logo-image
लोकसभा चुनाव

Chaitra Navratri Day 9: नवरात्रि के आखिरी दिन भारत के प्रसिद्ध देवी मंदिर में माथा टेकें, बनी रहेगी देवी मां की कृपा

Chaitra Navratri Day 9: नवरात्रि का आखिरी दिन विजयादशमी है, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और दुर्गा माता की विसर्जन का दिन होता है. भारत में नवरात्रि के दौरान देवी दुर्गा के प्रसिद्ध मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है.

Updated on: 16 Apr 2024, 01:19 PM

नई दिल्ली :

Chaitra Navratri Day 9: नवरात्रि का आखिरी दिन नवमी होता है, जिसे दुर्गा विसर्जन के रूप में जाना जाता है. इस दिन, भक्त देवी दुर्गा की मूर्तियों को जल निकायों में विसर्जित करते हैं. नवरात्रि, हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जो नौ दिनों तक मनाया जाता है. इन नौ दिनों में, भक्त देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा करते हैं. नवरात्रि का आखिरी दिन, जिसे "दशहरा" या "विजयादशमी" के नाम से जाना जाता है, बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. भारत में, नवरात्रि के दौरान कई प्रसिद्ध देवी मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है.  नवरात्रि के दौरान भारत में देवी दुर्गा के कई प्रसिद्ध मंदिर हैं. इनमें से कुछ मंदिरों के बारे में आइए जानते हैं. 

मां वैष्णो देवी मंदिर, कटरा, जम्मू और कश्मीर

Maa Vaishno Devi Temple

मां वैष्णो देवी भारतीय हिंदू धर्म में एक प्रमुख देवी मानी जाती हैं. वे शक्ति की देवी हैं और अपने भक्तों को सदैव संजीवनी शक्ति और क्षमताओं की प्रदान करती हैं. मां वैष्णो देवी के मंदिर भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य के कटरा नगर में स्थित हैं. वैष्णो देवी का मंदिर वास्तव में तीन पहाड़ों के बीच स्थित है, जिन्हें त्रिकूट पर्वत कहा जाता है. यहां भक्तों को आनंद और शांति का अनुभव होता है और उनकी मनोकामनाओं को पूरा करने की कामना की जाती है. वैष्णो देवी को देवी का तिहूती रूप माना जाता है, जिनकी आराधना बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जाती है. उन्हें विभिन्न नामों से पुकारा जाता है, जैसे त्रिकूटा, त्रिपदा, त्रिशुला, वागीश्वरी, आदि. मां वैष्णो देवी की पूजा में भक्तों की भावना और श्रद्धा होती है. उनकी आराधना से भक्तों को मन की शांति, सुख, और समृद्धि की प्राप्ति होती है. वे अपने भक्तों के दुःखों को हरती हैं और उन्हें उनकी मनोकामनाओं को पूरा करने की शक्ति प्रदान करती हैं. मां वैष्णो देवी का दर्शन करने के लिए हर साल लाखों भक्तगण आते हैं और उनकी कृपा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. इनके दर्शन से भक्तों का मन पवित्र हो जाता है और वे नई ऊर्जा और संजीवनी शक्ति से भर जाते हैं.

मां दुर्गा मंदिर, वाराणसी, उत्तर प्रदेश

Maa Durga Mandir

मां दुर्गा मंदिर वाराणसी में स्थित है, जो काशी के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है. यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है और यहां भक्तों की भक्ति और आराधना होती है. मां दुर्गा मंदिर वाराणसी के भव्य नगरी के एक प्रसिद्ध स्थान पर स्थित है. यहां भक्तों को देवी के चढ़ावे करने का मौका मिलता है. मंदिर में देवी दुर्गा की पूजा विधियां अनुसार अनुष्ठान होती हैं. भक्तों द्वारा प्रार्थना और आरती की जाती है. मां दुर्गा मंदिर वाराणसी में धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का साक्षात्कार कराता है. यहां भक्तों को आशीर्वाद और संजीवनी शक्ति की प्राप्ति होती है. मां दुर्गा मंदिर वाराणसी की यात्रा धार्मिक महत्व की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. भक्तों के लिए यहां का दर्शन और पूजा करना अत्यंत आनंददायक होता है. मां दुर्गा मंदिर वाराणसी में स्थित होने से यहां की यात्रा सदैव यादगार और प्रेरणादायक होती है. भक्तों को यहां आने से मनोरंजन के साथ-साथ आत्मिक और आध्यात्मिक शक्ति का भी अनुभव होता है.

कामाख्या मंदिर, गुवाहाटी, असम

कामाख्या मंदिर गुवाहाटी, असम में स्थित है, जो भारत के प्रमुख शक्तिपीठों में से एक है. यह मंदिर देवी कामाख्या को समर्पित है और यहां भक्तों की आराधना और पूजा होती है. कामाख्या मंदिर गुवाहाटी के पास नीलाचल पर्वत पर स्थित है. यहां पहुंचने के लिए भक्तों को पर्वत की ऊंचाई पर चढ़ना पड़ता है. मंदिर में देवी कामाख्या की पूजा विधियों का पालन किया जाता है. यहां पर भक्तों की पूजा, अर्चना, और आरती होती है. कामाख्या मंदिर गुवाहाटी में धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का साक्षात्कार कराता है. यहां भक्तों को आशीर्वाद और संजीवनी शक्ति की प्राप्ति होती है. कामाख्या मंदिर गुवाहाटी की यात्रा धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है. भक्तों के लिए यहां की यात्रा आनंददायक और प्रेरणादायक होती है. कामाख्या मंदिर गुवाहाटी में स्थित होने से यहां की यात्रा सदैव यादगार और प्रेरणादायक होती है. भक्तों को यहां आने से मनोरंजन के साथ-साथ आत्मिक और आध्यात्मिक शक्ति का भी अनुभव होता है.

अंबाजी मंदिर, गुजरात

Ambaji Temple

अंबाजी मंदिर गुजरात के बानासकांठा जिले में स्थित है, जो भारत के प्रमुख मां शक्ति के मंदिरों में से एक है. यहां भक्तों की भरमार होती है और मां अंबाजी की पूजा विधि की जाती है. अंबाजी मंदिर गुजरात के अंबाजी गांव में स्थित है. यहां पहुंचने के लिए भक्तों को श्रद्धालु और साधकों को पवित्र स्थानों की यात्रा करनी पड़ती है. मंदिर में मां अंबाजी की पूजा विधियां अनुसार अनुष्ठान होती हैं. भक्तों द्वारा प्रार्थना, अर्चना, और आरती की जाती है. अंबाजी मंदिर गुजरात में धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का साक्षात्कार कराता है. यहां भक्तों को आशीर्वाद और संजीवनी शक्ति की प्राप्ति होती है. अंबाजी मंदिर गुजरात की यात्रा धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है. भक्तों के लिए यहां की यात्रा आनंददायक और प्रेरणादायक होती है. अंबाजी मंदिर गुजरात में स्थित होने से यहां की यात्रा सदैव यादगार और प्रेरणादायक होती है. भक्तों को यहां आने से मनोरंजन के साथ-साथ आत्मिक और आध्यात्मिक शक्ति का भी अनुभव होता है.

मां चामुंडेश्वरी मंदिर, मैसूर, कर्नाटक

Maa Chamundeshwari Temple

मां चामुंडेश्वरी मंदिर मैसूर, कर्नाटक में स्थित है, जो भारत के प्रमुख मां शक्ति के मंदिरों में से एक है. यहां भक्तों की भरमार होती है और मां चामुंडेश्वरी की पूजा विधि की जाती है. मां चामुंडेश्वरी मंदिर मैसूर के पास चामुंडेश्वरी पहाड़ी पर स्थित है. यहां पहुंचने के लिए भक्तों को पहाड़ी की ऊंचाई पर चढ़ना पड़ता है. मंदिर में मां चामुंडेश्वरी की पूजा विधियां अनुसार अनुष्ठान होती हैं. भक्तों द्वारा प्रार्थना, अर्चना, और आरती की जाती है. मां चामुंडेश्वरी मंदिर मैसूर में धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का साक्षात्कार कराता है. यहां भक्तों को आशीर्वाद और संजीवनी शक्ति की प्राप्ति होती है. मां चामुंडेश्वरी मंदिर मैसूर की यात्रा धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है. भक्तों के लिए यहां की यात्रा आनंददायक और प्रेरणादायक होती है. मां चामुंडेश्वरी मंदिर मैसूर में स्थित होने से यहां की यात्रा सदैव यादगार और प्रेरणादायक होती है. भक्तों को यहां आने से मनोरंजन के साथ-साथ आत्मिक और आध्यात्मिक शक्ति का भी अनुभव होता है. ये भारत के कई प्रसिद्ध देवी मंदिरों में से कुछ हैं जहां नवरात्रि के दौरान भक्त माथा टेकने जाते हैं.

यह भी पढ़ें: Maa Siddhidatri Mantra: मां सिद्धिदात्री को प्रसन्न करेंगे ये मंत्र, चमत्कारी हैं इनके लाभ