News Nation Logo

सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों के खिलाफ पूर्ण जांच के दिए निर्देश

सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों के खिलाफ पूर्ण जांच के दिए निर्देश

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 06 Oct 2021, 08:25:01 PM
The Supreme

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यूनिटेक के पूर्व प्रवर्तकों संजय चंद्रा और अजय चंद्रा के साथ मिलीभगत के आरोपों के बीच तिहाड़ जेल के अधिकारियों के खिलाफ पूर्ण जांच के निर्देश दिए।

सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों चंद्रा बधुओं के वकील की दलीलों को खारिज करते हुए नाराजगी व्यक्त की और ईडी, एसएफआईओ और दिल्ली पुलिस को पूर्ण तरीके से कार्रवाई करने की अनुमति दी। शीर्ष अदालत ने यूनिटेक के घर खरीदारों को ठगने के मामले में चंद्रा के परिवार के सदस्यों के खिलाफ जांच के निर्देश दिए।

न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ और एम. आर. शाह चंद्रा बंधुओं का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह द्वारा दी गई दलीलों से प्रभावित नहीं हुए और अदालत ने उन्हें कोई भी राहत नहीं दी।

सिंह ने प्रस्तुत किया, मैं नहीं चाहता कि आपके आधिपत्य (लॉर्डशिप) को बाद में पछताना पड़े कि आपने समय पर कार्रवाई नहीं की। मुझे यकीन है कि अदालत के पास चंद्रा बंधुओं के खिलाफ कुछ भी व्यक्तिगत नहीं है।

उन्होंने अदालत से उन्हें फोरेंसिक ऑडिटर ग्रांट थॉर्नटन रिपोर्ट तक पहुंच प्रदान करने का आग्रह किया और अदालत से एकतरफा तरीके से आगे नहीं बढ़ने का अनुरोध किया।

सिंह ने कहा कि उनके मुवक्किलों को यह दिखाने का मौका दिया जाना चाहिए कि धन का कोई डायवर्जन नहीं है और यदि ट्रायल में यह पाया जाता है कि धन का कोई डायवर्जन नहीं किया गया है, तो क्या समय को पीछे की ओर मोड़ा जा सकता है?

सिंह ने चंद्रा बंधुओं का प्रतिनिधित्व करते हुए आगे कहा, यह अदालत कितनी कंपनियां चलाएगी? आम्रपाली आप चला रहे हैं, यूनिटेक आप चला रहे हैं, सुपरटेक आप चला रहे हैं। आपने मेरे (चंद्रा बंधु) पिता, मेरी पत्नी और मेरे बच्चों को भी गिरफ्तार कर लिया है .. हम सभी को सलाखों के पीछे डाल दिया। कम से कम मुझे ग्रांट थॉर्नटन रिपोर्ट का बचाव करने दें।

इस मौके पर, चंद्रचूड़ ने सिंह को अदालत के खिलाफ इस तरह के आरोप न लगाने की चेतावनी देते हुए कहा, इस अदालत के खिलाफ आरोप लगाने से पहले यह देखिए कि यह भाषा क्या है? मेरी बात सुनो, क्या यह कोर्ट को संबोधित करने का तरीका है?

न्यायमूर्ति शाह ने जवाब दिया कि उनकी गिरफ्तारी के कारणों का खुलासा नहीं करने के कारण थे, उन्होंने कहा, ऐसी बातें मत कहो और इस अदालत के खिलाफ आरोप मत लगाओ। हमने श्री विकास सिंह से पूरी गंभीरता के साथ इसकी उम्मीद नहीं की थी।

चंद्रचूड़ ने सिंह से कहा, हम देख सकते हैं कि मुवक्किल ने आपको अच्छी तरह से जानकारी नहीं दी है। इस पर सिंह ने कहा, मैंने काफी ब्रीफिंग की है।

एक हंगामेदार सुनवाई के अंत में, शीर्ष अदालत ने ईडी, एसएफआईओ और दिल्ली पुलिस को पूर्व यूनिटेक मालिकों संजय चंद्रा और अजय चंद्रा, संजय की पत्नी प्रीति चंद्रा और पिता रमेश चंद्रा के खिलाफ पूर्ण जांच के लिए आगे बढ़ने के लिए एक ²ढ़ मंजूरी दे दी। यूनिटेक समूह के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में यह जांच के आदेश दिए गए।

शीर्ष अदालत ने फोरेंसिक ऑडिटर रिपोर्ट को यह कहते हुए पारित करने से भी इनकार कर दिया कि इस स्तर पर आरोपी को अंतर्निहित सामग्री, जो जांच का विषय बनती है, प्रदान करना कानून के अनुसार नहीं होगा।

पीठ ने तिहाड़ जेल के कुछ अधिकारियों के खिलाफ तत्काल निलंबन और पूर्ण जांच का भी आदेश दिया, जिनकी पहचान दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने अपनी रिपोर्ट में चंद्र बंधुओं को जेल के अंदर अनुचित सुविधाएं प्रदान करने के लिए की थी।

दिल्ली पुलिस ने कहा कि वे चंद्रा और तिहाड़ जेल के अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और आपराधिक साजिश के तहत एक नया मामला भी दर्ज करेंगे।

शीर्ष अदालत ने गृह मंत्रालय से इस संबंध में रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है।

इससे पहले, संजय और अजय चंद्रा को तिहाड़ जेल से मुंबई की आर्थर रोड जेल और ताजोला जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था। यह फैसला ईडी की उस रिपोर्ट के बाद लिया गया था, जिसमें कहा गया था कि चंद्रा बंधुओं की तिहाड़ जेल अधिकारियों के साथ मिलीभगत थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 06 Oct 2021, 08:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो