News Nation Logo
Banner

VIDEO: ओवैसी की योगी को सलाह, अवैध बूचड़खानों को बंद नहीं नियमित करे

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों को जल्दबाजी में बंद करने की बजाय सरकार को उन्हें नियमन के लिए समय देना चाहिए।

IANS | Updated on: 27 Mar 2017, 05:13:39 PM

highlights

  • ओवैसी की मांग अवैध बूचड़खानों को बंद करने की बजाय नियमित करे
  • भारत में भैंस के मांस के निर्यात की आधी से ज्यादा इकायां यूपी में ही है
  • सरकार ना तय करे  किसी को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए

नई दिल्ली:

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष व हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों को जल्दबाजी में बंद करने की बजाय सरकार को उन्हें नियमन के लिए समय देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: यूपी में अफसरों को कसने में जुटे योगी आदित्यनाथ, 100 दिनों का प्रायॉरिटी प्लान मांगा

ओवैसी ने संसद से बाहर कहा, 'यह समाजवादी पार्टी (सपा) की सरकार की गलती है कि उसने बूचड़खानों को नियमित नहीं किया। (नई) सरकार को उन्हें बंद करने की बजाय नियमित किए जाने के लिए समय देना चाहिए।' उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि उत्तर प्रदेश में न केवल अवैध, बल्कि कुछ वैध बूचड़खाने भी बंद किए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ की हिंदू युवा वाहिनी, जानें कैसे करती है काम

उन्होंने कहा, 'यदि सरकार काला धन जमा रखने वालों को अपनी संपत्ति घोषित करने और उसे वैध बनाने का समय दे सकती है, तो फिर बूचड़खानों को नियमित करने के लिए समय क्यों नहीं दिया जा सकता? इसका अर्थ यह है कि वे किसी खास समुदाय को निशाना बना रहे हैं।' ओवैसी ने कहा कि भारत से भैंस के मांस के निर्यात का कारोबार 26,000 करोड़ रुपये का है और आधी से भी ज्यादा निर्यात इकाइयां उत्तर प्रदेश में हैं। 

इसे भी पढ़ें: अवैध बूचड़खानों पर सख्ती से मुर्गों की मांग ठप्प, बस 40 दिन जीते है मुर्गे

ओवैसी ने कहा, 'सरकार के इन कदमों से आर्थिक समस्याएं पैदा होंगी। क्या सरकार इन निर्यातों को रोकना चाहती है? यदि ऐसा होता है तो पांच से 10 लाख लोग बेरोजगार हो जाएंगे।'

इसे भी पढ़ें: योगी से मीट व्यापारियों की अपील, राष्ट्र के लिए लड़ें, गोश्त के लिए नहीं

एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा कि सरकार को यह तय करने का अधिकार नहीं है कि किसी को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वैध बूचड़खानों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए, ताकि मांगों की पूर्ति की जा सके।

First Published : 27 Mar 2017, 04:13:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

AIMIM
×