News Nation Logo
Banner

जब पीएम मोदी-ट्रंप बात कर रहे थे तब दंगों में झुलस रहे थे लोग, जानें विदेशी मीडिया ने दिल्‍ली दंगों पर क्‍या कहा

दिल्‍ली की हिंसा को विदेशी मीडिया प्राथमिकता से प्रभावित कर रहा है. कहीं हिंसा के पीछे बीजेपी का हाथ बताया जा रहा है तो कहीं दिल्‍ली पुलिस की नाकामी पर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 28 Feb 2020, 08:51:43 AM
delhi Violence, Foreign Media, Donald Trump, PM Narendra Modi, India

दिल्‍ली हिंसा की वीभत्‍स तस्‍वीर (Photo Credit: Twitter)

नई दिल्‍ली:

राजधानी दिल्‍ली ने 1984 के बाद सबसे बड़ी हिंसा (Delhi Violence) का दंश झेला है. 21वीं सदी में हुई इस तरह की हिंसा से देश का सिर शर्म से झुक गया है. ऐसे में विदेशी मीडिया को भारत के खिलाफ बड़ा मौका हाथ लगा है. ऐसे समय में जब देश 5 ट्रिलियन डॉलर (5 Trillion Dollar Economy)  की इकोनॉमी के सपने पूरे करने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रहा है, तब इस तरह की हिंसा हमें सदियों पीछे की ओर ले जाती है, जिससे हुए नुकसान की भरपाई शायद ही कभी हो पाए. दिल्‍ली की हिंसा को विदेशी मीडिया प्राथमिकता से प्रभावित कर रहा है. कहीं हिंसा के पीछे बीजेपी का हाथ बताया जा रहा है तो कहीं दिल्‍ली पुलिस की नाकामी पर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं. आइए जानते हैं दिल्ली हिंसा पर दुनिया के चार बड़े अखबारों ने क्‍या लिखा :

यह भी पढ़ें : दिल्ली हिंसा : एसआईटी ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत

न्यूयॉर्क टाइम्स, अमेरिका: जब ट्रम्प व मोदी बात कर रहे थे, तब हजारों लोग हिंसा में झुलस रहे थे
न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स लिखता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की दिल्‍ली में मौजूदगी के दौरान ही वहां दंगा शुरू हो गया था. कई इलाकों में हुई हिंसा में दर्जन भर से ज्यादा लोगों की मौतें हुईं. ट्रम्प और पीएम नरेंद्र मोदी की बातचीत के दौरान हजारों लोग हिंसा का सामना कर रहे थे. सड़कों पर पेट्रोल बम और गोलियां चल रही थी और भीड़ वाहनों पर हमले कर रही थी. बड़ी संख्या में पत्रकार और पुलिस के जवान भी घायल हुए.

यह भी पढ़ें : दिल्ली हिंसा : बिहार के युवक की मौत, सब्जी लेकर लौटते समय भीड़ से हो गया सामना

CNN, अमेरिका: भीड़ आग लगा रही थी, पुलिस देख रही थी
भारत में नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच हुई हिंसा में कई लोग जान गंवा चुके हैं. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत पहुंचे, तभी यह हिंसा शुरू हुई पुलिस आंसू गैस छोड़ रही थी, फिर भी दो समुदाय एक-दूसरे पर पथराव कर रहे थे. भीड़ दुकानों-पेट्रोल पंपों में आग लगा रही थी और पुलिस सिर्फ देख रही थी. राज्य के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पुलिस को नाकामयाब बता रहे हैं, इसलिए सेना को बुलाया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें : ईरान पहुंचा कोरोना वायरस, उपराष्ट्रपति मासूम्हे इब्तेकार भी बनीं शिकार

गार्जियन, ब्रिटेन: दिल्‍ली में दशक की सबसे बड़ी धार्मिक हिंसा, कई लोग बेघर हुए
ब्रिटेन का अखबार गार्जियन लिखता है, भारत की राजधानी दिल्ली में भड़की यह दशक की सबसे बड़ी धार्मिक हिंसा है. हिंदूओं की भीड़ ने मुस्लिमों के घरों और कई मस्जिदों पर हमला किया. रविवार को हिंसा तब भड़की, जब हिंदू और मुस्लिम समूह एक-दूसरे के सामने आ गए. बुधवार की रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ मुस्लिमों के घरों में लूटपाट भी हुई है. कई लोग बेघर हो गए हैं. 200 से ज्यादा लोग गोलीबारी में घायल हुए हैं.

यह भी पढ़ें : दंगाई पत्थर चलाते रहे और हिंदू-मुस्लिम एक साथ दुर्गा मंदिर बचाते रहे

BBC, ब्रिटेन: हिंदू-मुस्लिमों की बीच हिंसा से दिल्ली में स्थिति तनावपूर्ण
दिल्ली में हिंसा से माहौल तनावपूर्ण है. लगातार तीसरे दिन भीड़ ने मुस्लिम लोगों के घरों और दुकानों को निशाना बनाया. यह राजधानी में इस दशक की सबसे बड़ी हिंसा है. यह हिंसा रविवार शाम को तब शुरू हुई, जब CAA समर्थक और विरोधी एक-दूसरे से भीड़ गए.

First Published : 28 Feb 2020, 08:32:21 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×