News Nation Logo
Banner

जींद में राकेश टिकैत की हुंकार, कहा-44 लाख ट्रैक्टर के लिए सरकार रहे तैयार Live

धवार को गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैक्टर रैली हिंसा से संबंधित दलीलों पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की जाएगी. 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में आंदोलनकारी किसानों ने एक ट्रैक्टर रैली निकाली थी जिसके दौरान आंदोलनकारी हिंसात्मक हो गए थे.

Written By : रवींद्र प्रताप सिंह | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 03 Feb 2021, 06:34:58 PM
Rakesh Tikait

राकेश टिकैत (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

बुधवार को गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैक्टर रैली हिंसा से संबंधित दलीलों पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की जाएगी. आपको बता दें कि 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में आंदोलनकारी किसानों ने एक ट्रैक्टर रैली निकाली थी जिसके दौरान आंदोलनकारी हिंसात्मक हो गए थे और कई जगहों पर पुलिस की बैरिकेटिंग तोड़ दी यहां तक कई जगहों पर तलवार हाथों में लेकर दिल्ली पुलिस के जवानों को दौड़ाया. किसान यूनियन के कई दलों ने केंद्र सरकार के लाए गए तीन नए कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर अराजकता फैलाई थी. गणतंत्र दिवस के दिन हजारों प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ दिए थे. इसके अलावा इन आंदोलनकारियों ने लाल किले की प्राचीर पर चढ़कर वहां पर तिरंगे की जगह दूसरा ध्वज फहरा दिया था. 

LIVE TV NN

NS

NS

जींद पहुंचे राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार 44 लाख ट्रैक्टर के लिए तैयार रहे.

26 जनवरी हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट ने जांच में दखलंदाजी से इंकार, कहा-सरकार कर रही जांच

एमएल शर्मा की याचिका में कहा गया है कि कोर्ट मीडिया को निर्देश दे कि वो सारे किसानों को 'खालिस्तानी' कहना बन्द करे.

एम एल शर्मा की याचिका किसानों के समर्थन में है. इसमें आन्दोलन को बदनाम करने की साजिश की जांच की मांग की गई है. 

कुछ याचिकाओं में SC के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में न्यायिक आयोग के गठन और एक याचिका में NIA जांच की मांग की गई है।कहा गया है- SC जांच की निगरानी करें.

इनमे से कुछ याचिकाओं में SC के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में 26 जनवरी पर हुई हिंसा और लाल किले में राष्ट्रध्वज के अपमान  की घटनाओं की जांच की मांग की गई है.

कोर्ट ने एमएल शर्मा की अर्जी को भी खारिज कर दिया

कोर्ट अब एम एल शर्मा की याचिका पर सुनवाई कर रहा हैः सीजेआई

कोर्ट ने न्यायिक जांच की मांग वाली दूसरी याचिका पर भी सुनवाई से इंकार कियाः सीजेआई

क़ानून अपना काम करेगाः सीजेआई

जांच का नतीजा एकतरफा ही निकलेगा, ऐसा सोचना ठीक नहींः सीजेआई

कोर्ट ने याचिकाकर्ता विशाल तिवारी से कहा कि वो सरकार के सामने ज्ञापन दे सकते है.

हमारे हस्तेक्षप की ज़रूरत नहीं. हम याचिका पर सुनवाई नहीं करेंगेः सीजेआई

हमने पीएम के बयान को सुना है कि क़ानून अपना काम करेगाः सीजेआई

26 जनवरी को हुई हिंसा मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू.

दीप सिद्धू पर पांच लाख का ईनाम, दिल्ली पुलिस महासंघ ने किया घोषित

किसान आंदोलन को लेकर SC कुल चार याचिकाओं पर  सुनवाई करेगा. इन याचिकाकर्ताओं के नाम विशाल तिवारी, एमएल शर्मा, संजीव नेवार, स्वाति गोयल और शिखा दीक्षित हैं

देश के अलग अलग हिस्सों में दर्ज इन FIRs में इन लोगों पर अपने ट्वीट और सोशल मीडिया पर पोस्ट के ज़रिए लोगों की भावनाएं भड़काने का आरोप है.

शशिथरूर, राजदीप सरदेसाई , मृणाल पांडे, जफर आगा सहित कई पत्रकारों और राजनेताओं ने अपने खिलाफ दर्ज FIRs को  रद्द करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

गाजीपुर बॉर्डर पर प्रमुख चेहरा राकेश टिकैत आज हरियाणा के जींद में महापंचायत में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं.

सरवन सिंह पंडर ने वीडियो जारी कर लोगों से 6 फरवरी को देश में चक्का जाम कर सरकार को सबक सिखाने की अपील की.

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता सरवन सिंह पंडर ने वीडियो जारी कर लोगों से 6 फरवरी को देश में चक्का जाम की अपील की. 

किसान आंदोलन को 25 खाप पंचायतों का समर्थन.

दिल्ली में 26 जनवरी को हिंसा में शामिल चार अन्य व्यक्तियों की गिरफ्तारी के लिए 50,000 रुपये के इनाम की भी घोषणा की गई है.

दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी दंगा फसाद में दीप सिद्धू, जुगराज सिंह और दीप सिद्धू के दो अन्य सहयोगियों की गिरफ्तारी पर 1 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है


 

किसानो के मुद्दे पर आज भी राज्यसभा में विपक्षी दलों की तरफ से चर्चा करने की मांग को लेकर नोटिस

उपद्रवियों ने लाल किले की प्राचीर पर चढ़कर लहराया था दूसरा झंडा.

ट्रैक्टर रैली के दौरान आंदोलनकारी किसानों ने जमकर काटा था हंगामा.

गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई.

First Published : 03 Feb 2021, 08:21:17 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.