News Nation Logo
Banner

भ्रमित वापसी के साथ अमेरिका ने अफगान युद्ध को समाप्त किया (विश्लेषण)

भ्रमित वापसी के साथ अमेरिका ने अफगान युद्ध को समाप्त किया (विश्लेषण)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 31 Aug 2021, 01:35:01 PM
US end

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

न्यूयॉर्क: अमेरिका ने मंगलवार को अफगानिस्तान में आखिरी अमेरिकी वायु सेना विमान सी-17 ग्लोबमास्टर की उड़ान के साथ ही अपने सबसे लंबे युद्ध को एक भ्रमित वापसी के साथ समाप्त कर दिया।

साल 2001 में अमेरिका में अफगानिस्तान स्थित अल कायदा द्वारा किए गए 9/11 के आतंकी हमलों की बरसी से 11 दिन पहले अंतिम वापसी हुई।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेने ने कहा, मैं अपने कमांडरों और उनके अधीन सेवा कर रहे पुरुषों और महिलाओं को अफगानिस्तान से खतरनाक वापसी की प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। जैसा कि वापसी के लिए 31 अगस्त की तिथि निर्धारित की गई थी, अमेरिकी जीवन का कोई और नुकसान नहीं हुआ है।

सैन्य कमांडर जनरल केनेथ मैकेंजी ने कहा, यह एक ऐसा मिशन था जिसने ओसामा बिन लादेन के साथ उनके सह साजिशकर्ताओं को मौत के घाट उतार दिया गया। यह एक सस्ता मिशन नहीं था। इसमें 2,461 अमेरिकी सेवा सदस्य और नागरिक मारे गए और 20,000 से अधिक घायल हुए।

उन्होंने कहा कि इस युद्ध में साथ ही अनुमानित 2.3 ट्रिलियन डॉलर, भारत के बजट के आकार का लगभग पांच गुना, अमेरिका द्वारा युद्ध पर खर्च किया गया।

इसके अलावा, 1,000 से अधिक नाटो सैनिक, 66,000 अफगान सुरक्षाकर्मी, लगभग 50,000 नागरिक और 50,000 तालिबान और अन्य आतंकवादी युद्ध में मारे गए।

युद्ध के अंतिम क्षणों में आत्मघाती हमलावरों को ले जाने के संदेह में एक वाहन पर अमेरिकी हवाई हमला किया गया, जिसमें सात बच्चे मारे गए।

अमेरिका के लिए बड़ा लाभ बिन लादेन की मौत और अल कायदा का सफाया था, लेकिन इसका मतलब अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का अंत नहीं था क्योंकि इस्लामिक स्टेट-खोरासन (आईएस-के) ने अमेरिका और तालिबान दोनों के प्रति अपनी दुश्मनी जाहिर की है।

आईएस-के आत्मघाती हमलावर ने 27 अगस्त को काबुल हवाई अड्डे पर अमेरिकी उपस्थिति के कमजोर दिनों में हमले में 13 अमेरिकी सैनिकों और कई अफगानों को मार डाला।

देश में जैसे-जैसे अमेरिकी सैन्य उपस्थिति कम होती गई, तालिबानी 300,000-मजबूत अमेरिकी-प्रशिक्षित अफगान रक्षा बलों से प्रांत दर प्रांत लेते चले गए और गनी संयुक्त अरब अमीरात भाग गए।

बाइडेन ने हवाई अड्डे को सुरक्षित करने के लिए लगभग 5,000 सैनिकों को भेजा ताकि उन्हें सुरक्षित स्थान पर लाया जा सके।

अंत में, काबुल से बाहर का एयरब्रिज 123,000 से अधिक नागरिकों को निकालने में कामयाब रहा।

लेकिन जब निकासी शुरू हुई तो हताश लोगों की भयावह तस्वीरों ने दुनिया को झकझोर दिया।

लेकिन हजारों, शायद दसियों हजार, पीछे छूट गए हैं, जिनमें 200 अमेरिकी नागरिक भी शामिल हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 31 Aug 2021, 01:35:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.