News Nation Logo

वीरभद्र सिंह: राजा साहब का राजनीतिक उतार-चढ़ाव

वीरभद्र सिंह: राजा साहब का राजनीतिक उतार-चढ़ाव

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 08 Jul 2021, 03:40:02 PM
Virbhadra Singh

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

शिमला: कांग्रेस के दिग्गज नेता वीरभद्र सिंह, जो आधी सदी से अधिक समय से सक्रिय राजनीति में थे, उन्होंने रिकॉर्ड छठी और आखिरी बार 25 दिसंबर, 2012 को हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

वीरभद्र सिंह, को शिक्षा, सामाजिक, बुनियादी ढांचे और बिजली क्षेत्रों में सुधारों का श्रेय दिया जाता है, उन्होंने 23 वर्षों से अधिक समय तक मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया था।

डॉक्टरों के मुताबिक कोविड की जटिलताओं के साथ तीन महीने की लंबी लड़ाई के बाद गुरुवार तड़के उनका इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे।

राजा साहब के नाम से लोकप्रिय वीरभद्र सिंह का जन्म 23 जून, 1934 को बुशहर की तत्कालीन रियासत में हुआ था।

उनके राजनीतिक जीवन की एक समयरेखा:

1962: महासू से लोकसभा के लिए चुने गए।

1967: महासू से लोकसभा के लिए फिर से चुने गए।

1971: मंडी से लोकसभा के लिए चुने गए।

1976: पर्यटन और नागरिक उड्डयन के लिए केंद्रीय उप मंत्री के रूप में शामिल किया गया।

1977: मंडी से लोकसभा चुनाव हार गए।

1980: मंडी से लोकसभा के लिए चुने गए।

1982: केंद्रीय उद्योग राज्य मंत्री बनाये गये।

1983: राम लाल की जगह मुख्यमंत्री नियुक्त किये गये।

1985: रोहड़ू से विधानसभा के लिए चुने गए, दूसरी बार मुख्यमंत्री बने।

1990: रोहड़ू से विधानसभा के लिए चुने गए।

1993: रोहड़ू से विधानसभा के लिए चुने गए, तीसरी बार मुख्यमंत्री बने।

1998: रोहड़ू से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए और चौथी बार मुख्यमंत्री बने, लेकिन बहुमत साबित करने में विफल रहे।

2003: रोहड़ू से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए और पांचवीं बार मुख्यमंत्री बनें।

2007: रोहड़ू से छठी बार राज्य विधानसभा के लिए चुने गए।

2009: मंडी से लोकसभा के लिए चुने गए और केंद्रीय इस्पात मंत्री नियुक्त किए गए।

2011: सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए केंद्रीय मंत्री नियुक्त किये गये।

2012: मंत्री पद से इस्तीफा दिया। नवनिर्मित शिमला (ग्रामीण) निर्वाचन क्षेत्र से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए।

2012 (दिसंबर): रिकॉर्ड छठी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने से 24 घंटे से भी कम समय में, वीरभद्र सिंह को एक बड़ी राहत मिली क्योंकि शिमला की एक अदालत ने उन्हें और उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह को पुराना भ्रष्टाचार के मामले साढ़े तीन साल में बरी कर दिया था।

2013: आम चुनावों से पहले, वीरभद्र सिंह ने फिर से यह सुनिश्चित करके अपनी योग्यता साबित की कि उनकी कांग्रेस पार्टी मंडी उपचुनाव लोकसभा सीट को बरकरार रखे।

2014: वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस सभी चार लोकसभा सीटें भाजपा से हार गई। हारने वाले उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री की पत्नी प्रतिभा सिंह भी शामिल हैं।

2017: अस्सी साल के राजा साहब राज्य के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के गढ़ रहे अर्की से आठवीं बार जीते। भाजपा ने 68 सदस्यीय विधानसभा में 44 सीटें जीतकर राज्य को कांग्रेस से छीन ली।

2019: वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में, कांग्रेस ने सभी चार लोकसभा सीटें गंवा दीं और भाजपा ने रिकॉर्ड अंतर से जीत बरकरार रखी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 08 Jul 2021, 03:40:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो