News Nation Logo

बच्चों को गुड और बैड टच के बारे में बताना जरूरी, अभिभावक रहें सावधान

ऐसे मामलों में देखा गया है अक्सर देखा गया है कि आपके दूर के रिश्तेदार या फिर आपके जानने वाले लोग ही आपके बच्चों से ऐसी शर्मनाक हरकतें करते हैं.

By : Ravindra Singh | Updated on: 21 Dec 2019, 04:49:41 PM
सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र (Photo Credit: फाइल )

नई दिल्‍ली:

हम अक्सर ये बात सुनते हैं कि जमाना बहुत खराब हो गया है ऐसा नहीं कि यह हम आजकल ही सुनते हैं ये शब्द कई पीढ़ियों से हम सुनते आ रहे हैं. अगर आज के मौजूदा जीवनशैली के बारे में बात करें तो आए दिन न्यूज पेपर यौन हिंसा की खबरों से भरा रहता है छोटे-छोटे बच्चे भी इससे अछूता नहीं रहते हैं. लेकिन जबतक इन बातों की असलियत के बारे में अभिभावकों को पता चलता है तब तक काफी देर हो जाती है. अभिभावक बच्चों के साथ दुर्घटना हो जाने के बाद असली मामले को समझ पाते हैं ऐसे में अभिभावकों को विशेष रूप से सावधान रहना होगा. ऐसे मामलों में देखा गया है अक्सर देखा गया है कि आपके दूर के रिश्तेदार या फिर आपके जानने वाले लोग ही आपके बच्चों से ऐसी शर्मनाक हरकतें करते हैं.

बच्चे ना समझ होते हैं उन्हें इसके बारे में नहीं पता होता है कि क्या सही है और क्या गलत जिसकी वजह से अभिभावकों को अपने बच्चों को लेकर भारी नुकसान उठाना पड़ता है. हम इन घटनाओं से बच सकते हैं लेकिन हमें अपने बच्चों पर शुरू से ध्यान देने की जरूरत है और उन्हें परिवार के सदस्यों के अलावा किसी और के साथ 'गुड टच' और 'बैड टच' के फर्क को समझाना पड़ेगा यकीन मानिए अभिभावक इस समस्या पर काबू करते हुए नजर आएंगे आइये आपको समझाते हैं कैसे बच्चों को बताएंगे गुड और बैड टच के बारे में.

यह भी पढ़ें-खुले में सेक्स करने को लेकर भारतीयों की क्या है सोच, सर्वे में सामने आया हैरान करने वाला सच

अभिभावक अपने बच्चों से खुलकर बात करें
अभिभावक अपने बच्चों से खुल कर बात करें उन्हें अपने बच्चों से अपने बीच में गैप नहीं आने देना चाहिए कि इस गैप का कोई तीसरा शख्स फायदा उठाए. हालांकि पहले की तुलना में अब बच्चे ज्यादा जागरुक हो गए हैं. लेकिन फिर भी अभिभावकों की ये जिम्मेदारी है कि वो अपने बच्चों में इतना घुलमिल कर रहें कि आपका बच्चा आपसे हर एक बात शेयर करे. अपने बच्चों को आप ये सीधे तौर पर बचपन से ही समझाएं कि जब कोई अन्य व्यक्ति उन्हें छूता है तो उन्हें कैसा महसूस होता है जैसे भी कोई गलत तरीके से उन्हें छूने की कोशिश करे वो आपको बतायें और आप कड़ाई पूर्वक उस सदस्य को अपने परिवार से दूर रहने को कहें. इतना ही नहीं आप अपने बच्चों के टीचर्स के भी संपर्क में रहें कभी-कभी बच्चे टीचर्स से ऐसी बातें तो शेयर कर लेते हैं लेकिन पैरेंट्स से शेयर करने में डरते हैं.

यह भी पढ़ें- जिसे करती थी वो बेपनाह मोहब्बत...उसकी हुई मौत, लेकिन 2 साल बाद प्रेमी फिर हो उठा जिंदा!

बच्चों की बातों को नजरअंदाज न करें
कभी-कभी आपके बच्चे आपको ऐसी किसी बात के बारे में बताना चाहते हैं ऐसा करने में वो थोड़ा बहुत झिझकते हों तो ऐसे में पैरेंट्स उनकी बात अनसुनी करके आगे बढ़ जाते हैं. आपको ऐसा भी नहीं करना है आपको टाइम निकाल कर बच्चे से अकेले में प्यार से बात करनी चाहिए ताकि वो आप पर भरोसा कर सके और पूरी बात आपको बता सके. आप अपने बच्चों को ये भी बताएं कि अगर कोई उनके अंगो से गलत तरीके से छेड़छाड़ करता है तो उन्हें भी इसका विरोध करना चाहिए अगर वो नहीं मानता है तो शोर भी मचाना चाहिए इससे दुर्व्यवहार करने वाला शख्स डर जाएगा और ऐसा करने से बचेगा.

यह भी पढ़ें-कलयुगी पिता ने सौतेली बेटी के साथ किया शर्मनाक काम, जानें फिर क्या हुआ

बच्चों को खुलकर बैड टच के बारे में बताएं
आप अपने बच्चों को साफ तौर पर ये बात समझा दें कि कोई भी जब उन्हें गलत मकसद से छूता है यानि की बैड टच करता है तो वो अपने अभिभावक, अपने टीचर और अपने आस-पास के लोगों को इस बारे में बताएं. इसके अलावा हो सके तो ऐसा करने वालों के खिलाफ शोर मचाएं और आस-पास के लोगों से भी बताएं ताकि कोई भी उनकी मदद के लिए तत्काल सामने आए और बच्चों को इस मुसीबत से निकाले. इसके अलावा अपने बच्चों को आप गुड टच और बैड टच के बारे में साफ तौर पर समझाएं ताकि वो इस गलतफहमी में न रहें कि फलां अंकल या आंटी भला गलत कैसे कर सकते हैं वो हर तरह की एक्टीविटी आपसे शेयर करे.

For all the Latest Lifestyle News, Relationship News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 21 Dec 2019, 04:49:41 PM