News Nation Logo
नैनीताल के बिरला क्षेत्र के कुमाऊं लॉज में देर रात भारी भूस्खलन गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

यूपी के हर थाने में होगी साइबर हेल्प डेस्क

यूपी के हर थाने में होगी साइबर हेल्प डेस्क

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 17 Sep 2021, 01:45:01 PM
UP to

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस ने हाल के दिनों में बढ़ते साइबर अपराध के मामलों को देखते हुए और ऐसे मामलों से निपटने के लिए तकनीकी जानकारी देने के लिए राज्य भर के हर पुलिस स्टेशन में एक साइबर हेल्प डेस्क (सीएचडी) स्थापित करने का निर्णय लिया है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, अभियान के हिस्से के रूप में, पुलिस विभिन्न पहलों की मदद से जागरूकता भी पैदा करेगी कि लोग साइबर अपराधियों के शिकार होने से खुद को कैसे बचा सकते हैं।

प्रत्येक सीएचडी पर साइबर अपराध के मामलों को संभालने में विशेषज्ञता वाले कम से कम दो प्रशिक्षित पुलिस कर्मियों को नियुक्त किया जाएगा।

वर्तमान में, राज्य भर में रेंज पुलिस कार्यालयों में 18 साइबर पुलिस स्टेशन हैं।

इन साइबर पुलिस थानों में प्राथमिकी दर्ज करने के अलावा, साइबर धोखाधड़ी और धोखाधड़ी के मामले अक्सर पुलिस थानों में सामने आते हैं और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज हो जाते हैं।

इसके अलावा, पुलिस अधिकारियों ने साइबर अपराधों के पीड़ितों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। लोग फोन के जरिए भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अधिकांश साइबर अपराध के मामले साइबर धोखाधड़ी/वित्तीय धोखाधड़ी से संबंधित होते हैं और सलाह दी कि यदि सही समय पर सुधारात्मक उपाय शुरू किए जाते हैं, तो राशि को फ्रीज किया जा सकता है ताकि पीड़ितों के पैसों पर चपत ना लगाई जा सके।

अधिकारियों को लगता है कि अधिकांश साइबर-धोखाधड़ी पीड़ितों को इस बात की जानकारी नहीं है कि साइबर अपराध का शिकार होने के बाद उन्हें क्या उपाय करने चाहिए।

उन्होंने कहा कि जल्द ही पुलिसकर्मियों का प्रशिक्षण पूरा हो जाएगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 17 Sep 2021, 01:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो