News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

उपनिवेशवाद एक पूरी तरह से अवैध और आपराधिक कृत्य : रेमो फर्नांडीस (साक्षात्कार)

उपनिवेशवाद एक पूरी तरह से अवैध और आपराधिक कृत्य : रेमो फर्नांडीस (साक्षात्कार)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Dec 2021, 07:00:01 PM
Upide of

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: गोवा के प्रतिष्ठित संगीतकार रेमो फर्नांडीस उपनिवेशवाद को एक पूरी तरह से अवैध और आपराधिक कृत्य के रूप में देखते हैं, जिसे विशेष रूप से यूरोपीय देशों की ओर से बढ़ावा मिला है।
फर्नांडीस, जिनकी आत्मकथा रेमो (हार्पर कॉलिन्स) अभी जारी हुई है, ने आईएएनएस को एक साक्षात्कार में कई मुद्दों पर बातचीत की। उन्होंने गोवा के पुराने दिनों को भी याद किया। रेमो फर्नांडीस ने साक्षात्कार के दौरान कहा, मैंने उपनिवेशवाद की न तो आलोचना की और न ही स्वीकृति दी - मैं इसके लिए बहुत छोटा हूं - मैंने इसे एक ऐसी चीज के रूप में स्वीकार किया, जो एक बच्चे के जन्म और आठ साल की उम्र के बीच होगा। आज, मैं उपनिवेशवाद को एक पूरी तरह से अवैध और आपराधिक कृत्य के रूप में देखता हूं, जो विशेष रूप से यूरोपीय देशों द्वारा उनके राजशाही और उनके चचरें के आशीर्वाद और कानूनी अनुमोदन के साथ अमल में लाया जाता है।

फर्नांडीस, जो वर्तमान में अपने पैतृक घर सिओलिम (गोवा) और पोटरे (पुर्तगाल) के बीच अपना समय बिताते हैं, ने कहा, आज उपनिवेशवाद को अब बिल्कुल भी स्वीकार नहीं किया जाता है, लेकिन अमेरिका जैसे देश दूसरे देशों को अलग-अलग तरीकों से उपनिवेश करते हैं, मुख्य रूप से वित्तीय और राजनीतिक. या सामूहिक विनाश के हथियारों के साथ क्रूर सैन्य शक्ति के माध्यम से ऐसा किया जाता है। मानव स्वभाव की सबसे बुरी चीज वह है कि वह हमेशा अन्य लोगों, जानवरों और यहां तक कि हमारे ग्रह को अपने अधीन करना चाहता है, शोषण करना चाहता है, चाहे वह किसी भी तरह से संभव हो।

वह किताब में लिखते हैं कि आजादी से पहले (वह तब आठ साल के थे) उन्हें शायद इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि भारत नाम का एक देश भी है।

विख्यात संगीतकार से प्रश्न किया गया कि पुर्तगालियों के प्रभाव वाले गोवा से भारतीय संघ का हिस्सा बनकर कैसा लगा? क्या रोजमर्रा की जि़ंदगी में कोई बदलाव आया था?

इस पर उन्होंने कहा, पुर्तगालियों के जाने के बाद कम से कम 10 वर्षों तक गोवा में कोई स्पष्ट परिवर्तन नहीं हुआ।

उन्होंने आगे कहा, लेकिन व्यक्तिगत रूप से, एक बच्चे के रूप में, मुझे सबसे पहले अंग्रेजी नामक इस अजीब नई भाषा को सीखना पड़ा। पुर्तगाली एक लैटिन भाषा है, जिसमें आप जो लिखते हैं उसका उच्चारण करते हैं और जो आप उच्चारण करते हैं उसे लिखते हैं; इसलिए लाइट, फाइट, टाइट जैसे शब्दों में जीएच जैसे बेकार के मूक (साइलेंट) अक्षरों की आदत डालना मुश्किल था और यह तो सिर्फ एक आकस्मिक उदाहरण है।

हिंदी भाषा के बारे में बात करते हुए महान संगीतकार ने कहा, बाद में, मैंने महसूस किया कि हिंदी पुर्तगाली की तुलना में कहीं अधिक कुशल है, जब इसे लिखने की बात आती है कि कोई क्या उच्चारण करता है और इसके विपरीत भी यह काफी कुशल है। वास्तव में, सबसे कुशल.. जो भी मैंने अभी तक देखी और परखी है।

फर्नांडीस ने संगीत की शुरूआती समझ के बारे में बात करते हुए कहा, मेरे जैसे संगीतमय किशोर के लिए लिबरेशन बाय इंडिया का उल्टा, अंग्रेजी और अमेरिकी संगीत की शुरूआत थी। गोवा, पुर्तगाली और लैटिन संगीत सुंदर रहा है, लेकिन रॉक एन रोल का अपना एक उत्साह था। पहला रॉक गीत, जिसे मैंने सुना, बिल हेली एंड द कॉमेट्स का रॉक अराउंड द क्लॉक, एक सर्वकालिक पसंदीदा रहा है, जिसे मैं हमेशा संजो कर रखूंगा। आखिरकार, हमने यह भी सीखा कि हिंदी फिल्मों के कुछ गानों की सराहना कैसे की जाती है और उस समय तक मैं कॉलेज में था, मैंने भारतीय शास्त्रीय संगीत की सराहना और सम्मान करना सीखा।

फर्नांडीस से सवाल पूछा गया कि गोवा की संस्कृति ने उनके संगीत को किस हद तक प्रभावित किया है? क्या इससे उनकी आत्मकथा लिखने के तरीके पर कोई असर पड़ा है?

इस पर उन्होंने विस्तार से बताते हुए कहा, जिस स्थान पर आप पैदा हुए हैं और बड़े हुए हैं, वह आपको हर तरह से प्रभावित करता है - विचार और क्रिया में और यहां तक कि आपके अवचेतन में भी। गोवा मेरा घर है और 50, 60 और 70 के दशक का गोवा तो खासतौर पर मैंने जिया है। लेकिन जैसे कि महात्मा ने बुद्धिमानी से सलाह दी थी, मैंने हमेशा अपने घर की खिड़कियां अन्य जगहों, लोगों और संस्कृतियों की हवाओं के लिए खुली रखने की कोशिश की है।

उनसे पूछा गया कि गोवा में उनके बचपन की कुछ सबसे ज्वलंत यादें क्या हैं? इस पर उन्होंने कहा, शहरों में साफ-सफाई। गांवों में साफ-सुथरा माहौल और हरी-भरी प्रकृति। कभी न खत्म होने वाले समुद्र तट, जहां मछुआरे दिन का लुत्फ उठाते हैं और गर्मी के दिन के अंत में गोवा के लोग सैर पर निकलते हैं। ईमानदारी. गर्मजोशी. शिष्टाचार. डकैती और अपराध का नामो-निशान नहीं. ड्राइविंग में, कतारों (लाइन) में और जीवन के हर क्षेत्र में अनुशासन. और एक दूसरे के प्रति प्यार।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 18 Dec 2021, 07:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.