News Nation Logo
कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रॉम का खतरा बढ़ा, 30 देशों तक फैला वायरस ओमिक्रॉन पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी 66 और 46 साल के दो मरीज आइसोलेशन में रखे गए भारत में ओमीक्रॉन वायरस की पुष्टि कर्नाटक में मिले ओमीक्रॉन के 2 मरीज सीएम योगी आदित्यनाथ ने प. यूपी को गुंडे-माफियाओं से मुक्त कराकर उसका सम्मान लौटाया है: अमित शाह जहां जातिवाद, वंशवाद और परिवारवाद हावी होगा, वहां विकास के लिए जगह नहीं होगी: योगी आदित्यनाथ पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में देश में चक्रवात से संबंधित स्थिति पर हुई समीक्षा बैठक प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

मुल्लापेरियार बांध के मुद्दे पर दिसंबर में पिनराई विजयन से मुलाकात करेंगे स्टालिन

मुल्लापेरियार बांध के मुद्दे पर दिसंबर में पिनराई विजयन से मुलाकात करेंगे स्टालिन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Oct 2021, 02:05:01 PM
Stalin and

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चेन्नई: तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन मुल्लापेरियार बांध के दशकों पुराने मुद्दे को सुलझाने के लिए दिसंबर में चेन्नई में अपने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से मुलाकात करेंगे।

तमिलनाडु जल संसाधन विभाग के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि बैठक में बांध की मजबूती और उससे होने वाले नुकसान पर चर्चा होगी।

सूत्रों ने यह भी बताया कि केरल के जल संसाधन मंत्री रोशी ऑगस्टीन और द्रमुक के वरिष्ठ नेता एस. दुरईमुरुगन भी बैठक का हिस्सा होंगे।

केरल तर्क दे रहा है कि मुल्लापेरियार बांध को तोड़ा जाए और एक नया बांध बनाया जाए, लेकिन तमिलनाडु इसका विरोध कर रहा है, क्योंकि बांध का पानी तमिलनाडु के कई हिस्सों में किसानों के लिए एक जीवन रेखा है।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने मंगलवार को तिरुवनंतपुरम में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा कि मुल्लापेरियार बांध पुराना है और क्षेत्र में रहने वाले कई लोगों ने उनसे अपनी चिंता व्यक्त की है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने केरल सरकार को लोगों की चिंता से अवगत करा दिया है और इस मुद्दे को सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझाने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए।

मुल्लापेरियार पेरियार नदी के पार एक चिनाई वाला ग्रेविटी बांध है और इसका निर्माण 1887 और 1895 के बीच एक ब्रिटिश इंजीनियर जॉन पेनीक्यूइक द्वारा किया गया था। तमिलनाडु के साथ पानी साझा करने का समझौता हुआ था। भले ही बांध भौगोलिक रूप से केरल में स्थित है, लेकिन इसका रखरखाव और प्रबंधन तमिलनाडु द्वारा किया जाता है।

संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय, संयुक्त राष्ट्र की अकादमिक और अनुसंधान शाखा की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि मुल्लापेरियार बांध, (जो भूकंपीय रूप से सक्रिय क्षेत्र में स्थित है) के टूटने का खतरा है।

यूनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट फॉर वॉटर, एनवायरनमेंट एंड हेल्थ द्वारा जारी एजिंग वॉटर स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्च र: एन इमजिर्ंग ग्लोबल रिस्क की रिपोर्ट में कहा गया है कि बांधों का पुराना होना मानव सुरक्षा और पर्यावरण के लिए खतरा है। 1895 में निर्मित मुल्लापेरियार बांध एक भूस्खलन क्षेत्र में स्थित है और यदि बांध टूट जाता है, तो 35 लाख लोगों का जीवन प्रभावित होगा।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2011 में, इडुक्की जिले, (जहां मुल्लापेरियार बांध स्थित है) ने कई झटके महसूस किये गये हैं और भूकंप के बाद तीव्रता 3.5 मापा गया था, जिसके बाद बांध में जल स्तर सामान्य से अधिक बढ़ गया था।

फिल्मी सितारों, पृथ्वीराज, उन्नीमुकुंदन सहित केरल की कई हस्तियों ने मुल्लापेरियार में एक नए बांध के निर्माण का समर्थन किया है और केरल और तमिलनाडु के मुख्यमंत्रियों के बीच आगामी बैठक में इस मुद्दे को हल करने की उम्मीद है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Oct 2021, 02:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.