News Nation Logo

शराबबंदी का नागालैंड में असर कम, मिजोरम में ज्यादा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Jul 2022, 04:00:01 PM
wine hop

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

आइजोल/कोहिमा:   ईसाई बहुल दो पूर्वोत्तर राज्य मिजोरम और नागालैंड में शराबबंदी का हाल यह है कि नागालैंड, जहां 33 साल पहले शराब पर प्रतिबंध लागू हुआ था, लेकिन इस समय प्रभावी ढंग से लागू नहीं किया गया है, जबकि मिजोरम में शराबबंदी का पूरा असर दिखता है।

नागालैंड में पूर्ण शराब निषेध (एनएलटीपी) अधिनियम, 1989, शराब के कब्जे, बिक्री, खपत, निर्माण, आयात और निर्यात पर प्रतिबंध लगा है।

मिजोरम शराब (निषेध) अधिनियम, 2019 को लागू करने के बाद मिजोरम शराब (निषेध और नियंत्रण) या एमएलपीसी अधिनियम, 2014 की जगह, मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) सरकार ने 28 मई, 2019 को शराब की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगा दिया था।

मिजोरम में शराब के कारोबार पर सरकार की कार्रवाई के बाद अंगूर से बनी शराब की बिक्री और खपत को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

लेकिन अक्सर सार्वजनिक डोमेन में एक बहस सामने आती है कि क्या दोनों राज्यों में शराबबंदी को और अधिक कड़ा किया जाना चाहिए या पूरी तरह से ढिलाई दी जानी चाहिए।

शराबबंदी हटाने का सुझाव देते हुए सत्तारूढ़ नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के विधायक के. टी. सुखालू ने महसूस किया कि शराब की बिक्री से होने वाले राजस्व का उपयोग शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए किया जा सकता है।

स्कूली शिक्षा के सलाहकार सुखालू ने कहा कि राज्य द्वारा उत्पन्न राजस्व स्वास्थ्य और शिक्षा सुविधाओं में सुधार के लिए पर्याप्त नहीं है।

उन्होंने पिछले हफ्ते एनएलटीपी एक्ट को हटाने की मांग की थी।

यह देखते हुए कि कई लोग उनके सुझाव को स्वीकार नहीं करेंगे, विधायक ने स्पष्ट किया कि वह शराब की खपत का समर्थन नहीं करते हैं, लेकिन दावा किया कि पहाड़ी राज्य के हर नुक्कड़ पर नकली शराब उपलब्ध है।

सुखालू ने कहा, हमने नागालैंड में उपलब्ध स्थानीय शराब के नमूनों की जांच की है और सभी नकली पाए गए हैं।

राज्य में एनएलटीपी अधिनियम, 1989 को ठीक से लागू करने के प्रयास में नागालैंड आबकारी विभाग के लिए जनशक्ति की कमी एक बड़ी बाधा है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने मिजोरम का उदाहरण दिया, जिसकी आबादी 12.6 लाख थी, लेकिन उसके पास 559 आबकारी कर्मियों की स्वीकृत संख्या थी, जबकि नागालैंड में लगभग 20 लाख की आबादी के लिए 335 थी।

अधिकारी ने नाम जाहिर करने से इनकार करते हुए कहा, नागालैंड में आबादी के आकार को देखते हुए आबकारी विभाग को शराबबंदी कानून को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए लगभग 1,020 कर्मियों की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि मिजोरम में गैर सरकारी संगठन मिजोरम शराब (निषेध) अधिनियम, 2019 को क्रियान्वित करने में बहुत सक्रिय हैं, लेकिन नागालैंड में इसकी कमी है।

अधिकारी के मुताबिक, नागालैंड आबकारी विभाग का अनुमानित राजस्व सृजन लगभग 250 करोड़ रुपये से 300 करोड़ रुपये था।

मिजोरम के आबकारी और नारकोटिक्स मंत्री के. बीछुआ ने कहा कि राज्य सरकार ने आने वाली पीढ़ियों को शराब और नशीले पदार्थो के खतरे से बचाने और एक स्वच्छ मिजो समाज की स्थापना के लिए मिजोरम शराब (निषेध) अधिनियम, 2019 बनाया है।

