News Nation Logo
Banner

तबरेज अंसारी के विसरा का नमूना रांची में फॉरेंसिक लैब भेजा गया

अंसारी को लेकर वायरल एक वीडियो में यह साफ नजर आ रहा है कि उसे ‘जय श्रीराम’ और ‘जय हनुमान’ का नारा लगाने के लिये मजबूर किया गया.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 28 Jun 2019, 09:33:06 PM
तबरेज (फाइल फोटो)

highlights

  • मॉब लिंचिंग की वजह से गई थी तबरेज की जान
  • पेड़ से बांधकर की गई थी पिटाई
  • पिटाई के एक दिन बाद हुई थी मौत

नई दिल्ली:

झारखंड में भीड़ की हिंसा का शिकार हुए तबरेज अंसारी के विसरा का नमूना जांच के लिये रांची में फॉरेंसिक लैब भेजा गया है ताकि उसके मरने के वास्तविक कारण का पता लग सके क्योंकि उसके पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ऐसे कोई संकेत नहीं मिले हैं. शुक्रवार को एक वरिष्ठ डॉक्टर ने यह जानकारी दी. राज्य के सरायकेला-खरसावां जिले के सिविल सर्जन ए एन डे ने बताया कि अंसारी की मौत के वास्तविक कारण की पुष्टि सिर्फ फॉरेंसिक लैब रिपोर्ट आने के बाद ही की जा सकती है, जो करीब एक पखवाड़े में मिलने वाली है. उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा गठित तीन सदस्यीय मेडिकल बोर्ड ने मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में बंद कमरे में पोस्टमॉर्टम किया था.

चोरी के संदेह में 17 जून को झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले के धतकीडीह गांव में भीड़ ने अंसारी (24) को एक खंभे से बांधकर कथित तौर पर लाठी-डंडों से उसकी पिटाई की थी. अंसारी को लेकर वायरल एक वीडियो में यह साफ नजर आ रहा है कि उसे ‘जय श्रीराम’ और ‘जय हनुमान’ का नारा लगाने के लिये मजबूर किया गया. इस संबंध में अब तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गत 21 जून को अंसारी ने बेचैनी की शिकायत की थी जिसके बाद उसे सरायकेला जिला अस्पताल ले जाया गया. 22 जून को उसे जमशेदपुर के टाटा अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. डे ने आशंका जतायी कि हो सकता है अंसारी की मौत अचानक हुई हो. उन्होंने बताया कि जेल में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में यह नजर आ रहा है कि पिटाई की घटना के अगली सुबह शौचालय से लौटने पर उसने एक कैदी से पानी मांगकर पिया था.

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफे की लहर, अब तक 145 नेताओं ने छोड़े पद

उन्होंने बताया कि अंसारी के बायें पैर और हाथ पर बाहरी चोट के निशान थे और उसकी खोंपड़ी पर जख्म का निशान था. उन्होंने बताया कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कोई अंदरूनी चोट का पता नहीं चला. उन्होंने बताया कि उस पर हमले की घटना और मौत होने के बीच चार दिन के दरम्यान पीड़ित में न तो ब्रेन हैमरेज का लक्षण दिखा और न ही उसने सिर दर्द की शिकायत की. 

यह भी पढ़ें- मोदी सरकार ने छोटी योजनाओं के लिए ब्याज दर 0.10% घटाया, PPF समेत इन स्कीमो पर लागू

First Published : 28 Jun 2019, 09:33:06 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.