News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

शिवपाल ने अखिलेश को गठबंधन या विलय पर निर्णय के लिए दिया एक हफ्ते का समय

शिवपाल ने अखिलेश को गठबंधन या विलय पर निर्णय के लिए दिया एक हफ्ते का समय

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Nov 2021, 02:00:01 PM
Shivpal meet

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लखनऊ: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (पीएसपीएल) के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने अपने अलग हुए भतीजे और समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख अखिलेश यादव को गठबंधन या विलय पर निर्णय लेने के लिए एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है।

शिवपाल ने संवाददाताओं से कहा, हम सपा में विलय के लिए तैयार हैं। अगर एक सप्ताह के भीतर ऐसा नहीं होता है तो हम लखनऊ में एक सम्मेलन करेंगे और अपने लोगों से सलाह-मशविरा करके फैसला लेंगे।

शिवपाल ने सोमवार रात लखनऊ में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से भी मुलाकात की और कहा जाता है कि उन्होंने उनसे इस मुद्दे पर चर्चा की।

उन्होंने कहा, हमारी प्राथमिकता सपा के साथ गठबंधन करना है। नेताजी (मुलायम) के जन्मदिन पर, पूरे राज्य के लोग गठबंधन की उम्मीद कर रहे थे, जो कुछ भी होता है, वह जल्दी होना चाहिए।

उन्होंने कहा, नेताजी ने न केवल हमें सिखाया है, बल्कि हमें कुश्ती के दांव और राजनीति के गुर भी सिखाए हैं। एकता में ताकत है। परिवार में विभाजन होता है तो कई नुकसान झेलने को मिल सकते हैं। हमें अपने समर्थकों से 100 सीटें चाहिए, लेकिन अब हम पीछे हट गए हैं, हम झुक गए हैं। आज यह कहते हुए दो साल हो गए, लेकिन अभी तक कुछ भी तय नहीं हुआ है।

उन्होंने आगे कहा कि गठबंधन के साथ-साथ सपा को भी उन लोगों को टिकट देना चाहिए जो जीत की स्थिति में हैं। हम विलय के लिए तैयार हैं। समय समाप्त हो रहा है और जल्द ही निर्णय लिया जाना चाहिए।

पीएसपीएल प्रमुख ने कहा कि उन्होंने हमेशा बलिदान दिया है।

उन्होंने कहा, मैं चाहता तो साल 2003 में मुख्यमंत्री बन सकता था, लेकिन मायावती के बीजेपी गठबंधन से बाहर होने के बाद मैंने नेताजी को दिल्ली से बुलाकर मुख्यमंत्री बनाया था। उस वक्त बीजेपी के 25 विधायकों समेत अजीत सिंह, कल्याण सिंह भी हमारे साथ थे।

शिवपाल ने कहा कि लोग पीएसपीएल को छोटी पार्टी कहते थे, लेकिन मथुरा से सामाजिक परिवर्तन यात्रा शुरू होने के बाद लोगों को पता चला है कि हम एक ताकत हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Nov 2021, 02:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.