News Nation Logo
Banner

विवेक डोभाल मानहानि केस : जयराम रमेश को मिली छूट, परेश नाथ और कौशल श्रॉफ को जमानत

विवेक डोभाल मानहानि केस : जयराम रमेश को मिली छूट, परेश नाथ और कौशल श्रॉफ को जमानत

By : Deepak Pandey | Updated on: 25 Apr 2019, 11:47:37 AM
एनएसए अजीत डोभाल के बेटे विवेक डोभाल

एनएसए अजीत डोभाल के बेटे विवेक डोभाल

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के बेटे विवेक डोभाल के मानहानि मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने 'कारवां' पत्रिका के संपादक परेश नाथ और कौशल श्रॉफ को जमानत दे दी. इसके साथ ही अदालत ने वरिष्ठ कांग्रेसी नेता जयराम रमेश को अदालत में निजी तौर पर उपस्थित नहीं रहने की छूट भी दी. अब इस मामले की अगली सुनवाई 9 मई को होगी. यह मामला 'कारवां' पत्रिका में छपे उस लेख से जुड़ा है जिसमें विवेक डोभाल पर केमन आइलैंड में हेज फंड चलाने का आरोप लगाया गया था.

यह भी पढ़ेंः Sri Lanka Blast : एक बार फिर दहल उठा श्रीलंका, कोलंबो से महज 40 किमी दूर पुगोड़ा शहर में हुआ धमाका

इससे पहले एनएसए अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल द्वारा पत्रिका 'कारवां' तथा वरिष्ठ कांग्रेसी नेता जयराम रमेश के खिलाफ दायर मानहानि केस में दो गवाहों ने विवेक के समर्थन में कोर्ट में बयान दर्ज कराए थे. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने जयराम रमेश, पत्रिका संपादक और रिपोर्टर को समन जारी किया था. कोर्ट ने तीनों को बतौर आरोपी 25 अप्रैल को पेश होने का निर्देश दिया था.

यह भी पढ़ेंः CJI यौन उत्पीड़न केस में जस्टिस मिश्रा ने कहा, कंट्रोल करने से बाज आएं पावरफुल और रईस लोग

आज सुनवाई के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता के वकील में उन्हें पेश होने में छूट देने की दरख्वास्त की. रिबेका जॉन परेश नाथ की ओर से अदालत में उपस्थित हुई थीं. इस पर अदालत ने जयराम रमेश को सिर्फ गुरुवार को अदालत में पेश नहीं होने की छूट दे दी. इसके साथ ही कारवां पत्रिका के संपादक परेश नाथ और कौशल श्रॉफ को 20 हजार रुपए के निजी मुचलके और एक लाख की गारंटी पर जमानत दे दी.

यह भी पढ़ेंः Jammu-Kashmir : पीपुल्स कांफ्रेंस के नेता इमरान रजा अंसारी के ठिकाने पर Income Text का छापा

पत्रिका पर कथित अपमानजनक लेख प्रकाशित करने तथा रमेश पर उस आलेख का इस्तेमाल करने का आरोप है. 'कारवां के खिलाफ दाखिल आपराधिक मानहानि केस में विवेक के दोस्त निखिल कपूर तथा बिजनेस पार्टनर अमित शर्मा ने उनके समर्थन में अपने बयान दर्ज कराए थे. इसके पहले विवेक ने 30 जनवरी को दर्ज कराए अपने बयान में कहा था कि पत्रिका द्वारा लगाए गए सारे आरोप 'बेबुनियाद' तथा 'झूठे' हैं, जिन्हें बाद में कांग्रेसी नेता रमेश ने भी एक प्रेस कांफ्रेंस में दोहराए थे. इससे उनके पारिवारिक सदस्यों तथा कारोबारी सहयोगियों के बीच उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा है.

यह भी पढ़ेंः विपक्ष के PM उम्मीदवार के सवाल पर मायावती ने बीजेपी को दिया ऐसा करारा जवाब

बता दें कि कि 'कारवां' ने 16 जनवरी को 'द डी कंपनीज' शीर्षक से प्रकाशित ऑनलाइन आलेख में कहा था कि विवेक डोभाल 'केमन आइलैंड में हेज फंड' चलाते हैं, जो एक स्थापित टैक्स हैवन है और इसका पंजीयन नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा 2016 में घोषित नोटबंदी के महज 13 दिन बाद हुआ था.

First Published : 25 Apr 2019, 11:07:22 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो