News Nation Logo

ताइवान में तनाव कम करने के लिए अमेरिका, जापान व दक्षिण कोरिया की चीन को चेतावनी

ताइवान में तनाव कम करने के लिए अमेरिका, जापान व दक्षिण कोरिया की चीन को चेतावनी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Jul 2021, 12:35:01 AM
US, Japan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: ताइवान के प्रति चीन की आक्रामकता का सीधा जवाब देते हुए अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने कहा है कि वे पूर्वी चीन सागर में यथास्थिति को बदलने के किसी भी एकतरफा प्रयास का विरोध करते हैं।

उन्होंने ताइवान जलडमरूमध्य (स्ट्रैट) में शांति और स्थिरता बनाए रखने पर भी जोर दिया, जो पानी की एक संकीर्ण पट्टी है, जो चीन को द्वीप से जोड़ती है।

चीन की सैन्य गतिविधि को लेकर हिंद-प्रशांत क्षेत्र में तनाव के कारण इस क्षेत्र में गतिविधियां तेज हो गई हैं। अमेरिकी उप विदेश मंत्री वेंडी आर शर्मन ने टोक्यो में जापान के उप विदेश मंत्री मोरी ताकेओ और दक्षिण कोरिया के प्रथम उप विदेश मंत्री चोई जोंग कुन से मुलाकात की।

चीन की ताइवान के प्रति शत्रुता के अलावा, इस वार्ता में कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणुकरण और चीन-सहयोगी उत्तर कोरिया द्वारा इस क्षेत्र के लिए खतरा भी शामिल रहा।

एक बयान में, अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, हमारे उप विदेश मंत्री और दो उप विदेश मंत्रियों ने उन सभी गतिविधियों के विरोध को दोहराया है, जो नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को कमजोर, अस्थिर या धमकी देते हैं।

प्राइस ने कहा कि उप विदेश मंत्रियों ने एक समावेशी, स्वतंत्र और खुला हिंद-प्रशांत बनाए रखने की आवश्यकता की पुष्टि की; पूर्वी चीन सागर में यथास्थिति को बदलने के किसी भी एकतरफा प्रयास का विरोध किया; दक्षिण चीन सागर और उसके बाहर नेविगेशन तथा ओवरफ्लाइट की स्वतंत्रता सहित शांति एवं स्थिरता, वैध निर्बाध वाणिज्य और अंतरराष्ट्रीय कानून के लिए सम्मान बनाए रखने का वचन दिया।

वार्ता मानव अधिकारों को बनाए रखने और कानून के शासन का सम्मान करने के साथ-साथ हिंद-प्रशांत में सुरक्षा और समृद्धि को संयुक्त रूप से बढ़ावा देने के बारे में थी। उन्होंने चीन द्वारा द्वीप राष्ट्र की अंतरिक्ष और समुद्री संप्रभुता के लगातार उल्लंघन के कारण ताइवान जलडमरूमध्य में तनाव पर भी ध्यान केंद्रित किया।

व्यापक वार्ता में तीनों ने दक्षिण-पूर्व एशिया और म्यांमार की स्थिति पर भी चर्चा की। आसियान क्षेत्र के संबंध में, अमेरिकी उप विदेश मंत्री और अन्य दो उप विदेश मंत्रियों ने आसियान के नेतृत्व वाली क्षेत्रीय वास्तुकला के लिए अपना समर्थन दोहराया - एक महत्वपूर्ण भू-सामरिक क्षेत्र, जहां चीनी गतिविधियां वियतनाम, मलेशिया, फिलीपींस, ताइवान और ब्रुनेई के साथ लगभग दैनिक संघर्ष पैदा कर रही हैं।

क्षेत्रीय चुनौतियों के अलावा, तीनों देशों ने कोविड-19 महामारी जलवायु परिवर्तन और आर्थिक सुधार से उत्पन्न स्थिति का समाधान करने का भी संकल्प लिया।

शर्मन की यह यात्रा ब्रिटिश रक्षा मंत्री बेन वालेस की कुछ दिनों पहले टोक्यो की यात्रा के बाद हुई है, जहां उन्होंने इस क्षेत्र में दो युद्धपोतों को स्थायी रूप से तैनात करने के लिए प्रतिबद्धता जाहिर की है। अपनी दो दिवसीय यात्रा के दौरान, वालेस ने जापानी प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा और रक्षा मंत्री नोबुओ किशी से मुलाकात की थी।

गौरतलब है कि अमेरिका क्वींसलैंड के उत्तर-पूर्वी तट पर ऑस्ट्रेलिया, जापान, दक्षिण कोरिया, न्यूजीलैंड, ब्रिटेन और कनाडा के साथ उच्च तीव्रता वाले युद्ध अभ्यास कर रहा है।

(यह आलेख इंडिया नैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत प्रस्तुत है)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 23 Jul 2021, 12:35:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो