News Nation Logo
Banner

पाकिस्‍तान को धूल चटाने वाले पायलट अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र, जानें इसके बारे में

बालाकोट में आतंकियों के ठिकाने को नेस्‍तानबूद करने वाले भारतीय वायुसेना के 5 पायलटों को वायुसेना मेडल से सम्‍मानित किया जाएगा.

By : Sunil Mishra | Updated on: 14 Aug 2019, 01:57:20 PM
पायलट अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र, जानें इसके बारे में

पायलट अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र, जानें इसके बारे में

नई दिल्ली:

बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तान के दुस्‍साहस का मुंहतोड़ जवाब देने और अमेरिकी F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने वाले वीर जांबाज भारतीय वायु सेना (IAF) के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को वीर चक्र से सम्‍मानित किया जाएगा. साथ ही स्‍क्‍वाड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल को बालाकोट एयर स्‍ट्राइक में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए युद्ध सेवा मेडल से सम्‍मानित किया जाएगा. वहीं बालाकोट में आतंकियों के ठिकाने को नेस्‍तानबूद करने वाले भारतीय वायुसेना के 5 पायलटों को वायुसेना मेडल से सम्‍मानित किया जाएगा. गुरुवार को स्वतंत्रता दिवस पर विंग कमांडर अमित रंजन, स्‍क्‍वाड्रन लीडर राहुल बसोया, पंकज भुजडे, बीकेएन रेड्डी, शशांक सिंह को वायु सेना पदक (वीरता) दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें : बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक करने वाले 5 पायलटों को मिलेगा वायुसेना मेडल

वीर चक्र के बारे में जानें

  • वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर वीर चक्र से सम्‍मानित किया जाएगा.
  • विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने 27 फरवरी, 2019 को भारतीय हवाई क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश कर रहे पाकिस्‍तानी एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था.
  • हालांकि इस दौरान उनका मिग-21 भी हादसे का शिकार हो गया था और वह पैराशूट से उतरने के दौरान पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में जा पहुंचे.
  • भारतीय वायु सेना की स्क्वाड्रन लीडर मिन्टी अग्रवाल को युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित किया जाएगा.
  • स्क्वाड्रन लीडर मिन्टी अग्रवाल को बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तानी वायुसेना के बीच संघर्ष के दौरान एक लड़ाकू नियंत्रक के रूप में उनकी भूमिका के लिए यह पुरस्कार दिया जाएगा.
  • भारत सरकार द्वारा 26 जनवरी, 1950 को तीन वीरता पुरस्कार शुरू किये गये थे जिनके नाम हैं; परम वीर चक्र, महावीर चक्र और वीर चक्र.
  • वीर चक्र भारत में युद्ध के समय दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च सम्मान है.
  • भारत सरकार इन पुरस्कारों को जीतने वाले सैनिकों या उनके परिवारों को हर महीने कुछ भत्ता देती है.
  • वीर चक्र के लिए हर महीने 7000 रुपया भत्ता मिलता है.
  • इससे पहले 2002 में गणतंत्र दिवस के अवसर पर गढ़वाल राइफल्स के अमिताभ रॉय को वीर चक्र से सम्मानित किया गया था.

वीर चक्र मेडल गोलाकार और स्टैण्डर्ड सिल्वर निर्मित है और इसके अग्रभाग पर पांच कोनों वाला उभरा हुआ तारा उत्कीर्ण किया गया है. इसके कोने गोलाकार किनारों को छू रहे हैं. इसके केंद्र भाग में राज्य का प्रतीक (ध्येय सहित) उत्कीर्ण है जो उभरा हुआ है. तारा पॉलिश किया हुआ है और केन्द्र भाग स्वर्ण-कलई में है. इसके पश्च भाग पर हिन्दी और अंग्रेजी शब्दों के बीच में दो कमल के फूलों के साथ हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में वीर चक्र उत्कीर्ण किया गया है. इसकी फिटिंग घुमाऊ उभारयुक्त है.

यह भी पढ़ें : वार रूम का मैसेज मिल गया होता तो पाकिस्‍तान में जाकर न गिरते अभिनंदन वर्तमान

फीता: फीता आधा नीला रंग और आधा नारंगी रंग का है.

यदि कोई चक्र प्राप्तकर्ता दोबारा ऐसी ही बहादुरी का कार्य करता है जो उसे चक्र प्राप्त करने हेतु पात्र बनाता है तो आगे ऐसा बहादुरी का कार्य किसी बार द्वारा उस फीता / पट्टी में जोड़े जाने के लिए रिकार्ड किया जाएगा जिसके द्वारा चक्र संलग्न हो जाता है. ऐसा कोई बार अथवा बार्स मरणोपरान्त भी प्रदान किया जा सकता है. प्रदत्त प्रत्येक बार के लिए, लघुचित्र में “चक्र” की प्रतिकृति, इसे अकेले पहनते समय फीते/पट्टी में सम्मिलित की जाएगी.

First Published : 14 Aug 2019, 01:57:20 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो