News Nation Logo
Banner

तालिबान के अधिग्रहण पर पाकिस्तानी खुश, सरकार सतर्क

तालिबान के अधिग्रहण पर पाकिस्तानी खुश, सरकार सतर्क

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 06 Sep 2021, 11:00:01 PM
Taliban unlikely

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

इस्लामाबाद: अमेरिका समर्थित नाटो बलों की वापसी और तालिबान के हाथों में अफगानिस्तान का नियंत्रण आने के बाद विभिन्न वैश्विक शक्तियों और दिग्गजों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं देखी गई हैं, क्योंकि वे तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार की स्थापना को मान्यता देने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

यह सीमित या कोई अन्य विकल्प के साथ आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका प्रतीत होता है।

काबुल के पतन और अफगान तालिबान द्वारा अधिग्रहण पर एक तरफ अन्य देशों से बेचैनी की प्रतिक्रिया देखी गई है, जो अभी भी अशरफ गनी सरकार और अफगान बलों के चौंकाने वाले पतन को समझने की कोशिश कर रहे हैं, जिन्होंने सचमुच बहुत जल्दी तालिबान के सामने आत्मसमर्पण कर दिया और उनके हाथों में अफगानिस्तान का नियंत्रण सौंप दिया।

इसके बाद से भ्रमित और अनिश्चित चिंतन हर कहीं जारी है, मगर अफगानिस्तान में हालिया घटनाक्रम को लेकर ऐसा लगता है कि यह पाकिस्तान में एक स्वागत योग्य समाचार के रूप में आया है।

कई पाकिस्तानी काबुल के पतन का जश्न मना रहे हैं और इस पर उनका कहना है कि पाकिस्तान को अस्थिर करने के लिए कथित भारतीय प्रयासों की हार हुई है, इसलिए वह खुश हैं।

ऐसा ही आख्यान पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार के कई मंत्रियों द्वारा साझा और प्रतिध्वनित होता प्रतीत होता है, जो काबुल के पतन को भारतीय प्रभाव की हार और इसके खुफिया स्तर के निवेश से जोड़ते हैं।

उत्सव और उल्लास भावनात्मक रूप से प्रेरित लगते हैं; क्योंकि पाकिस्तान सरकार अफगानिस्तान के घटनाक्रम और बदलती स्थिति का जवाब देने और उससे संपर्क करने को लेकर सतर्क है। इसने यह सुनिश्चित करते हुए कि इस्लामाबाद अफगानिस्तान में किसी भी सरकार के साथ काम करेगा, जो उसके लोगों की इच्छा के अनुसार बनाई गई है, तालिबान का समर्थन किया है।

पाकिस्तान इसे बहुत स्पष्ट रूप से समझता है कि तालिबान के साथ उसका गठबंधन उतना मजबूत नहीं है, जितना पहले हुआ करता था, यही प्रमुख कारण है कि कोई अन्य देश पाकिस्तान के साथ अफगानिस्तान के भविष्य के बारे में चिंतित नहीं है।

पाकिस्तान अफगानिस्तान के साथ वैचारिक, भौगोलिक और जातीय समानता साझा करता है और सीधे लाभ और हानि की कतार में है, जो अफगानिस्तान से देखने को मिल सकता है।

तालिबान के अधिग्रहण के साथ पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा लाभ इस उम्मीद में घिरा होगा कि तालिबान भारत के साथ गठबंधन नहीं करेगा और पाकिस्तान में हिंसा भड़काने के लिए अपनी धरती का उपयोग करने के लिए उनका समर्थन करेगा। एक अन्य लाभ यह होगा कि सीमाओं के माध्यम से एक-दूसरे के देश में आतंकवादी समूहों की घुसपैठ पर सरकारों के क्रॉस-आरोपों को रोक दिया जाएगा, क्योंकि यह भी एक महत्वपूर्ण तथ्य है, जो इस्लामाबाद और पिछले काबुल प्रशासन के बीच लगातार देखने को मिला था।

एक और महत्वपूर्ण तथ्य चीन, पाकिस्तान, रूस, ईरान और तुर्की का नया गठबंधन को लेकर है, जो अमेरिका की वापसी के बाद अफगानिस्तान में अपने हितों को परिवर्तित कर रहा है।

पाकिस्तान इस अवसर पर नजर गड़ाए हुए है और अफगानिस्तान में एक अधिक समावेशी सरकार की स्थापना देखना चाहता है, जिसे वैश्विक निवेश और पाकिस्तान भूमि मार्गों के माध्यम से आर्थिक व्यापार में वृद्धि का मार्ग प्रशस्त करने के लिए मान्यता और वैश्विक वैधता मिलने की उम्मीद की जा रही है।

जहां पाकिस्तानी अफगानिस्तान में तालिबान के अधिग्रहण का जश्न मना रहे हैं, वहीं पाकिस्तान सरकार अफगानिस्तान के भविष्य में रणनीतिक भूमिका पर कड़ी नजर रखते हुए छोटे और सतर्क कदम उठा रही है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 06 Sep 2021, 11:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो