News Nation Logo
कल सुबह बिपिन रावत के घर जाएंगे उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी प्रधानमंत्री के आवास पर सीसीएस की आपात बैठक होगी हेलीकॉप्टर हादसे में एक शख्स को​ जिंदा बचाया गया: डीएम हेलीकॉप्टर हादसे पर बयान जारी करेगी वायु सेना वायुसेना ने CDS बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की वायुसेना ने सीडीएस बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की DNA टेस्ट से होगी शवों की पहचान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के हेलीकॉप्टर हादसे के बारे में पीएम मोदी को दी जानकारी हेलीकॉप्टर क्रैश में अब तक 13 लोगों की मौत की पुष्टि हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद CDS बिपिन रावत के घर पहुंचे एमएम नरवणेRead More » CDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर क्रैश मामले में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह कल संसद में देंगे बयान ढाई बजे हेलीकॉप्टर में लगी आग बुझाई गई

वुहान : प्रारंभिक कोरोना वायरस मामलों की चिकित्सक फाइलों को सार्वजनिक किया गया

पिछले साल 26 से 29 दिसंबर तक हुपेइ प्रांत के परंपरागत चिकित्सा और पश्चिमी चिकित्सा के मिश्रित अस्पताल के रिस्पेरेटरी विभाग की डाक्टर चांग चीश्येन ने सात अकारण निमोनिया मामले देखे. उन्हें सबसे पहले महामारी का आसार दिखा और अस्पताल को दो बार रिपोर्ट दीं

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 20 Apr 2020, 02:30:00 AM
corona virus

कोरोना वायरस (Photo Credit: फाइल)

नई दिल्ली:

चीन के वुहान शहर में प्रारंभिक नोवेल कोरोनावायरस (Corona Virus) मामलों की चिकित्सक फाइलों को हाल ही में सार्वजनिक किया गया. चीन में सबसे पहले महामारी की रिपोर्ट करने वाली डाक्टर चांग चीश्येन ने इन मामलों का प्रारंभिक निदान किया. पिछले साल 26 से 29 दिसंबर तक हुपेइ प्रांत के परंपरागत चिकित्सा और पश्चिमी चिकित्सा के मिश्रित अस्पताल के रिस्पेरेटरी विभाग की डाक्टर चांग चीश्येन ने सात अकारण निमोनिया मामले देखे.

उन्हें सबसे पहले महामारी का आसार दिखा और अस्पताल को दो बार रिपोर्ट दीं, जिसके बाद महामारी की रोकथाम का बिगुल बजा. महामारी के सिंहावलोकन करते हुए डॉ. च्यांग चीश्येन ने कहा कि शुरू में लगा कि वह शायद संक्रमण फैलाने वाला रोग था, लेकिन बाद में देखा गया कि उसके फैलने की शक्ति बहुत मजबूत है, फैलने का दायरा बहुत बड़ा है और बीमारी बहुत गंभीर है.

यह भी पढ़ें-Lock Down relaxation: सोमवार से बदलेंगे लॉकडाउन के नियम, जानें क्या करें और क्या नहीं

डॉ. च्यांग चीश्येन ने कहा कि स्थानीय बीमारी रोकथाम और नियंत्रण केंद्र की प्रतिक्रिया बहुत तेज थी. उन्होंने 27 दिसंबर को मामलों की रिपोर्ट की. उस दिन दोपहर बाद ही केंद्र के लोगों ने अस्पताल आकर संक्रमणकारी रोग की जांच शुरू की. 29 दिसंबर को फिर एक बार रिपोर्ट करने के बाद केंद्र के लोग फिर आये.

यह भी पढ़ें-Lock Down in Pakistan: कंगाल पाकिस्तान में एक और शर्मनाक वाक्या, सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी

डॉ. च्यांग चीश्येन ने कहा कि रोग की पहचान के लिए एक प्रक्रिया होती है. इसका साफ पता लगने से पहले कुछ कहा नहीं जा सकता. इस पर हमें वैज्ञानिक और सावधान रुख अपनाना चाहिए.

First Published : 20 Apr 2020, 02:30:00 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो