News Nation Logo
Banner

तृणमूल के लिए भाजपा छोड़ रहे विधायक प्रवासी पक्षियों जैसे : दिलीप घोष

तृणमूल के लिए भाजपा छोड़ रहे विधायक प्रवासी पक्षियों जैसे : दिलीप घोष

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Sep 2021, 11:35:01 PM
Wet Bengal

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में भाजपा के कुछ और विधायकों के पार्टी छोड़कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने की आशंका जताते हुए राज्य भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने गुरुवार को कहा कि जो लोग पार्टी छोड़ रहे हैं वे प्रवासी पक्षियों की तरह हैं।

घोष ने आईएएनएस को बताया कि केवल वही विधायक तृणमूल में लौट रहे हैं, जो पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले भगवा खेमे में शामिल हुए थे।

उन्होंने कहा, हमें छोड़कर तृणमूल में शामिल होने वाले विधायक प्रवासी पक्षियों की तरह हैं, जो अब चुनावी मौसम खत्म होने के बाद घर लौट रहे हैं।

इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनावों में तृणमूल कांग्रेस की प्रचंड जीत के बाद भाजपा के चार विधायक फिर से सत्ताधारी दल में शामिल हो गए हैं।

जून में, भाजपा के तत्कालीन राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और कृष्णानगर उत्तर से विधायक मुकुल रॉय ने भाजपा छोड़ दी और तृणमूल में शामिल हो गए।

हाल ही में, तीन भाजपा विधायक - बिष्णुपुर से तन्मय घोष, बगदा से विश्वजीत दास और कालियागंज से सौमेन रॉय भी तृणमूल के पाले में लौट आए।

पश्चिम बंगाल विधानसभा में भाजपा की ताकत अब 77 से घटकर 71 हो गई है। दो विधायकों ने अपनी लोकसभा सीटों को बरकरार रखने के लिए इस्तीफा दे दिया और चार अन्य तृणमूल खेमे में लौट आए।

घोष ने कहा, चुनाव से पहले, कई अन्य विधायकों की तरह, ये विधायक (रॉय को छोड़कर जो 2017 में भाजपा में शामिल हुए थे) तृणमूल से भाजपा में शामिल हो गए थे। अब भाजपा की संस्कृति और कार्यशैली के साथ फिट होने में असमर्थ, वे अपनी पुरानी पार्टी में वापस लौट रहे हैं। वे यहां समायोजित करने में असमर्थ हैं।

यह पूछे जाने पर कि एक दर्जन से अधिक भाजपा विधायक बंगाल में सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल होने के लिए तैयार हैं, घोष ने कहा, यह सच नहीं है। केवल कुछ विधायक, जो तृणमूल से आकर शामिल हुए थे, लौटने की कोशिश कर रहे हैं, राज्य प्रशासन की विभिन्न एजेंसियों के दबाव आदि जैसे कई कारणों से। भाजपा का कोई भी कार्यकर्ता पार्टी नहीं छोड़ रहा है, केवल वे जो विधानसभा चुनाव से पहले हमारे साथ शामिल हुए थे, वे चले गए हैं।

इससे पहले, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने दावा किया था कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पार्टी विधायकों को झूठे मामलों में धमकाने के लिए राज्य प्रशासन और पुलिस का दुरुपयोग कर रही हैं और दबाव में आकर वे जीत के बावजूद तृणमूल में शामिल हो रहे हैं।

विजयवर्गीय ने कहा था कि भाजपा विधायकों के तृणमूल में शामिल होने के पीछे डराना, झूठे मामले, दबाव और राज्य मशीनरी का दुरुपयोग मुख्य कारण हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 Sep 2021, 11:35:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.