News Nation Logo

BREAKING

Banner

आखिरी वक्त में हरीश साल्वे को फीस देने के लिए बुलाया था सुषमा स्‍वराज ने

बतौर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ऐसे कई तमाम काम किए है जिसकी वाहवाही दुश्मन देश पाकिस्तान भी करता है. उन्होंने अपने काम के साथ हमेशा ईमानदारी बरती है, जो वो मंत्री पद पर नहीं रहने के बाद भी निभाती रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 07 Aug 2019, 07:38:31 AM
आखिरी वक्त में भी अपनी जिम्मेदारी निभाती रही सुषमा स्वराज (फाइल फोटो)

आखिरी वक्त में भी अपनी जिम्मेदारी निभाती रही सुषमा स्वराज (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मंगलवार की रात को देश ने राजनीतिक का अपना एक अनमोल हीरा खो दिया है. दिल का दौरा पड़ने से पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की दिग्गज नेता सुषमा स्वराज का निधन हो गया. बताया जा रहा है कि उन्हें दिल का दौड़ा पड़ने के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था. लेकिन अस्पताल लाने के कुछ ही देर बाद उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया. दिवंगत नेता सुषमा को विपक्ष भी एक दमदार नेता के तौर पर देखता था इसलिए उनकी मौत की खबर सुनने के बाद हर कोई सदमे में है. पूर्व विदेश मंत्री के निधन की खबर के बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ पड़ रही है.

ये भी पढ़ें: पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज ने मौत से चंद मिनटों पहले आर्टिकल 370 पर पीएम मोदी दिया यह संदेश

बतौर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ऐसे कई तमाम काम किए है जिसकी वाहवाही दुश्मन देश पाकिस्तान भी करता है. उन्होंने अपने काम के साथ हमेशा ईमानदारी बरती है, जो वो मंत्री पद पर नहीं रहने के बाद भी निभाती रही है. अपने जीवन के आखिरी वक्त में भी वो अपनी जिम्मेदारियों से पीछे नहीं हटी. निधन से एक घंटे पहले उन्होंने पाक की जेल में बंद कुलभूषण जाधव मामले में भारतीय वकील हरीश साल्वे को उनकी 1 रुपये की फीस देने के लिए बुलाया था. बता दें कि साल्वे ने हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में जाधव मामले की सुनवाई के दौरान भारत का प्रतिनिधित्व 1 रुपये की फीस पर किया था.

हरीश साल्वे ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए बताया कि उन्होंने निधन से करीब एक घंटे पहले सुषमा स्वराज सी बात की थी. उन्होंने आगे बताया, 'मैंने रात करीब 8:50 बजे उनसे बात की, जो कि एक बहुत ही भावनात्मक बातचीत थी.' साल्वे ने ये भी कहा, 'सुषमा स्वराज ने मुझसे कहा कि आओ और मुझसे मिलो. साथ ही जो केस आपने जीता है उसके लिए मुझे आपको आपकी फीस एक रुपये भी देनी है. इसके बाद मैनें कहा बिल्कुल वो कीमती फीस मुझे लेने आना है.' इस बातचीत के बाद सुषमा ने कहा कि कल 6 बजे आना अपनी फीस लेने.

और पढ़ें: 13 दिन में वाजपेयी की सरकार गिरने पर सुषमा स्‍वराज ने क्‍या भाषण दिया थाराजनीतिक सफर

बता दें कि भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने 'जासूसी और आतंकवाद' के आरोपों में अप्रैल 2017 में मौत की सजा सुनाई थी जिसके बाद उनकी मौत की सजा पर रोक लगाने के लिए भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था.

इसके बाद आईसीजे ने पाकिस्तान को जाधव की फांसी की सजा पर रोक बरकरार रखने और उन्हें राजनयिक पहुंच देने का निर्देश दिया था. भारत ने पाकिस्तान से आईसीजे के आदेश पर तत्काल कार्रवाई करने और जाधव को कॉन्सुलर एक्सेस देने के लिए कहा था.

इसके बाद अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के आदेश के अनुसार पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को 'पाकिस्तानी कानून के अंतर्गत' राजनयिक पहुंच देने के लिए राजी हो गया. इस जीत पर सुषमा स्वराज ने खुशी जाहिर की थी.

ये भी पढ़ें: एक TWEET पर लोगों की मदद करती थीं सुषमा स्वराज, पाकिस्तान भी है मुरीद

दिवंगत नेता सुषमा ने ट्वीट किया था, 'जाधव मामले में मैं जी जान से अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के फैसले का स्वागत करती हूं. यह भारत के लिए एक महान जीत है.' उन्होंने मामले को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में ले जाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी शुक्रिया अदा किया और असरदार तरीके से केस लड़ने के लिए वकील हरीश साल्वे को भी धन्यवाद कहा था.

First Published : 07 Aug 2019, 07:20:38 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×