उन्होंने कहा कि कानून बनने से राज्य सरकार को सालाना 60 से 70 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है, लेकिन राजस्व का नुकसान मानव जीवन और पीड़ा के नुकसान से काफी कम है। इसका बड़ा सामाजिक लाभ है, जो अधिक महत्वपूर्ण है।

मिजोरम लगभग 18 वर्षो तक एक शुष्क राज्य था, जब तक कि पिछली कांग्रेस सरकार ने जनवरी 2015 में शराब की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध नहीं हटा लिया था। ईसाई बहुल राज्य में शराब की दुकानें फलने-फूलने लगीं।

बेकहुआ ने दावा किया कि प्रतिबंध हटने के बाद कई सौ लोग, जिनमें ज्यादातर युवा थे, शराब के सेवन और सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए।

हालांकि, कुछ राजनीतिक पंडित 2018 के विधानसभा चुनावों में अपने अंतिम राजनीतिक गढ़ में हार के लिए कांग्रेस की उदार शराब नीति को जिम्मेदार ठहराते हैं।

साल 2003-04 से मिजोरम में कई सौ किसान वाइन बनाने के लिए राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी मिशन के तहत बंगलौर ब्लू किस्म सहित अंगूर की विभिन्न किस्में उगा रहे हैं।

साल 2007 में मिजोरम सरकार ने मिजोरम लिकर टोटल प्रोहिबिशन एक्ट, 1995 में ढील दी थी, जिसमें 14 प्रतिशत अल्कोहल सामग्री के साथ वाइन के निर्माण की अनुमति दी गई थी।

मिजोरम के प्रभावशाली चर्चो को डर है कि उच्च अल्कोहल सामग्री वाले अंगूर शुष्क राज्य में हार्ड ड्रिंक के विकल्प के रूप में काम करेंगे।

राज्य के आबकारी और नारकोटिक्स विभाग के अधिकारियों द्वारा मिजोरम निर्मित वाइन पर हाल ही में की गई कार्रवाई की गंभीर प्रतिक्रिया देखी गई है, अंगूर की खेती करने वालों, शराब निमार्ताओं और नेटिजन्स ने सोशल मीडिया और विभिन्न अन्य प्लेटफार्मो पर सरकार की कार्रवाई की निंदा की है।

व्यापार में शामिल लोगों ने मिजोरम सरकार पर बागवानी उत्पादों के खिलाफ युद्ध छेड़ने का आरोप लगाया है, तो वहीं छापा मारने वाले अधिकारियों ने कहा है कि यह कोरियाई वाइन की स्वतंत्र रूप से बिक्री के खिलाफ कार्रवाई थी।

मिजोरम के भारतीय जनता पार्टी के एकमात्र विधायक बुद्ध धन चकमा ने कहा कि वह शराबबंदी पर मिजोरम सरकार की नीति को नहीं समझ सकते, क्योंकि जब्त की गई शराब हाल ही में एक केंद्रीय मंत्री को परोसी गई थी।

आबकारी अधिकारियों ने हाल ही में मिलेनियम सेंटर, आइजोल के सबसे बड़े शॉपिंग मॉल और होटलों में डिपार्टमेंटल स्टोर्स पर छापेमारी की, जिसमें भारी मात्रा में आयातित और स्थानीय तौर पर बनाई गई शराब बरामद हुई थी।

विपक्षी कांग्रेस ने एक महिला विक्रेता की मौत पर आबकारी मंत्री बीछुआ के इस्तीफे की मांग की है, क्योंकि अधिकारियों ने उसकी दुकान से स्थानीय तौर पर बनी बोतलबंद अंगूरी शराब पर्याप्त मात्रा में जब्त कर ली थी, जिससे महिला कथित तौर पर अवसाद का शिकार हुई थी।

कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि 52 वर्षीय विधवा लल्हरियतपुई की आय का मुख्य स्रोत अंगूर की शराब थी, जो वह अपनी दुकान में बेचती थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Jul 2022, 04:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.