News Nation Logo
Banner

दिवाली पर चेन्नई के इस मंदिर में होते हैं माँ लक्ष्मी के दिव्य दर्शन, 8 स्वरूपों का भव्य संगम

चेन्नई (Chennai) का अष्टलक्ष्मी मंदिर (Ashtlakshmi Mandir) देवी लक्ष्मी के प्रमुख मंदिरों में से एक है. इस मंदिर में देवी लक्ष्मी के 8 रूपों की पूजा की जाती है.

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 04 Nov 2021, 12:33:26 PM
ashtlakshmi mandir chennai

ashtlakshmi mandir chennai (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

भारत में कई मंदिर हैं और हर मंदिर की अपनी एक मान्यता है. ऐसे में दक्षिण भारत को मंदिरों का गढ़ माना जाता है. यहां कई देवी देवताओं के मंदिर हैं, जो हर तरफ काफी प्रसिद्ध हैं. इन मंदिरों के दर्शन के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं. ऐसे में अगर बात हो चेन्नई के अष्टलक्ष्मी मंदिर की तो यह देवी लक्ष्मी के प्रमुख मंदिरों में से एक है. इस मंदिर में देवी लक्ष्मी के 8 रूपों की पूजा की जाती है. दिवाली के मौके पर यहां लोगों की भीड़ लगी रहती है. अगर आप भी देवी दर्शन करना चाहते हैं तो दिवाली पर आ रही छुट्टियों पर आप यहां जाने का प्लान कर सकते हैं. चेन्नई जाने के बाद आप आसानी से इस मंदिर तक पहुंच सकते हैं. इस मंदिर को लेकर लोगों की अलग मान्यता है. जानते हैं समुद्र तट पर बसे इस मंदिर से जुड़े कुछ रोचक तथ्य. 

यह भी पढ़ें: अब पनीर को फ्रेश रखना हुआ आसान, रंग और स्वाद बरकरार रखने के लिए अपनाएं ये तरीके अनजान

1. महिलाएं करती हैं पूजा
बसंत नगर के समुद्र तट पर बना ये मंदिर 4 तलों में बना है, जिसमें देवी लक्ष्मी की अलग-अलग प्रतिमाएं स्थापित हैं. मंदिर के दूसरे तर पर देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है. यहां महिलाएं तेल से पूजा करती हैं और फिर माता की आरती उतारती हैं. बात हो मंदिर की खूबसूरती की तो समुद्र किनारे बसा ये मंदिर काफी सुंदर दिखता है.

2. मंदिर में क्या है खास
इस मंदिर में प्रतिमाएं घड़ी की सुइयों की दिशा में आगे बढ़ने पर दिखाई देती हैं. इसके अलावा मंदिर में भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की भी एक प्रतिमा है. कई लोग अपने विवाहित जीवन को खुशहाल बनाने के लिए यहां प्रार्थना करने आते हैं. 

यह भी पढ़ें: दिवाली पर जब ऐसे बनाएंगे आलू की सब्जी Yummy, खाकर फुल हो जाएगी आपकी Tummy

3. क्या चढ़ाया जाता है
65 फीट लंबे और 45 फीट चौड़े इस मंदिर की खूबसूरती हर किसी का मन मोह लेती है. श्रद्धालू यहां पर कमल का फूल चढ़ाते हैं. इस मंदिर को श्री चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल की इच्छा पर बनाया गया था. मंदिरके गर्भगृह में 5.5 फीट लंबा ऊंचा गोल्ड प्लेटेड कलश नवनिर्मित किया गया है. 

4. कैसे पहुंचे
इसके लिए सबसे पहले चेन्नई पहुंचे इसके लिए हवाई जहाज या ट्रेन दोनों सुविधाओं में से किसी एक का सहारा लें। फिर चेन्नई से एक घंटे में इस मंदिर तक पहुंचा जा सकता हैं.

First Published : 04 Nov 2021, 12:33:26 PM

For all the Latest Lifestyle News, Travel News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.