News Nation Logo
Banner

निर्मला सीतारमण ने खोला राज, क्यों लाई थीं लाल रंग के कपड़े में बजट पत्र

वित्त मंत्री का कार्यभार संभालने के बाद पहली बार चेन्नई आयीं सीतारमण ने शहर में नागरतार चैंबर ऑफ कॉमर्स के सदस्यों को संबोधित किया.

BHASHA | Updated on: 21 Jul 2019, 05:59:16 AM
निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

highlights

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया क्यों लाई थीं लाल कपड़े में बजट पत्र
  • हमारी सरकार सूटकेसों के आदान-प्रदान में शामिल नहीं
  • इन्हीं कारणों से वह सूटकेस लेकर नहीं गयीं

नई दिल्ली:

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि वह इस बार बजट प्रस्तुत करने के दिन चमड़े के सूटकेस की जगह लाल रंग के कपड़े का बस्ता यह संदेश देने के लिए लेकर गयी थीं कि नरेंद्र मोदी सरकार में 'सूटकेसों के आदान-प्रदान' की संस्कृति नहीं चलती है.

वित्त मंत्री का कार्यभार संभालने के बाद पहली बार चेन्नई आयीं सीतारमण ने शहर में नागरतार चैंबर ऑफ कॉमर्स के सदस्यों को संबोधित किया. यह उद्योग मंडल एक अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक सम्मेलन कर रहा है. वित्त मंत्री ने नागरतार समुदाय की व्यापार पद्धतियों को लेकर सराहना की. उन्होंने कहा कि बजट के दिन उनका चमड़े का सूटकेस लेकर नहीं जाना खबर बन गया.

और भी पढ़ें:नाले की सफाई को लेकर हुआ विवाद, 55 वर्षीय वृद्ध को ईट से कुचलकर उतारा मौत के घाट

गौरतलब है कि पांच जुलाई को चालू वित्त वर्ष का बजट पेश करने से पहले सीतारमण चमड़े की सूटकेस की जगह लाल रंग का बस्ता लिए नजर आईं. उनकी यह तस्वीर विभिन्न सोशल मीडिया मंचों पर छा गयी.

उन्होंने कहा, 'चमड़े का बैग लेकर नहीं जाना खबर बन गया. उसमें कुछ भी नहीं है...यह एक संकेत है. यह एक छोटा सा संदेश है. जब भी मैं सूटकेस के बारे में सोचती हूं तो मेरे दिमाग में कुछ और चीजें आती हैं. हमारी सरकार सूटकेसों के आदान-प्रदान में शामिल नहीं है.'

उन्होंने कहा, 'इन्हीं कारणों से वह सूटकेस लेकर नहीं गयीं. इस सरकार में सूटकेस लेकर चलने की कोई जरूरत नहीं. पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए इस सरकार ने निविदा प्रणाली का विस्तार किया है.'

इसे भी पढ़ें:राहुल गांधी ने कहा- लोकतंत्र को दबाने की कोशिश कर रही बीजेपी

सीतारमण ने कहा, 'मैंने (बजट पत्रों के) उस बस्ते को फाइल की तरह लेकर गयी थी. यह भी विवाद का विषय बन गया कि मैंने इसलिए सूटकेस नहीं लिया क्योंकि वह चमड़े का बना होता है. ...नहीं श्रीमान,.. मैंने इतना नहीं सोचा था.'

First Published : 20 Jul 2019, 09:14:44 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×