News Nation Logo

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का सनसनीखेज दावा-'मस्जिद से हुआ था मेरे विरोध में ऐलान'

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने सोरम में हुई घटना पर कहा कि बीजेपी और आरएलडी कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प पर आरोप लगाया कि घटना पूर्व नियोजित थी. बालियान ने इसे सोची समझी साजिश करार दिया है. इस घटना के पीछे उन्होंने सपा और आरएलडी का हाथ बताया है. 

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 24 Feb 2021, 09:09:28 AM
sanjeev

संजीव बालियान का सनसनीखेज दावा-'मस्जिद से हुआ था मेरे विरोध में ऐलान' (Photo Credit: न्यूज नेशन)

मुजफ्फरनगर:

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के सोरम गांव में मंगलवार को बीजेपी और आरएलडी कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प पर केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि उनके खिलाफ मस्जिद से ऐलान कर लोगों को भड़काया गया. उन्होंने घटना को पूर्व नियोजित बताया. संजीव बालियान गांव में एक तेरहवीं में शामिल होने पहुंचे थे. इसी दौरान उनका कुछ लोगों ने विरोध किया. इसके बाद कुछ युवकों और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने पूरी घटना के पीछे समाजवादी पार्टी और आरएलडी का हाथ बताया है.  

यह भी पढ़ेंः राहुल गांधी ने दी 'उत्तर-दक्षिण' की दुहाई, बीजेपी ने कहा मत करें 'विभाजनकारी राजनीति'

संजीव बालियान ने पूरी घटना के पीछे समाजवादी पार्टी का हाथ बताया है. उनका कहना है कि सपा उम्मीदवार के कुछ लोगों ने भैंसवाल में मेरे साथ बदसलूकी की. 5 से 6 लोकदल कार्यकर्ताओं ने भी यही किया जब मैं सोरम पहुंचा. मेरे साथ झड़प हुई. मस्जिद से भी मेरे खिलाफ लोगों को एकजुट रहने का ऐलान कराया गया. गौरतलब है कि मंगलवार को सिंचाई विभाग के डाक बंगले पर मीडिया से बातचीत में संजीव बालियान ने कहा कि वह एक रस्म पगड़ी में शामिल होने पहुंचे थे. उन्होंने कहा कि आरएलडी के ब्लॉक अध्यक्ष और कार्यकर्ताओं ने वहां पहुंचकर नारेबाजी की तो ग्रामीणों ने उन्हें वहां से भगा दिया. उन्होंने कहा कि इसके बाद आरएलडी के पूर्व प्रत्याशी भी वहां पहुंच गए. बालियान ने जयंत चौधरी का नाम तो नहीं लिया लेकिन कहा कि इस दौरान उन्होंने ट्वीट करने शुरू कर दिए.  

यह भी पढ़ेंः 29 दिन बाद खुला सिंघु गांव का रास्ता, दिल्ली पुलिस ने हटाई बैरिकेडिंग

बालियान ने इस दौरान पूर्व सांसद अमीर आलम पर भी निशाना साधा. बालियान ने कहा कि पूरी घटना सोची समझी साजिश थी. अगर ऐसा नहीं था तो घटना के कुछ ही देर में आरएलडी के नेता वहां कैसे पहुंच गए. समाज के बांटकर लोग अशांति फैलाना चाहते हैं. उन्होंने जिला प्रशासन से पूरी घटना की जांच करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि कॉल डिटेल के आधार पर जांच होगी तो पूरी सच्चाई सामने आ जाएगा. दूसरी तरफ राष्ट्रीय लोकदल सुप्रीमो अजित सिंह ने बीजेपी पर किसान विरोध होने के आरोप लगाया है. घटना के बाद अजित सिंह मंगलवार को सोरम पहुंचे. इसके साथ ही बीकेयू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत भी सोरम पहुंचे और लोगों से संयम बनाए रखने और आपस में न लड़ने की अपील की. 

First Published : 24 Feb 2021, 09:09:28 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.