News Nation Logo

दो कांग्रेसियों को चुकानी पड़ी थी 26/11 की राजनीतिक कीमत

दो कांग्रेसियों को चुकानी पड़ी थी 26/11 की राजनीतिक कीमत

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 25 Nov 2021, 06:50:01 PM
Shivraj Patil

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: देश 26/11 के मुंबई हमलों में शहीद हुए वीरों और नागरिकों के प्रति शोक में है और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की नई किताब 10 फ्लैशप्वाइंट्स, 20 ईयर्स पर विवाद खड़ा हो गया है। इसमें उन्होंने कोई निर्णायक कार्रवाई न करने के लिए मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र के दो कांग्रेसियों - शिवराज पाटिल और विलासराव देशमुख- ये दो नाम, जो त्रासदी के बाद चर्चित होने वाले पहले राजनीतिक प्रमुखों के रूप में सामने आए।

हल्के-फुल्के स्वभाव वाले पाटिल प्रशासनिक क्षमताओं की तुलना में अपनी गहरी संवेदनाओं के लिए अधिक जाने जाते थे। उन्हें एनएसजी के ऑपरेशन टॉरनेडो के बाद पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा भारत की वाणिज्यिक राजधानी पर तीन दिवसीय घेराबंदी को समाप्त करने के एक दिन बाद केंद्रीय गृहमंत्री के रूप में इस्तीफा देना पड़ा था।

विकीलीक्स द्वारा उजागर किए गए गुप्त अमेरिकी दूतावास के केबल में तत्कालीन अमेरिकी राजदूत डेविड मलफोर्ड ने पाटिल को शानदार रूप से अयोग्य बताया था और विदेश विभाग को सूचना दी थी कि केंद्रीय गृह मंत्री के रूप में वह पिछले चार वर्षो में घड़ी पर सोते रहे। हर बार उन्हें हटाने के लिए फोन आते थे, मगर सोनिया गांधी उनका बचाव करती रहीं।

लेकिन पाटिल को 26/11 के हमले के समय गाने से कोई रोक न सका। उनके बारे में मजाक चल रहा था कि वह टेलीविजन पर दिखने के लिए कपड़े बदलने में लगे थे, जबकि मुंबई आतंक की चपेट में था। तुरंत तत्कालीन केंद्रीय वित्तमंत्री पी. चिदंबरम को पाटिल की जगह मिली थी।

दिलचस्प बात यह है कि पाटिल, जिन्होंने लोकसभा में लातूर (महाराष्ट्र) का प्रतिनिधित्व किया और 1980 के बाद से नई दिल्ली में मंत्री पदों पर रहे, उन्होंने अपनी आत्मकथा, ओडिसी ऑफ माई लाइफ में 26/11 के हमलों को हवा दी है। हालांकि उन्होंने 1999 में इंडियन एयरलाइंस की उड़ान आईसी-814 के अपहरण के बारे में भी विस्तार से लिखा है।

साल 2010 में पाटिल को फिर से महत्व मिला। उन्हें पंजाब का राज्यपाल और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ का प्रशासक नियुक्त किया गया। इस पद को उन्होंने 2015 में अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद छोड़ दिया था। एक व्यक्ति के लिए जो लोकसभा अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री रह चुका था, उसकी यह स्पष्ट रूप से पदावनति थी। वह इसके बाद राजनीति में वापसी नहीं कर पाए।

पाटिल के बाद लातूर के एक अन्य राजनेता, दिवंगत विलासराव देशमुख, जो 1 नवंबर, 2004 में दूसरी बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने थे। उनका पहला कार्यकाल पार्टी में गुटबाजी के कारण घट गया था और उन्होंने जनवरी, 2003 में सुशील कुमार शिंदे के लिए रास्ता बनाया था।

देशमुख ने 6 दिसंबर, 2008 को राज्य के तत्कालीन गृहमंत्री आर.आर. पाटिल के साथ अपना पद खो दिया। उनके बाद एक अन्य कांग्रेसी अशोक चव्हाण आए, जो इस समय महा अघाड़ी सरकार में महाराष्ट्र के पीडब्ल्यूडी मंत्री हैं।

तत्कालीन मुख्यमंत्री पर निशाना साधा गया था, लेकिन आतंकवादी हमलों के तुरंत बाद उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। उन्हीं दिनों मुंबई में तबाह हुए ताजमहल पैलेस होटल के आसपास प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक राम गोपाल वर्मा को आयोजित दौरा का मौका दिया गया। देशमुख के वास्तुकार पुत्र रितेश बॉलीवुड के एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं, जिन्हें हास्य भूमिकाएं निभाने के लिए जाना जाता है।

वर्मा ने द अटैक्स ऑफ 26/11 (2013) नामक एक फिल्म बनाई, जिसमें नाना पाटेकर ने अभिनय किया। उन्होंने मुंबई के पूर्व शीर्ष पुलिस वाले राकेश मारिया की भूमिका निभाई, जिन्हें इस घटना की जांच करने और पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल कसाब से पूछताछ करने का प्रभार दिया गया था।

कांग्रेस ने देशमुख को राज्यसभा का टिकट दिया और वह मई 2009 में मनमोहन सिंह की दूसरी यूपीए सरकार में मंत्री के रूप में नई दिल्ली चले गए। 2012 में चेन्नई में हार्नेस में उनकी मृत्यु हो गई।

26/11 के 13 साल बाद इसके नतीजे अभी भी कांग्रेस के भीतर महसूस किए जा रहे हैं, क्योंकि भाजपा ने अपनी नई किताब में मनीष तिवारी की सनसनीखेज टिप्पणियों के बाद एक नया मुद्दा खोजा है, जिसे आधिकारिक तौर पर 2 दिसंबर को जारी किया जाना है।

तिवारी ने अपनी किताब में लिखा है, ऐसे राज्य के लिए जहां सैकड़ों निर्दोष लोगों की बेरहमी से हत्या करने में कोई बाध्यता नहीं है, संयम ताकत की निशानी नहीं है, इसे कमजोरी का प्रतीक माना जाता है।

एक समय आता है, जब क्रियामूलक शब्दों से अधिक जोर से बोलना चाहिए। 26/11 एक ऐसा समय था, जब ऐसा ही किया जाना चाहिए था। इसलिए, मेरा विचार है कि भारत को 9/11 के बाद के दिनों में गतिज प्रतिक्रिया देनी चाहिए थी।

ये शब्द कुछ समय के लिए कांग्रेस को परेशान करेंगे, लेकिन 26 नवंबर, 2008 को पाकिस्तान के आतंकवादियों द्वारा मारे गए 160 से अधिक लोगों के परिवारों और दोस्तों को ये शब्द बहुत कम सांत्वना दे पाएंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 25 Nov 2021, 06:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.