News Nation Logo

सोना तस्करी मामलों में यूएपीए के आरोपों को लेकर जांच के लिए सहमत हुआ सुप्रीम कोर्ट

सोना तस्करी मामलों में यूएपीए के आरोपों को लेकर जांच के लिए सहमत हुआ सुप्रीम कोर्ट

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 13 Jul 2021, 06:25:01 PM
UAPA charge

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को दो उच्च न्यायालयों के परस्पर विरोधी फैसलों की पृष्ठभूमि में इस बात की जांच करने के लिए सहमत हो गया कि क्या एक सख्त आतंकवाद विरोधी कानून यूएपीए, सोने की तस्करी के मामलों में लागू होता है या नहीं।

प्रधान न्यायाधीश (सीजेआी) एन. वी. रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र और एनआईए द्वारा दायर आवेदनों के मद्देनजर इस मुद्दे की जांच करने पर सहमति व्यक्त की, जिसमें कहा गया था कि यूएपीए सोने की तस्करी के मामलों में लागू होता है।

हालांकि, शीर्ष अदालत ने यूएई से तिरुवनंतपुरम तक राजनयिक सामान के माध्यम से सोने की तस्करी से संबंधित विवादास्पद मामले में 12 आरोपियों को दी गई जमानत को रद्द करने से इनकार कर दिया। जमानत पाने वाले सभी 12 आरोपियों को नोटिस भेजा गया है।

शीर्ष अदालत के समक्ष केंद्र और एनआईए ने दो उच्च न्यायालयों - राजस्थान और केरल के फैसलों से उत्पन्न भ्रम की ओर इशारा किया - जो बिल्कुल विपरीत निष्कर्ष पर पहुंचे थे।

इस साल फरवरी में केरल उच्च न्यायालय ने 12 आरोपियों को जमानत देते हुए कहा था कि सोने की तस्करी आतंकवाद के दायरे में नहीं आती है। उच्च न्यायालय ने कहा था, हम यह मानने में असमर्थ हैं कि सोने की तस्करी यूएपीए अधिनियम की धारा 15 (1) (ए) (3ए) के अंतर्गत आती है।

अदालत ने कहा कि सीमा शुल्क अधिनियम के प्रावधानों द्वारा स्पष्ट रूप से कवर किए गए सोने की तस्करी, यूएपीए अधिनियम की धारा 15 में आतंकवादी अधिनियम की परिभाषा के अंतर्गत नहीं आती है, जब तक कि यह दिखाने के लिए सबूत नहीं लाया जाता है कि यह किसी ऐसे इरादे से किया गया है, जिसमें भारत की आर्थिक सुरक्षा या मौद्रिक स्थिरता को खतरा होने की संभावना है।

इसके विपरीत, राजस्थान उच्च न्यायालय ने फरवरी में फैसला सुनाया था कि सीमा शुल्क अधिनियम के तहत मुकदमा चलाने वाले सोने के तस्कर पर भी यूएपीए के तहत मुकदमा चलाया जा सकता है। उच्च न्यायालय ने यूएपीए के तहत एनआईए द्वारा दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने से इनकार कर दिया था।

इस मामले में याचिकाकर्ता मोहम्मद असलम को जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर 1.5 किलोग्राम से अधिक सोने की तस्करी के आरोप में पकड़ा गया था। उच्च न्यायालय ने असलम की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें कहा गया था कि यूएपीए के तहत मामला दर्ज करना दोहरा खतरा होगा, क्योंकि वह पहले से ही सीमा शुल्क अधिनियम के तहत अभियोजन का सामना कर रहा है।

उच्च न्यायालय ने कहा था कि देश की आर्थिक सुरक्षा को खतरे में डालने के इरादे से सोने की तस्करी को यूएपीए के तहत आतंकवादी कृत्य कहा जा सकता है। असलम ने जांच और एफआईआर से जुड़ी कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग करते हुए शीर्ष अदालत का रुख किया था, जिसे एनआईए ने यूएपीए के प्रावधानों के तहत दर्ज किया था। मार्च में, न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन ने उसकी याचिका पर नोटिस जारी किया।

बता दें कि शीर्ष अदालत ने केरल उच्च न्यायालय द्वारा 12 आरोपियों को दी गई जमानत को रद्द करने के लिए एनआईए की जिस याचिका पर विचार करने से इनकार किया है, वह फैसला पिछले साल पांच जुलाई को सीमा शुल्क विभाग द्वारा तिरुवनंतपुरम हवाई अड्डे पर 14 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य का सोना जब्त करने के मामले में सामने आया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 13 Jul 2021, 06:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.