News Nation Logo
Banner
Banner

श्रीलंका की शीर्ष अदालत 21 सितंबर को कोलंबो की रणनीतिक भूमि बेचने के खिलाफ याचिका पर करेगी सुनवाई

श्रीलंका की शीर्ष अदालत 21 सितंबर को कोलंबो की रणनीतिक भूमि बेचने के खिलाफ याचिका पर करेगी सुनवाई

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Jul 2021, 06:55:01 PM
SL top

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

कोलंबो: श्रीलंका के सर्वोच्च न्यायालय ने सिंगापुर की टेमासेक होल्डिंग्स मॉडल स्पेशल परपज व्हीकल (एसपीवी) कंपनी के साथ विदेशियों को कोलंबो में रणनीतिक स्थानों में जमीन बेचने से रोकने के लिए दायर एक अधिकार याचिका की सुनवाई 21 सितंबर के लिए तय की है।

याचिका दायर करते हुए, प्रोफेशनल्स नेशनल फ्रंट श्रीलंका (पीएनएफ) के सचिव, पेशेवरों के एक समूह ने कहा कि पिछले साल मई में कैबिनेट ने कोलंबो और कुछ अन्य स्थानों में राज्य के स्वामित्व वाली संपत्तियों को सेलेंडीवा इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड को सौंपने को मंजूरी दी थी। एक नवगठित कंपनी जिसमें ट्रेजरी के पास 100 प्रतिशत शेयर हैं।

कैबिनेट ने फर्म को सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल के तहत निवेश पोर्टफोलियो स्थापित करने की अनुमति दी थी, जिसमें राजधानी में सौ एकड़ प्रमुख भूमि सहित कई संपत्तियां शामिल हैं, जिनमें से अधिकांश कोलंबो बंदरगाह के करीब हैं, जिन्हें शहरी विकास प्राधिकरण (यूडीए) द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

पीएनएफ सचिव ने शिकायत की कि सेलेंडीवा कोलंबो विकास योजना 1999 के शहर में सूचीबद्ध कुछ विरासत भवनों को बेचने की कोशिश कर रहा है और चेतावनी दी है कि यह ना केवल देश की सांस्कृतिक विरासत को नुकसान पहुंचाएगा, बल्कि द्वीप राष्ट्र की संप्रभुता को भी धमकाएगा और मौलिक नागरिक अधिकारों का उल्लंघन करेगा।

इयर-चिह्न्ति निवेश संपत्तियों में ब्रिटिश औपनिवेशिक भवन, हिल्टन होटल, और वर्तमान विदेश मंत्रालय की इमारत शामिल थी जो कोलंबो पोर्ट के करीब थे, और शहर के बीचों-बीच एक वायु सेना शिविर था।

मार्क्‍सवादी विपक्षी दल, जनता विमुक्ति पेरामुना (जेवीपी) ने आरोप लगाया कि कोलंबो में प्रमुख भूमि बेचने का कदम पोर्ट सिटी बिल से जुड़ा है, जिसे चीनी स्वामित्व वाले पोर्ट सिटी को चलाने के लिए संसद में पारित किया गया था, जो कि एक आर्टिफिश्यिल द्वीप है समुद्र से निकला हुआ।

आलोचकों ने शिकायत की है कि यह कदम चीनी कंपनियों को कोलंबो पोर्ट सिटी परियोजना के आसपास की प्रमुख भूमि पर कब्जा करने की अनुमति देने के लिए था और नया एसपीवी बीजिंग को श्रीलंका की राजधानी शहर, बंदरगाहों और वित्तीय गतिविधियों के रणनीतिक नियंत्रण को जब्त करने में मदद करेगा। हालांकि, सरकारी अधिकारियों ने आरोपों से इनकार किया है, लेकिन कहा है कि वह निवेशकों के साथ भेदभाव नहीं करेगा।

कोलंबो में रणनीतिक स्थानों को अन्य देशों को बेचने के भू-राजनीतिक पर बोलते हुए आर्थिक विशेषज्ञ और विपक्षी सांसद एरन विक्रमरत्ने ने आईएएनएस से कहा कि श्रीलंका को बाहरी लोगों को भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बनने का कोई अवसर नहीं देना चाहिए।

विक्रमरत्ने ने कहा, यह महत्वपूर्ण है क्योंकि हम भौगोलिक रूप से इतने निकट से जुड़े हुए हैं।

यह हमेशा माना जाता था कि भारत हमारे दरवाजे पर है और उनकी वैध चिंताएं हैं और हमें उन्हें संबोधित करना चाहिए। दूसरी तरफ, भारत दुनिया के सबसे बड़े बढ़ते बाजारों में से एक है और श्रीलंका एक प्रवेश द्वार हो सकता है।

उन्होंने कहा, हमें अपने उत्पादों के लिए भारतीय बाजार में प्रवेश करने के अवसर पर निर्माण करना चाहिए और साथ ही हम ट्रांसशिपमेंट पॉइंट बन सकते हैं। भारत में पहले से ही 50 प्रतिशत से अधिक व्यापार कोलंबो बंदरगाह के माध्यम से होता है।

इस आवश्यकता पर बल देते हुए कि श्रीलंका को पूर्व प्रधानमंत्री सिरिमावो बंदरनाइक द्वारा शुरू की गई अपनी 1960 की गुटनिरपेक्ष नीति को वापस लेना चाहिए। विक्रमरत्ने ने कहा कि देश की बाहरी रक्षा के लिए, श्रीलंका की विदेश नीति स्पष्ट रूप से गुटनिरपेक्ष शब्द के पुराने प्रयोग और नए प्रयोग सभी के साथ मित्र में स्पष्ट रूप से होनी चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Jul 2021, 06:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.