News Nation Logo
कल सुबह बिपिन रावत के घर जाएंगे उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी प्रधानमंत्री के आवास पर सीसीएस की आपात बैठक होगी हेलीकॉप्टर हादसे में एक शख्स को​ जिंदा बचाया गया: डीएम हेलीकॉप्टर हादसे पर बयान जारी करेगी वायु सेना वायुसेना ने CDS बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की वायुसेना ने सीडीएस बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की प्रधानमंत्री आवास पर सीसीएस की बैठक शुरू DNA टेस्ट से होगी शवों की पहचान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के हेलीकॉप्टर हादसे के बारे में पीएम मोदी को दी जानकारी हेलीकॉप्टर क्रैश में अब तक 13 लोगों की मौत की पुष्टि हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद CDS बिपिन रावत के घर पहुंचे एमएम नरवणेRead More » CDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर क्रैश मामले में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह कल संसद में देंगे बयान ढाई बजे हेलीकॉप्टर में लगी आग बुझाई गई

सुप्रीम कोर्ट ने नहीं दी 10 साल की रेप पीड़िता को गर्भपात कराने की इजाजत

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 10 साल की बलात्कार पीड़िता की गर्भपात कराने की याचिका को खारिज कर दिया।

News Nation Bureau | Edited By : Aditi Singh | Updated on: 28 Jul 2017, 09:41:47 PM

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 10 साल की बलात्कार पीड़िता की गर्भपात कराने की याचिका को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि अब बहुत देर हो चुकी है। गर्भपात कराने पीड़िता की जान को खतरा हो सकता है। पीड़िता 32 सप्ताह की गर्भवती है। इस मामले की सुनवाई कर रहे चीफ जस्टिस जे.एस. खेहर और न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ की खंडपीठ ने मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के आधार पर यह फैसला सुनाया।

गर्भवती बच्ची के परीक्षण के लिए चंडीगढ़ के पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर) में मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया था। इसके मुताबिक, गर्भपात से पीड़िता के जीवन को खतरा हो सकता है।

रिपोर्ट के आधार पर पीठ ने कहा, 'गर्भावस्था 32 सप्ताह की है। 10 वर्षीय बालिका के लिए यह बड़ा जोखिम है। यह प्रारंभिक गर्भावस्था नहीं है।' कोर्ट ने गर्भपात की अनुमति देने के संबंध में बच्ची के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए एक मेडिकल बोर्ड गठित करने का आदेश दिया था।

यह आदेश वकील आलोक श्रीवास्तव की याचिका पर आया है। उन्होंने पहले चंडीगढ़ की जिला अदालत में याचिका दायर की थी, जो 18 जुलाई को खारिज हो गई। इसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली।

इसे भी पढ़ें: IPL नीलामी पर SC ने BCCI से पूछा- ई ऑक्शन क्यों नहीं करते

याचिका खारिज करते हुए खंडपीठ ने कहा कि बच्ची को उचित देखभाल और चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जानी चाहिए। यह भी कहा गया कि बच्चे के प्रसव के संबंध में चिकित्सक सर्वश्रेष्ठ विकल्प अपनाने के लिए स्वतंत्र हैं।

याचिकाकर्ता ने 'मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट, 1971' के अधिनियम 3 में संशोधन की मांग की है, जिसके तहत 20 हफ्ते से ज्यादा समय के गर्भ को गिराया नहीं जा सकता।

सुप्रीम कोर्ट ने तीन जुलाई को कोलकाता की 26 सप्ताह की एक गर्भवती महिला को गर्भपात की अनुमति हालांकि दे दी थी। न्यायालय ने यह अनुमति शहर के प्रमुख अस्पताल एसएसकेएम की उस रिपोर्ट के आधार पर दी थी, जिसमें कहा गया है कि भ्रूण गंभीर रूप से विकृत हो चुका है।

IANS के इनपुट के साथ

इसे भी पढ़ें: गोपालकृष्ण गांधी का समर्थन करेंगे नीतीश कुमार

 

First Published : 28 Jul 2017, 08:23:59 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो