News Nation Logo
Banner

अगर उम्र हो रही 50 पार तो बढ़ा लिजिए दोस्‍तों की संख्‍या, नहीं छू पाएगी यह बीमारी

Friendship Day Special: उम्र के 50वें और 60वें दशक में ज्यादा सामाजिक होने से बाद में डिमेंशिया (मनोभ्रम, विक्षिप्तता) होने का खतरा कम हो जाता है.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 04 Aug 2019, 04:09:02 PM
प्रतिकात्‍मक चित्र

प्रतिकात्‍मक चित्र

लंदन:

Friendship Day Special: उम्र के 50वें और 60वें दशक में ज्यादा सामाजिक होने से बाद में डिमेंशिया (मनोभ्रम, विक्षिप्तता) होने का खतरा कम हो जाता है. एक नए शोध में इसका खुलासा हुआ है. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के वरिष्ठ शोधकर्ता गिल लिविंग्स्टन ने कहा, "सामाजिक रूप से सक्रिय लोग याददाश्त और भाषा जैसे संज्ञानात्मक कौशलों में सक्रिय रहते हैं, जो उन्हें संज्ञानात्मक रूप से सक्रिय रखने में मदद करता है. हालांकि हो सकता है कि यह उनके मस्तिष्क में होने वाले बदलाव को ना रोक पाए, लेकिन संज्ञानात्मक रिजर्व लोगों को बढ़ती उम्र के प्रभावों से मुकाबला करने और डिमेंशिया के लक्षणों के सक्रिय होने को कुछ समय तक टालने में मदद कर सकता है."

जर्नल पीएलओएस मेडीसिन में प्रकाशित शोध में व्हाइटहाल-2 के अध्ययन के आंकड़े का उपयोग किया गया था, जिसमें 10,228 प्रतिभागियों पर नजर रखी गई थी. इन प्रतिभागियों को 1985 से 2013 के बीच छह मौकों पर उनके दोस्तों और रिश्तेदारों से उनकी सक्रियता के लिए कहा गया था.

यह भी पढ़ेंः लव मैरिज की अनोखी सजा, बेटी की आत्मा की शांति के लिए रिश्तेदारों को बुलाया

शोध के लिए टीम ने 50, 60 और 70 की उम्र में सामाजिक संपर्क और डिमेंशिया की व्यापकता और क्या सामाजिक संपर्क का संज्ञानात्मक सक्रियता में गिरावट से कोई संबंध है, इसका अध्ययन किया. शोधकर्ताओं ने पाया कि 60 की उम्र पर सामाजिक रूप से ज्यादा सक्रियता से बाद में डिमेंशिया विकसित होने का खतरा उल्लेखनीय रूप से कम हुआ है.

यह भी पढ़ेंः 'धरती के भगवान' गए हड़ताल पर, पंजाब में इलाज न मिलने से 34 मरीजों की मौत

दरअसल डिमेंशिया किसी एक बीमारी का नाम नहीं है बल्कि ये एक लक्षणों के समूह का नाम है, जो मस्तिष्क की हानि से सम्बंधित हैं. Dementia शब्द 'de' मतलब without और 'mentia' मतलब mind से मिलकर बना है. 

डिमेंशिया के लक्षण

  • स्मरण शक्ति की क्षति का होना, ज़रूरी चीज़ें भूल जाना.
  • सोचने में कठिनाई होना, छोटी-छोटी समस्याओं को भी न सुलझा पाना
  • भटक जाना, व्यक्तित्व में बदलाव, किसी वस्तु का चित्र देखकर यह न समझ पाना कि यह क्या है
  • नंबर जोड़ने और घटाने में दिक्कत, गिनती करने में दिक्कत
  • स्व: प्रबंधन में दिक्कत, समस्या हल करने या भाषा और ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत का होना
  • यहां तक कि डिमेंशिया लोग अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं होते हैं. यानी मूड या व्यवहार का बदलना.
  • पहल करने में झिझक का होना आदि

इनपुट ः IANS

First Published : 04 Aug 2019, 04:07:26 PM

For all the Latest Lifestyle News, Relationship News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×