News Nation Logo

यूनियन बैंक मामला: स्टाफ को नवरात्रि ड्रेस कोड का पालन करने या जुर्माना भरने को कहा गया!

यूनियन बैंक मामला: स्टाफ को नवरात्रि ड्रेस कोड का पालन करने या जुर्माना भरने को कहा गया!

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Oct 2021, 12:35:01 PM
Union Bank

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

कैद नज्मी

मुंबई: यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने अपने कर्मचारियों के एक वर्ग को अनिवार्य रूप से एक विशेष नवरात्रि ड्रेस कोड का पालन करने को कहा है। इतना ही नहीं जो कर्मचारी ऐसा नहीं करता है उस पर जुर्माना लगाने की चेतावनी दी गई है।

विस्तृत आदेश 1 अक्टूबर को डिजिटलीकरण विभाग द्वारा मुंबई में केंद्रीय कार्यालय में जारी एक रंगीन परिपत्र के माध्यम से आया, जिस पर महाप्रबंधक, ए आर राघवेंद्र द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे।

सोशल मीडिया पर हंगामे के बाद, यूबीआई प्रबंधन ने कथित तौर पर सकरुलर को हटा दिया है। यह मामला रविवार देर रात सोशल मीडिया पर सामने आया।

राघवेंद्र ने बहुरंगी आदेश में सभी कर्मचारियों और साइट पर विक्रेता भागीदारों को त्योहार के लिए एक दैनिक रंग ड्रेस कोड का पालन करने के लिए कहा था, जो कुछ इस तरह था, 7 अक्टूबर से पीला, हरा, ग्रे, नारंगी, सफेद, लाल, शाही नीला, गुलाबी, और अंतिम दिन 15 के लिए अक्टूबर बैंगनी रंग सुनिश्चित किया गया था।

अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए, उन्होंने रंग कोड का पालन नहीं करने के लिए प्रत्येक को 200 रुपये के जुर्माना देने की चेतावनी दी थी और साथ ही सभी कर्मचारियों की एक दैनिक समूह तस्वीरें भी लेने को कहा था।

वहीं 14 अक्टूबर को, एक चाट पार्टी और कर्मचारियों के लिए दोपहर 3 बजे से भोजन की व्यवस्था की गई है। कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए इनडोर खेल भी रखे गए है, साथ ही लंच बॉक्स नहीं लाने की सलाह दी गई है।

राघवेंद्र ने कहा कि हम आप सभी से अनुरोध करते हैं कि आप सभी इसमें शमिल हो और कोई बैठक न करें। राघवेंद्र ने सभी से दिन-वार रंग कोड योजना का पालन करने और उत्सव को शानदार बनाने के लिए अनुरोध किया था।

अखिल भारतीय यूनियन बैंक कर्मचारी महासंघ (एआईयूबीईएफ) ने इस फरमान पर ध्यान नहीं दिया और यूबीआई के प्रबंध निदेशक और सीईओ राजकिरण राय जी को पत्र लिखकर महाप्रबंधक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

प्रख्यात साहित्यकार और मदुरै सीपीआई-एम के सांसद एस वेंकटेशन ने यूबीआई को लिखे एक पत्र को राघवेंद्र के आदेश को अत्यधिक अत्याचारी करार दिया है।

वेंकटेशन ने सकरुलर को वापस लेने और गलती करने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए कहा कि यह न केवल सरकारी बैंक की छवि को नुकसान पहुंचाएगा बल्कि इस महान देश के मानवाधिकारों और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों का भी उल्लंघन है।

एआईयूबीईएफ के महासचिव जगन्नाथ चक्रवर्ती ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि कार्यालय में धार्मिक उत्सव मनाने, ड्रेस कोड तय करने और जुमार्ना लगाने के लिए आधिकारिक निर्देश जारी करना नियमित मामला नहीं है और इसके लिए शीर्ष प्रबंधन से अनुमति की आवश्यकता होती है।

एआईयूबीईएफ नेता ने कहा कि बैंक के 100 साल के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ। उन्हें तुरंत आदेश वापस लेना चाहिए।

चक्रवर्ती ने कहा कि हमारा मानना है कि उन्होंने अनुमति नहीं ली थी, हालांकि, उन्हें अनुमति दी गई थी या नहीं हमें नहीं पता, हम राघवेंद्र की इस तरह की इच्छाधारी और तानाशाही कार्रवाई के खिलाफ कड़ा विरोध दर्ज कराते हैं।

उन्होंने कहा कि नवरात्रि जैसे धार्मिक त्योहार को निजी तौर पर मनाया और मनाया जाना चाहिए, लेकिन आधिकारिक तौर पर एक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में नहीं जो हमारे समाज के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के प्रति उच्च सम्मान रखता है।

चक्रवर्ती ने कहा, किसी भी त्योहार का जश्न एक स्वैच्छिक घटना है जिसमें दंड लगाने की बात करने के लिए किसी भी निर्देश/जबरदस्ती के लिए कोई जगह नहीं है। महाप्रबंधक को पता होना चाहिए कि एक शक्ति का प्रयोग करने के लिए पहले आपके पास वह शक्ति होनी भी चाहिए।

एआईयूबीईएफ ने एमडी से पूछा कि किस नियम के तहत जीएम ने नौ रंगों के ड्रेस कोड का पालन नहीं करने पर जुमार्ना लगाने की बात की है, यहां तक कि छुट्टियों पर भी!

चक्रवर्ती ने कहा कि हम उन पर जवाबदेही तय करने की मांग करते हैं और साथ ही आधिकारिक शक्ति का दुरुपयोग करके अपनी व्यक्तिगत इच्छा को पूरा करने के लिए बैंक के लोगों, प्लेटफॉर्म आदि का उपयोग करने के लिए उचित कार्रवाई की मांग करते हैं।

बैंकरों ने कहा कि उन्हें पूरे बैंकिंग उद्योग में ड्रेस कोड, फोटो-सेशन, पार्टियों और कार्यालय में इनडोर गेम जैसे नियम नहीं देखें है। यूबीआई को सही संदेश देने के लिए संबंधित अधिकारी के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Oct 2021, 12:35:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो