News Nation Logo

BREAKING

Banner

इनलोगों को दी जाएगी पहले कोरोना वैक्सीन, दिल्ली-मुंबई में 3.25 लाख लोगों की लिस्ट तैयार

कोरोना वैक्सीन की चर्चा अब देश में तेज हो गई है. वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि अगले एक-दो महीनों में टीका उपलब्ध हो जाएगा. अब इस बात की चर्चा तेज हो गई है कि किसे पहले टीका दिया जाएगा.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 11 Dec 2020, 02:08:43 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोरोना वैक्सीन की चर्चा अब देश में तेज हो गई है. वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि अगले एक-दो महीनों में टीका उपलब्ध हो जाएगा. अब इस बात की चर्चा तेज हो गई है कि किसे पहले टीका दिया जाएगा. इसको लेकर पीएम मोदी ने चार कैटिगरी बनाई है. वैक्सीन के जल्द ही मिलने की खबर के बाद दिल्ली और मुंबई में इसको लेकर तैयारी भी शुरू हो गई है. एक वेबसाइट ने दावा किया है कि दिल्ली सरकार ने दो लाख और महाराष्ट्र सरकार ने 1.25 लाख सरकारी और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मचारियों की सूची तैयार की है. 

केंद्र सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि सबसे पहले टीक स्वास्थ्यकर्मियों को दिया जाएगा. जिसको लेकर दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार ने सूची तैयार की है. लिस्ट में मेडिकल, पैरामेडिकल, सुरक्षा और एलोपैथिक, स्वच्छता, दंत चिकित्सा और आयुष सुविधाओं के मंत्रालय के प्रशासनिक कर्मचारी शामिल हैं. इसके साथ डायग्नोस्टिक ​​लैब्स रेडियोलॉजी केंद्रों और फिजियोथेरेपी क्लीनिकों के कर्मचारियों को भी इस सूची में शामिल किया गया है. दिल्ली सरकार के सबसे बड़े अस्पताल एलएनजेपी से लगभग 4 हजार नाम भेजे गए हैं. डॉक्टरों से लेकर सुरक्षा गार्ड तक का नाम शामिल है.

ब्रिटेन के बाद अब कनाडा ने भी फाइजर की कोरोना वायरस वैक्सीन को दे दी है. अमेरिकी दवा निर्माता फाइजर और जर्मनी की बायोएनटेक द्वारा विकसित की गई यह वैक्सीन कनाडा में अभी सिर्फ 16 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को ही दी जाएगी. इस वैक्सीन की खुराक कनाडाई लोगों को अगले सप्ताह मिलने की संभावना है. द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के हेल्थ रेगुलेटर ने कहा कि इसने वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावशीलता पर डेटा की पूर्ण स्वतंत्र समीक्षा की है.

सरकारी विभाग ने एक बयान में कहा, कनाडाई आश्वस्त महसूस कर सकते हैं कि जो हमारे पास मजबूत निगरानी व्यवस्था है. उसके जरिए कड़ी समीक्षा प्रक्रिया की गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ब्रिटेन ने पहले टीके को मंजूरी दी थी, लेकिन ऐसा आपातकालीन आधार पर किया और काफी हद तक फाइजर के विश्लेषण पर निर्भर था. प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा है कि फाइजर वैक्सीन की पहली खुराक अगले सप्ताह 14 कनाडाई वितरण केंद्रों पर पहुंचेगी। अधिकारियों ने उस समय कहा था कि जैसे ही विनियामक अनुमोदन प्रदान किया जाता है वैसे ही टीकाकरण शुरू हो जाएगा.

First Published : 11 Dec 2020, 02:06:58 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.