News Nation Logo
Banner

काबुल के सुरक्षा प्रमुख हक्कानी को अमेरिका ने 10 साल पहले घोषित किया था आतंकवादी

काबुल के सुरक्षा प्रमुख हक्कानी को अमेरिका ने 10 साल पहले घोषित किया था आतंकवादी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Aug 2021, 09:00:01 PM
War-torn Afghanitan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

वाशिंगटन/नई दिल्ली: काबुल में तालिबान के नए स्व-घोषित सुरक्षा प्रमुख, हक्कानी नेटवर्क के खलील हक्कानी, जो पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का करीबी है, को 10 साल पहले अमेरिका द्वारा आतंकवादी के रूप में नामित किया गया था।

अमेरिका ने उसे पकड़ने के लिए अग्रणी जानकारी देने वाले को 50 लाख डॉलर का इनाम भी रखा था।

एनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, 2011 में, तत्कालीन शीर्ष अमेरिकी सैन्य अधिकारी माइक मुलेन ने कांग्रेस को बताया था कि हक्कानी नेटवर्क पाकिस्तान की मुख्य खुफिया एजेंसी आईएसआई का एक प्रमुख सहयोगी है।

तालिबान समूह को अमेरिकी सरकार द्वारा कभी भी आतंकवादी संगठन के रूप में नामित नहीं किया गया था, लेकिन हक्कानी नेटवर्क, जिसका अल-कायदा और पाकिस्तानी खुफिया से घनिष्ठ संबंध है, को लंबे समय से आतंकी संगठन के तौर पर माना गया है।

एनबीसी ने बताया कि हक्कानी नेटवर्क, जो अधिकारियों का कहना है कि एक संगठित आपराधिक परिवार की तरह काम करता है, को कई अमेरिकियों के अपहरण के लिए एक व्यापक अपहरण-फिरौती व्यवसाय के हिस्से के रूप में दोषी ठहराया गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि डौग लंदन ने कहा है कि खलील हक्कानी ने समूह के संचालन प्रमुख के रूप में काम किया है, जिसने सेवानिवृत्त होने से पहले अफगानिस्तान में सीआईए आतंकवाद विरोधी अभियान चलाया था।

एनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, लंदन ने कहा कि 2018 में उस भूमिका में उसने अमेरिकी सेना और अफगान नागरिकों के खिलाफ आत्मघाती बम विस्फोटों को मंजूरी दी थी।

एनबीसी ने कहा कि जब एजेंसी सोवियत आक्रमण के खिलाफ तालिबान के अग्रदूतों को हथियार दे रही थी और प्रशिक्षण दे रही थी, तब वह सीआईए का भागीदार भी था।

उसे 2011 में अमेरिकी सरकार द्वारा एक आतंकवादी नामित किया गया था। विदेश विभाग ने खलील हक्कानी के बारे में यह भी कहा है कि उसने अल कायदा की ओर से भी काम किया है और वह अल कायदा के आतंकवादी अभियानों से जुड़ा रहा है।

अपने सीआईए करियर के बारे में एक नई किताब, द रिक्रूटर के लेखक लंदन ने कहा, वह अल कायदा नेतृत्व का वरिष्ठ दूत और पाकिस्तानी खुफिया विभाग का वरिष्ठ अधिकारी रहा है।

वह हक्कानी नेटवर्क के लिए दिन-प्रतिदिन के बहुत सारे निर्णय लेता है।

लंदन ने कहा कि खलील हक्कानी सीआईए का भागीदार रहा है, जब एजेंसी 1980 के दशक में सोवियत सैनिकों से लड़ने के लिए अफगान विद्रोहियों को हथियार मुहैया करा रही थी। वह सिराजुद्दीन हक्कानी का चाचा है, जो एक वांछित आतंकवादी भी है, जिस पर 50 लाख डॉलर का इनाम है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Aug 2021, 09:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो