News Nation Logo

हरसिमरत कौर ने सिद्धू पर किया वार- ननकाना साहिब पर क्यों चुप हैं इमरान खान को गले लगाने और Kiss करने वाले

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 04 Jan 2020, 09:03:49 PM
हरसिमरत कौर

हरसिमरत कौर (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:  

पाकिस्तान में गुरु नानक की जन्मस्थली ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुए हमले के बाद भारत में सिख समुदाय ने अपना कड़ा विरोध जताना शुरू कर दिया है. केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat kaur badal)ने ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुए हमले को लेकर पाकिस्तान के साथ-साथ कांग्रेस पर भी वार किया. इसके साथ ही बिना नाम लिए नवजोत सिंह सिद्धू पर वार किया.

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने कहा, ' क्या पाकिस्तान सरकार यह सब नहीं देख सकती? क्या उनकी बुद्धिमत्ता इतनी असफल हो गई है कि वे यह सब नहीं समझ सकते? यह स्पष्ट है कि यह पाक सरकार द्वारा सिखों को धमकाने के लिए किया जा रहा है.'

इसके साथ ही उन्होंने गांधी परिवार पर वार करते हुए कहा, 'यह बहुत ही शर्मनाक है जब पाकिस्तान सरकार ये सब काम कर रहा है गांधी परिवार और कांग्रेस चुप हैं. और वो इंसान (नवजोत सिंह सिद्धू) जो इमरान खान के शपथ ग्रहण में जाकर उन्हें गले लगाते हैं और किस करते हैं एक शब्द भी नहीं बोल रहे हैं.'

इधर, बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने प्रेस कांफ्रेस कर कांग्रेस से सवाल पूछा कि वह इस मामले में चुप्पी क्यों साधे है. उन्होंने कहा कि ननकाना साहिब तो एक संकेत है. इसी से पाकिस्तान की नीति समझी जा सकती है कि वहां किस तरह मानवाधिकार का उल्लंघन किया जा रहा है. पाकिस्तान में पुलिस सरकार सब मिली हुई है. ननकाना साहिब सर्वोच्च स्थान है उसका नाम भी बदल रहे है.

इसे भी पढ़ें:पुलिस कार्रवाई से प्रभावित लोगों से मिलकर प्रियंका ने कहा, अन्याय के खिलाफ लड़ेंगे

उन्होंने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू कहां भाग गए. मीनाक्षी लेखी ने पूछा कि इन सब के बाद भी क्या सिद्दू आईएसआई चीफ को गले लगाएंगे.

और पढ़ें:दिल्ली के जनकपुरी में मकान गिरा, 4 से 5 लोगों के दबने की आशंका, 9 लोगों को किया गया रेस्क्यू

भारत ने इस हमले की निंदा करते हुए पाकिस्तान से सिख समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान किया है.

First Published : 04 Jan 2020, 09:03:06 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.