्य पैदा हुआ था, लेकिन बहुत ही खराब अपगर स्कोर के साथ
  • अपगर स्कोर जन्म के तुरंत बाद नवजात शिशुओं को दिया जाने वाला एक टेस्ट है

बेंगलुरू:

कोविड की दूसरी लहर ने कर्नाटक पर भी बुरा प्रभाव डाला है, लेकिन यहां एक शिशु की दिल को छू लेने वाली कहानी सामने आई है. इस नवजात ने जन्म लेने के 11 मिनट बाद अपनी पहली सांस ली. बेंगलुरू नॉर्थ के रेनबो चिल्ड्रन हॉस्पिटल ने उस बच्चे को पुनर्जीवित किया जो फ्लॉपी पैदा हुआ था. इसका दूसरे शब्दों में मतलब है कि वह जन्म के समय सांस नहीं ले सकता था, रो नहीं सकता था, दिल की धड़कने नहीं थी और सांस लेने की भी हलचल नहीं होती दिखाई दे रही थी. अस्पताल के सलाहकार डॉ प्रदीप कुमार ने खुलासा किया कि बच्चा सामान्य पैदा हुआ था, लेकिन बहुत ही खराब अपगर स्कोर के साथ. इस स्थिति पर ध्यान देने के बाद, हमने तुरंत नवजात पुनर्जीवन तकनीक सहित हर चिकित्सा हस्तक्षेप तकनीक का उपयोग किया जिसके बाद एक मिनट में बच्चे के दिल की धड़कन बढ़ गई लेकिन इस बच्चे को अपनी पहली सांस लेने में 11 मिनट का समय लगा. उनके अनुसार, अपगर स्कोर जन्म के तुरंत बाद नवजात शिशुओं को दिया जाने वाला एक टेस्ट है. यह टेस्ट एक बच्चे की हृदय गति, मांसपेशियों की टोन और अन्य संकेतों की जांच करता है कि क्या अतिरिक्त चिकित्सा देखभाल या आपातकालीन देखभाल की आवश्यकता है. टेस्ट आमतौर पर दो बार दिया जाता है : एक बार जन्म के एक मिनट बाद, और फिर जन्म के पांच मिनट बाद.

उन्होंने कहा कि जब यह नवजात शिशु चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में पैदा हुआ था, तो रेनबो हॉस्पिटल्स में डॉक्टरों की एक टीम ने स्टेज -2 हाइपोक्सिक इस्केमिक एन्सेफैलोपैथी के साथ बच्चे का निदान किया. इसलिए उसे ठीक करने के लिए, इन विशेषज्ञों ने चिकित्सीय हाइपोथर्मिया पद्धति का इस्तेमाल किया, जिसे संपूर्ण शरीर का कूलिंग विधि भी कहा जाता है. डॉ कुमार ने कहा कि यह बहुत दुर्लभ परिदृश्य था और केवल दो प्रतिशत जन्मों में देखा जाता है, लेकिन 20 प्रतिशत नवजात की मृत्यु हो जाती है. उन्होंने कहा, प्रीनेटल एस्फिक्सिया मां से प्लेसेंटा और बच्चे को रक्त के प्रवाह में कमी के कारण होता है, बच्चे को बिगड़ा हुआ ऑक्सीकरण, नाल के पार गैस विनिमय कम हो जाता है और भ्रूण की ऑक्सीजन की आवश्यकता बढ़ जाती है.

प्रक्रिया और माता-पिता की मानसिक स्थिति के बारे में बात करते हुए नियोनेटोलॉजी और पेडियाट्रिक्स सलाहकार, डॉ एम एस श्रीधर ने कहा कि माता-पिता सदमे, निराशा और इनकार की स्थिति में थे. चिकित्सकों ने शिशु को सबसे अच्छी नैदानिक देखभाल देने के अलावा, हमने माता-पिता की इस तरह से सलाह ली कि वे शिशु की स्थिति को समझें. हमने सुनिश्चित किया कि वे अल्पावधि और दीर्घकालिक चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं. '' एक अन्य टीम के सदस्य नियोनेटोलॉजी और पेडियाट्रिक्स, डॉ सुषमा कल्याण अचुता ने कहा '' बच्चे को 72 घंटों के लिए ठंडा किया गया और धीरे-धीरे 12 घंटे से ज्यादा फिर से दोहराया गया. एमआरआई के बाद, बच्चे की स्थिति सामान्य थी और एक न्यूरोलॉजिकल जांच के बाद उसे छुट्टी दे दी गई. ''

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 May 2021, 05:28:40 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो