News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

कांग्रेस ने नेहरू की जयंती पर दी श्रद्धांजलि

कांग्रेस ने नेहरू की जयंती पर दी श्रद्धांजलि

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 14 Nov 2021, 12:45:01 PM
Sonia G

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: कांग्रेस नेताओं ने रविवार को भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को श्रद्धांजलि दी। अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी इस अवसर पर सुबह शांति वन पहुंचीं और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, हमें जो चाहिए वह शांति की पीढ़ी है - पंडित जवाहरलाल नेहरू। भारत के पहले प्रधानमंत्री को याद करते हुए, जिन्होंने सच्चाई, एकता और शांति को बहुत महत्व दिया।

कांग्रेस ने कहा, चाचा नेहरू की जयंती पर, हम भारत में प्रत्येक बच्चे के उज्‍जवल और समृद्ध भविष्य की कामना करते हैं। राष्ट्र के भविष्य के लिए हमारी प्रतिबद्धता अविश्वसनीय है।

कांग्रेस नेताओं ने इसके दिग्गज को श्रद्धांजलि दी और रविवार से पार्टी महंगाई के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन शुरू कर रही है

पीएमइंडिया डॉट गव डॉट इन के अनुसार, नेहरू 1912 में भारत लौट आए और सीधे राजनीति में आ गए। एक छात्र के रूप में भी, उनकी रुचि उन सभी राष्ट्रों के संघर्ष में थी, जो विदेशी प्रभुत्व के तहत पीड़ित थे। 1912 में, उन्होंने एक प्रतिनिधि के रूप में बांकीपुर कांग्रेस में भाग लिया, और 1919 में होम रूल लीग, इलाहाबाद के सचिव बने। 1916 में उन्होंने महात्मा गांधी के साथ अपनी पहली मुलाकात की और उनसे बेहद प्रेरित महसूस किया। उन्होंने पहली किसान मार्च का आयोजन किया। 1920 में उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में। 1920-22 के असहयोग आंदोलन के सिलसिले में उन्हें दो बार कैद किया गया था।

नेहरू सितंबर 1923 में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव बने। उन्होंने 1926 में इटली, स्विट्जरलैंड, इंग्लैंड, बेल्जियम, जर्मनी और रूस का दौरा किया। उन्होंने 1927 में मास्को में अक्टूबर समाजवादी क्रांति की दसवीं वर्षगांठ समारोह में भी भाग लिया। इससे पहले, 1926 में, मद्रास कांग्रेस में, नेहरू ने कांग्रेस को स्वतंत्रता के लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। जुलूस का नेतृत्व करते हुए साइमन कमीशन, उन पर 1928 में लखनऊ में लाठीचार्ज किया गया था। 29 अगस्त, 1928 को उन्होंने सर्वदलीय कांग्रेस में भाग लिया और भारतीय संवैधानिक सुधार पर नेहरू रिपोर्ट के हस्ताक्षरकतार्ओं में से एक थे, जिसका नाम उनके पिता श्री मोतीलाल नेहरू के नाम पर रखा गया था। उसी वर्ष, उन्होंने इंडिपेंडेंस फॉर इंडिया लीग की भी स्थापना की, जिसने भारत के साथ ब्रिटिश संबंध को पूर्ण रूप से विच्छेद करने की वकालत की, और इसके महासचिव बने।

31 अक्टूबर, 1940 को नेहरू को युद्ध में भारत की जबरन भागीदारी के विरोध में व्यक्तिगत सत्याग्रह की पेशकश के लिए गिरफ्तार किया गया था। उन्हें दिसंबर 1941 में अन्य नेताओं के साथ रिहा कर दिया गया था। 7 अगस्त, 1942 को नेहरू ने ऐतिहासिक भारत छोड़ो प्रस्ताव पेश किया।

मार्च 1946 में, नेहरू ने दक्षिण पूर्व एशिया का दौरा किया। वे 6 जुलाई, 1946 को चौथी बार कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए और फिर 1951 से 1954 तीन और कार्यकालों के लिए चुने गए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 14 Nov 2021, 12:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.