News Nation Logo

भाजपा की महत्वाकांक्षा के चलते लोकतंत्र खतरे में है : उद्धव ठाकरे

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Jul 2022, 06:50:02 PM
Uddhav Thackeraytwitter

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

मुंबई:   महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को चेतावनी दी कि भारतीय जनता पार्टी की सब कुछ नियंत्रित करने की राक्षसी महत्वाकांक्षा लोकतंत्र को खतरे में डाल रही है।

ठाकरे ने कहा, देश में सभी विपक्षी और क्षेत्रीय दलों को खत्म करने की साजिश चल रही है.. सत्तारूढ़ दल (भाजपा) विपक्ष से डरता है। यह उनकी अक्षमता को दर्शाता है। ठाकरे ने सेना के मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के कार्यकारी संपादक संजय राउत को दिए एक इंटरव्यू में ये बात कही।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का मतलब हर बार (चुनाव) जीतना नहीं है, चाहे वह कोई भी पार्टी हो - शिवसेना, कांग्रेस, राकांपा, भाजपा, आदि - किसी को भी लगातार जीत नहीं मिलती है, सभी को जीतना है या हारना है, नई पार्टियां उभरती रहती हैं, कुछ के लिए चमकती रहती हैं। यह एक वास्तविक लोकतंत्र है।

हालांकि, सब कुछ अपने पैरों के नीचे रखने की उनकी अभिमानी आकांक्षाओं के साथ वे जो कहें वही सही है, उन्हें विपक्ष के प्रति आशंकित करता है।

दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बयान को याद करते हुए - सत्ता आती है और जाती है, लेकिन देश रहना चाहिए, ठाकरे ने कहा: मैं कल सीएम था, मैं आज नहीं हूं और आपके सामने बैठा हूं .. क्या अंतर है सत्ता आती है और जाती है.. और लौटती है, लेकिन मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

उन्होंने सभी राजनीतिक दलों को एकजुट होने और देश के लिए काम करने की आवश्यकता पर जोर दिया, और कहा कि नहीं तो इनको देश के शत्रु कहा जाएगा, क्योंकि मुद्रास्फीति, बेरोजगारी आदि जैसी समस्याएं लोगों के सामने हैं।

ठाकरे ने भाजपा-सरकार पर कटाक्ष किया कि कैसे विभिन्न केंद्रीय जांच एजेंसियां विपक्ष को परेशान कर रही हैं, पहले उनके नेताओं को गिरफ्तार कर रही हैं और बाद में आरोप तय कर रही हैं। उनके करियर को बर्बाद करने के इरादे से उन्हें गंदे और विकृत तरीके से बदनाम कर रही है।

भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के उस बयान का जिक्र करते हुए कि उनकी पार्टी एक वॉशिंग मशीन की तरह है, जो आरोपों का सामना कर रहे लोगों को पुण्य बनाती है, ठाकरे ने कहा कि यह वास्तव में एक मजबूत शासक का संकेत नहीं है, बल्कि डर है।

राउत के इस सवाल पर कि इस तरह के उत्पीड़न को कैसे दूर किया जाए, ठाकरे ने कहा कि सबसे पहले इससे बाहर निकलने की इच्छा होनी चाहिए। जैसा कि लोगों ने आपातकाल के दौरान किया और जनता पार्टी बनाने के लिए एकजुट हुए। उस समय, उन्होंने कहा कि जनता पार्टी (1975-1977) के पास मतदान केंद्रों पर चुनाव एजेंट भी नहीं थे, फिर भी सभी वर्गों के लोगों ने उन्हें भारी वोट दिया और पार्टी सत्ता में आई।

बाद में अंदरूनी कलह के कारण जनता पार्टी की सरकार गिर गई। इसलिए एकजुट होकर लड़ने की प्रबल इच्छा होनी चाहिए। वर्तमान में लक्षण अच्छे नहीं हैं और ऐसा लगता है कि देश तानाशाही की ओर बढ़ रहा है। यह कई लोगों की राय है, ठाकरे ने आगाह किया।

उन्होंने कहा कि शिवसेना इच्छुक तो है, लेकिन वह अकेले नहीं लड़ सकती और देश के सभी राज्यों को एक साथ मिलकर उस संघर्ष में शामिल होना चाहिए जो लोगों को जागृत करेगा, और बहुत सारे दुश्मन बनाए बिना, स्वस्थ राजनीति सुनिश्चित करनी चाहिए।

इस संदर्भ में, ठाकरे ने शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-कांग्रेस के महा विकास अघाड़ी का उल्लेख किया, और इसे एक सफल प्रयोग, और जनता द्वारा समर्थित करार दिया।

उन्होंने कहा, एमवीए गलत नहीं था। लोगों ने इसका स्वागत किया है। जब मैं वर्षा (22 जून को मुख्यमंत्री का आधिकारिक आवास) से निकला तो राज्य में कई लोग रोए थे। मैं उन आंसुओं को व्यर्थ नहीं जाने दूंगा।

शिवसेना नेता ने अफसोस जताया कि कैसे वही लोग (एकनाथ शिंदे) जो 2014 में भाजपा से हाथ मिलाने का विरोध कर रहे थे, अब उन्होंने उस पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया है। ठाकरे ने उन्हें सत्ता का भूखा व्यक्ति कहा।

ठाकरे ने कहा कि उन्होंने एनसीपी-कांग्रेस के साथ चर्चा के बाद शिंदे को सीएम पद की पेशकश की थी, बशर्ते उन्हें भाजपा से कुछ जवाब मिले, लेकिन उनमें हिम्मत नहीं थी।

उन्होंने चुनाव के लिए शिंदे-फडणवीस सरकार को फिर से चुनौती दी और भविष्यवाणी की कि राज्य को फिर से शिवसेना का मुख्यमंत्री मिलेगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Jul 2022, 06:50:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.