News Nation Logo

दिल्ली में पेशेवर महिला टैक्सी ड्राइवर, ट्रेनिंग का आधा खर्च उठाएगी सरकार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Jul 2022, 09:45:01 PM
Taxi Photo

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   दिल्ली सरकार ने पेशेवर टैक्सी चालक बनने के लिए ड्राइवर प्रशिक्षण लेने की इच्छुक महिलाओं को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए एक योजना शुरू की। सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार, प्रशिक्षण का 50 प्रतिशत अर्थात प्रत्येक महिला के लिए लगभग 4800 रुपये परिवहन विभाग द्वारा वहन किया जाएगा। महिलाओं का प्रशिक्षण बुराड़ी, लोनी और सराय काले खां में सरकार द्वारा स्थापित इन-हाउस ड्राइविंग प्रशिक्षण केंद्रों में आयोजित किया जाएगा।

इस पहल के अनुसार, सरकार इन कंपनियों में ड्राइविंग रोजगार चाहने वाली महिलाओं के लिए प्रशिक्षण लागत के शेष 50 प्रतिशत को प्रायोजित करने के लिए बेड़े के मालिकों और एग्रीगेटर्स को आमंत्रित करेगी। इसका एक मकसद यह भी है की प्रशिक्षण के पूरा होने के बाद पहल के माध्यम से प्रशिक्षित महिलाओं को इन कंपनियों में गारंटीकृत नौकरी मिल सके।

इस योजना का उद्देश्य सार्वजनिक परिवहन क्षेत्र में महिलाओं के लिए रोजगार के अवसर विकसित करना है। दिल्ली सरकार ने सोमवार को पहले ही दिल्ली के सार्वजनिक परिवहन में महिलाओं की भागीदारी को बढाने के लिए कई पहलों को लागू किया है। इससे पहले फरवरी में, दिल्ली सरकार ने अपने बस संचालन के भीतर अधिक महिलाओं को ड्राइवर के रूप में भर्ती करने के लिए मानदंडों और पात्रता मानदंडों में ढील दी थी।

दिल्ली सरकार ने न्यूनतम ऊंचाई मानदंड 159 सेमी से घटाकर 153 सेमी और महिला आवेदकों के लिए बस चालकों के रूप में शामिल करने के लिए अनुभव मानदंड को एक महीने तक कम कर दिया था। इस कदम से दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) और दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टी-मोडल ट्रांजिट सिस्टम (डीआईएमटीएस) में लगभग 7300 बसों के संयुक्त बेड़े में महिला रोजगार के अवसर बढ़े हैं। सरकार के इस कदम से राज्य के सार्वजनिक परिवहन के भीतर बस चालकों के 15000 मजबूत कार्यबल के भीतर महिलाओं के लिए रोजगार के नए द्वार खोल दिए हैं।

इस साल अप्रैल में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने सोसाइटी फॉर ड्राइविंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (एसडीटीआई), बुरारी में महिलाओं को उनके भारी मोटर वाहन (एचएमवी) लाइसेंस प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित करने के लिए मिशन परिवर्तन की शुरूआत की थी। इस पहल को दिल्ली सरकार और अशोक लीलैंड लिमिटेड के बीच एक संयुक्त उद्यम के रूप में कार्यान्वित किया जा रहा है ताकि एचएमवी श्रेणी के ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए 180 महिला उम्मीदवारों को प्रशिक्षण शुरू किया जा सके।

वर्तमान में दिल्ली सार्वजनिक परिवहन बेड़े के तहत चलने वाली सभी बसें आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं। ये बसें सीसीटीवी, पैनिक बटन और बस मार्शल की उपस्थिति, बसों की लाइव ट्रैकिंग, कमांड-एंड-कंट्रोल सेंटर और ई-टिकटिंग जैसी सुविधाओं से लैस हैं। दिल्ली में सार्वजनिक बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा के लिए पिंक पास भी प्रदान किए जाते हैं।

दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा, पिछले कुछ महीनों में हमने परिवहन कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए कई पहल की हैं। उद्देश्य यह है कि महिलाएं आगे आएं और दिल्ली के सार्वजनिक परिवहन का महत्वपूर्ण हिस्सा बनें। हमने महिलाओं को डीटीसी में बस चालक के रूप में शामिल किया है। इस पहल के क्रियान्वयन के बाद, वह दिन दूर नहीं जब दिल्ली की सड़कों पर परिवहन के विभिन्न सार्वजनिक साधनों के लिए बड़ी संख्या में महिलाएं ड्राइवर के रूप में दिखाई देंगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 18 Jul 2022, 09:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.