News Nation Logo

तालिबान के अपराधों की जांच करेगी आईसीसी

तालिबान के अपराधों की जांच करेगी आईसीसी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Sep 2021, 11:15:01 PM
War crime

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय आपराधिक अदालत (आईसीसी) के नए अभियोजक ने 2003 से अफगानिस्तान में तालिबान और इस्लामिक स्टेट के समर्थकों द्वारा किए गए मानवता के खिलाफ कथित अपराधों की जांच फिर से शुरू करने के लिए अदालत से गुहार लगाई है। द गार्जियन ने अपनी एक रिपोर्ट में यह दावा किया है।

करीम खान का यह कदम न केवल अतीत बल्कि मानवता के खिलाफ समकालीन अपराधों की जांच के लिए अंतरराष्ट्रीय कानून का उपयोग करने का ²ढ़ संकल्प दिखाता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि हेग स्थित आईसीसी ने नीदरलैंड में अफगानिस्तान के दूतावास के माध्यम से तालिबान को सूचित किया है कि वह एक जांच फिर से शुरू करना चाहता है।

अशरफ गनी की तत्कालीन अफगान सरकार द्वारा आईसीसी वकीलों के सहयोग से सबूत इकट्ठा करने के लिए समय दिए जाने के अनुरोध के बाद अप्रैल 2020 में एक पिछली आईसीसी जांच को टाल दिया गया था।

एक ब्रिटिश क्यूसी खान ने आईसीसी अभियोजक के तौर पर कहा, घिनौने और आपराधिक कृत्यों को तुरंत बंद कर देना चाहिए और नूर्मबर्ग में 75 साल पहले स्थापित किए गए सिद्धांतों की पुष्टि करने और मानवता की बुनियादी जिम्मेदारी का सम्मान करने के लिए जांच शुरू होनी चाहिए।

उनके निवेदन में कहा गया है कि अफगानिस्तान के भीतर अपराधों की वास्तविक और प्रभावी घरेलू जांच की अब कोई संभावना नहीं है।

द गार्जियन ने बताया, तालिबान द्वारा अफगानिस्तान के क्षेत्र का वर्तमान वास्तविक नियंत्रण, और इसके निहितार्थ (अफगानिस्तान में कानून प्रवर्तन और न्यायिक गतिविधि सहित), वर्तमान आवेदन की आवश्यकता वाली परिस्थितियों में एक मौलिक परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है।

वह बताते हैं कि विश्वसनीय रिपोटरें से पता चलता है कि तालिबान ने बगराम एयरबेस हिरासत सुविधाओं से कथित रूप से अल-कायदा और आईएस आतंकवादी समूहों से जुड़े हजारों कैदियों को रिहा कर दिया है। यह कार्रवाई इस धारणा का समर्थन नहीं करती है कि क्या तालिबान वास्तव में अभी या भविष्य में अनुच्छेद 5 अपराधों की जांच करेगा।

नरसंहार प्रतिक्रिया के लिए गठबंधन ने घोषणा का स्वागत करते हुए कहा कि हाल के महीनों में हजारा समुदाय के खिलाफ नरसंहार सहित अत्याचार अपराधों के गंभीर जोखिम देखे गए हैं।

इसमें कहा गया है कि आईसीसी के उच्च-स्तरीय अपराधियों पर मुकदमा चलाने का जनादेश जहां राज्य असमर्थ या अनिच्छुक रहते हैं, उन्हें लगातार लागू किया जाना चाहिए और इसे बिना किसी डर या पक्षपात के अमल में लाया जाना चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Sep 2021, 11:15:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो