logo-image

Summer Season: देश में पड़ने वाली है भयंकर गर्मी, टूटेंगे सभी रिकॉर्ड!

भारत में इस बार गर्मी बहुत तेज होने वाली है. आलम ये है कि साउथ इंडिया में गर्मी का असर अभी से ही दिखने लगा है. पिछले कुछ दिनों में यहां न्यूनतम तापमान और अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी का दौर जारी है.

Updated on: 29 Feb 2024, 05:48 PM

नई दिल्ली:

Summer Season: भारत में ठंड का मौसम खत्म हो चूका है. गर्मी की शुरूआत हो चूकी है. लेकिन अभी देखा जा राह है कि सुबह और रात के समय में लोगों को ठंड लगती है. वहीं, मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि 25 दिन बाद से ही गर्मी का प्रकोप दिखाई देने लगेगा. हमारे बड़े बुजुर्ग कहा करते थें कि होली की समाप्ति के साथ ही ठंड खत्म हो जाता है. लेकिन अब सीजन बदल चूका है. कहा जा रहा है कि होली के बाद से ही उत्तर भारत और मध्य भारत में भयंकर गर्मी देखने को मिलेगा. इतना ही नहीं यहां कुछ राज्यों में लू भी देखने को मिल सकता है. 

भारत में इस बार गर्मी बहुत तेज होने वाली है. आलम ये है कि साउथ इंडिया में गर्मी का असर अभी से ही दिखने लगा है. पिछले कुछ दिनों में यहां न्यूनतम तापमान और अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी का दौर जारी है. इतना ही नहीं महाराष्ट्र और ओडिशा में दिन का तापमान सामान्य से 4 से 5 डिग्री अधिक हो गया है. वहीं मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि पिछले 2 साल से देखा जा रहा है कि फरवरी के तीसरे सप्ताह से ही तापमान में अचानक वृद्धि देखी जा रही है. वेदर एक्सपर्ट का कहना है कि साल 2023 में 3 मार्च के बाद से ही साउथ इंडिया में लू शरू हो गया था. वहीं ये दौर मई के तीसरे सप्ताह तक जारी रहा. साल 2022 में 11 मार्च को लू देखने मिला था जो जून के पहले सप्ताह तक जारी रहा. माना जा रहा है कि यही ट्रेंड इस साल भी जारी रहेगा. 

मौसम में बदलाव

पूरे भारत में क्लामेंट चेंज का खासा असर दिख रहा है इसकी वजह से फरवरी में ठंड की समाप्ति के साथ ही गर्मी का सीजन शुरू हो जा रहा है. इसकी वजह से लोगों को बसंत ऋतु दखने को नहीं मिल रहा है. कहा जा रहा है कि अल नीनो की वजह से प्रशांत महासागर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के क्षेत्र में तापमान बीते कुछ सालों में सामान्य से अधिक तापमान दर्ज किया जा रहा है. मौसम विभाग ने कहा है अक्टूबर से फरवरी के बीच ही वेस्टर्न डिस्टर्बेंस देखने को मिलता है. आपको बता दें कि पहाड़ों में बर्फबारी और उत्तर, मध्य भारत में बारिश होती है. लेकिन इस साल 21 वेस्टर्न डिस्टर्बेंस जनवरी से अक्टूबर के बीच आए जिसमें से सिर्फ 4 ही एक्टिव रहे.  

नासा की एडवाइजरी

अगर देश में गर्मी का मौसम जारी रहा है और तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जाती है तो लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. वहीं इसकी वजह के देश में खेती के कामों में भी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. इसकी वजह से कई फसल बर्बाद हो सकते हैं. वहीं कहा जा रहा है कि जिन इलाकों में हीट वेब दिखाई देगा वहां गर्मी का असर सबसे ज्यादा देखाई देगा. इस मामले पर अमेरिकी एजेंसी नासा ने भी एडवाइजरी जारी की है. नासा का कहना है कि साल 2016 के मुताबले साल 2023 में अधिक गर्मी देखने को मिला लेकिन 2024 में ये उससे भी ज्यादा देखने को मिलेगा.