News Nation Logo

BREAKING

पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में तेज बहादुर यादव गिरफ्तार, पीएम मोदी के खिलाफ ठोकी थी ताल

उत्तर प्रदेश के झांसी से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ ताल ठोकने वाले तेज बहादुर यादव को गिरफ्तार किया गया है.

By : Deepak Pandey | Updated on: 09 Oct 2019, 07:31:35 PM
तेज बहादुर यादव

तेज बहादुर यादव (Photo Credit: (फाइल फोटो))

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के झांसी से पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के खिलाफ ताल ठोकने वाले तेज बहादुर यादव (Tej Bahadur Yadav) को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले (Pushpendra Yadav encounter case) में तेज बहादुर को पकड़ा है. हरियाणा विधानसभा चुनाव में करनाल से मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ जेपीपी के टिकट पर तेज बहादुर यादव चुनाव लड़ रहा है. 

यह भी पढ़ेंःPoK से आए 5300 कश्मीरी परिवारों को मोदी सरकार ने दिया दिवाली गिफ्ट, मिलेंगे इतने लाख रुपये

झांसी में बुधवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) के खिलाफ चुनाव लड़ रहे तेज बहादुर यादव को गिरफ्तार किया गया है. वे उन 39 लोगों में शामिल हैं जो झांसी में पुष्प्रेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में धरने पर बैठे थे. बता दें कि तेज बहादुर मंगलवार को पुष्पेंद्र यादव के घर पहुंचकर उनके परिवार वालों से मुलाकात की थी और उन्हें हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया था, जबकि बुधवार को तेज बहादुर को गिरफ्तार कर लिया गया.

गौरतलब है कि शनिवार रात दुस्साहसिक तरीके से मोंठ थाने के इंस्पेक्टर पर हमला करने के बाद कार लूटकर भागने वाले पुष्पेंद्र यादव को गुरसराय थाना क्षेत्र में रविवार को पुलिस मुठभेड़ में ढेर कर दिया था. लोकसभा चुनाव में तेजबहादुर यादव ने वाराणसी से सपा की टिकट पर पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ नामांकन किया था, लेकिन चुनाव आयोग ने उसे अयोग्य साबित कर दिया था. इस बार उन्होंने हरियाणा विधानसभा चुनाव में सीएम मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है.

यह भी पढ़ेंः जानें कंगाल पाकिस्तान के PM इमरान खान को क्यों मिला मुस्लिम मैन ऑफ द ईयर का अवॉर्ड

बता दें कि पूर्व बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले के गांव राता कला के निवासी हैं. वह 10वीं की परीक्षा पास करने के बाद 21 साल की उम्र में बीएसएफ में भर्ती हो गए थे. तेज बहादुर सेना में मिलने वाले खाने की आलोचना भरा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करने के बाद चर्चा में आए थे. सेना का अपमान और अंदरूनी बातों को लीक करने का दोषी सेना की कोर्ट ने मानते हुए तेज बहादुर को अप्रैल 2017 में बीएसएफ से बर्खास्त कर दिया था.

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 09 Oct 2019, 07:15:23 PM