News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

यूनिसेफ के अधिकारी ने अफगानिस्तान में बिगड़ते हालात को लेकर चेताया

यूनिसेफ के अधिकारी ने अफगानिस्तान में बिगड़ते हालात को लेकर चेताया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Oct 2021, 05:40:01 PM
Unicef official

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

संयुक्त राष्ट्र: अफगान नागरिकों की पहले से ही विकट स्थिति और खराब होगी और आने वाले महीनों में बच्चों और महिलाओं की मानवीय जरूरतें बढ़ेंगी। यूनिसेफ के एक अधिकारी ने यह बात कही है।

यूनिसेफ के उप कार्यकारी निदेशक उमर आब्दी ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा, स्थिति गंभीर है और यह केवल बदतर होगी।

उन्होंने आगे कहा कि एक गंभीर सूखे और इसके परिणामस्वरूप होने वाली पानी की कमी, अनिश्चित सुरक्षा वातावरण, निरंतर विस्थापन, कोविड-19 महामारी के विनाशकारी सामाजिक-आर्थिक परिणाम के साथ ही सर्दियों की शुरूआत के बीच मानवीय जरूरतों में वृद्धि होगी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, आब्दी ने कहा, अगस्त में तालिबान के अधिग्रहण से पहले, देश भर में कम से कम एक करोड़ बच्चों को जीवित रहने के लिए मानवीय सहायता की आवश्यकता थी और इनमें से कम से कम 10 लाख बच्चों को तत्काल उपचार के बिना गंभीर तीव्र कुपोषण के कारण मरने का खतरा है।

आब्दी ने कहा कि स्वास्थ्य प्रणाली और सामाजिक सेवाएं चरमराने के कगार पर हैं, क्योंकि चिकित्सा आपूर्ति खतरनाक रूप से कम स्तर पर काम कर रही है और खसरा और तीव्र दस्त के मामले बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा, आर्थिक व्यवस्था भी चरमराने के कगार पर है। कई शिक्षकों और स्वास्थ्य कर्मचारियों को कम से कम दो महीने से भुगतान नहीं किया गया है और फिर भी वे काम करना जारी रखे हुए हैं।

अधिकारी ने यह भी कहा कि पिछले दो दशकों के शिक्षा लाभ को मजबूत किया जाना चाहिए, पीछे नहीं हटना चाहिए।

स्कूलों में नामांकित बच्चों की संख्या 2001 में 10 लाख से बढ़कर वर्तमान में 40 लाख लड़कियों सहित लगभग एक करोड़ बच्चों तक पहुंच गई है।

उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान स्कूलों की संख्या तीन गुना, 6,000 से 18,000 हो गई है। इस प्रगति के बावजूद, 42 लाख बच्चे स्कूल से बाहर हैं, जिनमें 26 लाख लड़कियां शामिल हैं।

अधिकारी ने कहा कि यूनिसेफ, संयुक्त राष्ट्र और मानवीय साझेदार अफगानिस्तान में उन लाखों महिलाओं, पुरुषों और बच्चों का समर्थन करने के लिए वित्तीय कमी, सैन्य चुनौतियों और एक तेजी से जटिल भू-राजनीतिक स्थिति को दूर करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं, जो मानवीय सहायता और सुरक्षा पर निर्भर हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Oct 2021, 05:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.