News Nation Logo

यूजीसी नेट में देरी से रिसर्च और रिसर्च छात्रों को हुआ है नुकसान

यूजीसी नेट में देरी से रिसर्च और रिसर्च छात्रों को हुआ है नुकसान

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Nov 2021, 12:40:01 AM
Univerity Grant

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: देशभर में करीब 8 लाख युवा बीते 1 वर्ष से यूजीसी नेट परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं। इनमें से अधिकांश अभ्यार्थी ऐसे हैं जिन्होंने बीते वर्ष 2020 दिसंबर में यूजीसी नेट के लिए आवेदन किया था। हालांकि एक वर्ष का समय बीत जाने के उपरांत भी अभी तक यह परीक्षाएं नहीं ली जा सकी हैं। अब यूजीसी नेट परीक्षाओं के लिए नई तिथियां जारी की हैं।

वर्ष 2020 में 8,60,976 अभ्यार्थियों ने यूजीसी नेट परीक्षा के लिए आवेदन किया था। परीक्षा की तिथि घोषित करने के साथ ही अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जल्द जारी कर दिए हैं। हालांकि अभी केवल 20 और 21 नवंबर को होने वाली परीक्षा के लिए ही एडमिट कार्ड जारी हो सके हैं।

जानी-मानी शिक्षाविद व दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर आभा देव हबीब के मुताबिक यूजीसी नेट की परीक्षाओं में देरी का सीधा असर देश के शोध कार्यक्रमों पर पड़ता है। रिसर्च के छात्रों को इस देरी के कारण फैलोशिप नहीं मिल पाई। जिससे कई छात्रों का नुकसान हुआ है। गौरतलब है कि यूजीसी नेट के जरिए से सहायक प्रोफेसर के साथ साथ जूनियर रिसर्च फैलोशिप के लिए उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।

उन्होंने कहा यह परीक्षा साल में दो बार ली जानी थी लेकिन बीते वर्ष से अब तक यह परीक्षा एक बार भी नहीं ली जा सकी है। इस विलंब से सहायक प्रोफेसर बनने की इच्छा रखने वाले युवाओं के साथ साथ महत्वपूर्ण रिसर्च कार्यों से जोड़ने वाले युवाओं का भी बड़ा नुकसान हुआ है।

हालांकि यूजीसी एवं केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय का कहना है कि पहले कोरोना संक्रमण की तेज लहर और फिर विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं से के साथ यूजीसी नेट की तारीखों के टकराव के कारण यह परीक्षाएं नहीं ली जा सकी, लेकिन अब यह परीक्षाएं ली जा रही हैं। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने दिसंबर 2020 और जून 2021 की यूजीसी-नेट को मर्ज कर दिया है।

एक आधिकारिक नोटिस जारी करते हुए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की परीक्षा निदेशक डॉ साधना पराशर ने बताया यूजीसी नेट परीक्षा के लिए अब नया शेड्यूल जारी किया गया है। इस नए शेड्यूल के तहत यूजीसी नेट की परीक्षाएं 20 नवंबर से शुरू होगी। यह परीक्षा 21, 22, 24, 25, 26, 29 और 30 नवंबर को भी जारी रहेंगी। दिसंबर के महीने में यह परीक्षा 1, 3, 4 और 5 दिसंबर को ली जाएंगी।

यूजीसी नेट की दिसंबर 2020 सत्र की परीक्षा सबसे पहले इस वर्ष 2 से 17 मई के बीच आयोजित की जानी थी। हालांकि उस दौरान देशभर में कोरोना संक्रमण की स्थिति काफी संवेदनशील बनी हुई थी। उसी के मद्देनजर मई में होने वाली यूजीसी नेट की परीक्षाओं को स्थगित करना पड़ा था।

फिर यूजीसी नेट की यह सयुंक्त परीक्षा इस वर्ष अक्टूबर में आयोजित की जानी थी, लेकिन यह परीक्षा स्थगित कर दी गई। यूजीसी नेट परीक्षा का आयोजन 6 अक्टूबर से करने का फैसला किया। हालांकि 6 अक्टूबर की परीक्षा डेट में बदलाव किया गया। यूजीसी द्वारा नेट की अगली तारीख 17 अक्टूबर तय की गई। बाद में 17 से 25 अक्टूबर के बीच ली जाने वाली परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गईं। अब यह परीक्षा 20, 21, 22, 24, 25, 26, 29 और 30 नवंबर को हो रही है।

20 नवंबर से शुरू होने जा रही यह परीक्षाएं 3 घंटे की होगीं। यूजीसी नेट की इस परीक्षा 2 तरह के टेस्ट होंगे। एक टेस्ट 50 नंबर का है जिसमें 100 प्रशन पूछे जाएंगे क दूसरा टेस्ट 200 नंबर का होगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 18 Nov 2021, 12:40:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.